सस्ती स्वास्थ्य सेवा तक पहुँच बढ़ाने का कार्य करती रहेगी भारत सरकार: नरेन्द्र मोदी


» प्रधानमंत्री का यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज पर यूएन में संबोधन -


नमस्ते!


Mr.President,


विश्व कल्याण की शुरुआत जन कल्याण से होती है और स्वास्थ्य उसकी महत्वपूर्ण इकाई हैऔर इसलिए ये विषय भारत के लिए बहुत बड़ी प्राथमिकता है। हमें इस विषय समग्र ष्टिकोण के साथ चार स्तम्भों पर काम कर रहे हैं। पहला स्तम्भ है प्रिवेंटिव हेल्थ का। हमने योग, आयुर्वेद और फिटनेस पर विशेष बल दिया है। हम सवा लाख से अधिक वेलनेस सेंटर बना रहे हैं। इससे लाइफस्टाइल डिज़ीज़ जैसे डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, डिप्रेशन आदि को नियंत्रण में मदद मिल रही है। e-cigarette का बढ़ता हुआ क्रेज बहुत ही चिंता का विषय हैभारत ने युवा पीढ़ी को इस गंभीर संकट से बचाने के लिए e-cigarette को बैन कर दिया है। हमारे क्लीन इंडियन मिशन ने लाखों जिंदगियाँ बचाने में योगदान दिया हैइम्यूनाइजेशन पर भी हमारा विशेष जोर है। नई वैक्सीनों को जोड़ने के साथ हमने दूर दराज़ के इलाकों में पहुँच को भी सुधारा है। दूसरा स्तम्भ है अफोर्डेबल हेल्थकेयर हमने विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत को लागू किया है। इसके तहत 500 मिलियन गरीबों को प्रतिवर्ष 500 हज़ार रूपए तक मुफ्त इलाज़ की सुविधा दी जा रही है। और पिछले सिर्फ़ एक वर्ष में 4.5 मिलियन लोगों ने इसका लाभ उठाया है। हमने पाँच हज़ार से अधिक विशेष फार्मेसी शुरू की हैं जहाँ 800 से अथिक अहम् दवाईयाँ किफायती कीमत पर उपलब्ध कराई जा रही हैं। हार्ट के स्टेंट की कीमत 80 प्रतिशत तक और घुटना प्रत्यारोपण की कीमत 50 से 70 परसेंट तक कम की गई है। किडनी की समस्या से पीड़ित लाखों लोग भारत में निशुल्क dialysis सुविधा का लाभ उठा रहे हैं। तीसरा स्तम्भ है सप्लाई साइड में सुधार का और इसके लिए हमने भारत में क्वालिटी मेडिकल एजुकेशन के लिए, मेडिकल इफ्रास्ट्रक्चर के लिए कई ऐतिहासिक कदम उठाए हैं। दूसरे सेक्टर के लिए हमने आमूलचूल सुधार किये हैं। और चौथा स्तम्भ है मिशन मोड इंटरवेंशन का। यदि माएं और बच्चे स्व थ हों तो पूरे समाज को स्व थ करने की नींव बन सकती है और इसलिए हमने मिशन मोड पर राष्ट्रीय पोषण अभियान जैसी पहल की हैं। सतत विकास लक्ष्यों में TB को 2030 तक समाप्त करने का लक्ष्य है। भारत में हमने इसे मिशन मोड में लक्ष्य में 2025 तक इसको पाने का इरादा रखा है और मुझे पूरा विश्वास है कि हम ये लक्ष्य भी प्राप्त करेंगें। वायु प्रदुषण, जानवरों में होने वाली और फिर उनसे मनुष्यों में फैलने वाली बीमारियों के खिलाफ भी हमने अभियान शुरू किया है। 



महानुभाव,


स्वास्थ्य का तात्पर्य मात्र रोग मुक्ति से नहीं है, स्व थ जीवन भी हर किसी का अधिकार है। इसके लिए हर संभव प्रयास करना हमारी सरकार का दायित्व है। और भारत के प्रयास भारत की सीमाओं के अन्दर तक ही सिमटे नहीं हैं। हमने कई देशों, विशेष रूप से अफ्रीका के देशों में tele-medicine के द्वारा affordable healthcare की access बढ़ाने में सहयोग किया है और आगे भी करते रहेंगें। हमारा अनुभव और हमारी क्षमताएँ सभी विकासशील देशों के लिए उपलब्ध हैं। 


महानुभाव,


सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः की भावना के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूँ, यानी सभी सुखी हों, सभी रोगमुक्त हों। 


बहुत-बहुत धन्यवाद!