विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर आज दिए जाएंगे राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2017-18

» यूएनडब्ल्यूटीओ ने विश्व पर्यटन दिवस 2019 मनाने के लिए भारत को चुना मेजबान देश।


» इस वर्ष विभिन्न श्रेणियों में कुल 76 पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे।



नई दिल्ली। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर आज विज्ञान भवन में उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू की गरिमामयी उपर थति में राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2017-18 प्रदान किए जाएंगे। इस वर्ष विभिन्न श्रेणियों में कुल 76 पुरस्कार दिए जाएंगे। इस अवसर पर पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल तथा संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) के महासचिव जोराब पोलिलीकाशविलिविल उपर थत रहेंगे। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) ने पर्यटन और रोजगारः सभी के लिए बेहतर भविष्य' विषय पर विश्व पर्यटन दिवस 2019 मनाने के लिए भारत को मेजबान देश चुना है। विश्व पर्यटन दिवस पूरे विश्व में हर वर्ष 27 सितंबर को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में पर्यटन और इसके सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक मूल्य के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करना है। इस आयोजन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र सहस्राब्दी विकास लक्ष्य (एमडीजी) में दी गई वैश्विक चुनौतियों का समाधान करना और इन लक्ष्यों की प्राप्ति में पर्यटन क्षेत्र के संभावित योगदान को बताना है। भारत सरकार का पर्यटन मंत्रालय वार्षिक रूप से भ्रमण, पर्यटन तथा आतिथ्य सत्कार वर्गों में राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार देता है। यह पुरस्कार राज्य सरकारों केन्द्रशासित प्रदेशों, वर्गीकृत होटलों, विरासत होटलों, स्वीकृत ट्रेवल एजेंटों, टूर ऑपरेटरों, पर्यटक परिवहन ऑपरेटरों, व्यक्तियों और अन्य निजी संगठनों को अपने-अपने क्षेत्रों में उत्कृष्टता के लिए दिए जाते हैं। राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार भ्रमण, पर्यटन और आतिथ्य सत्कार क्षेत्र में उपलब्धियों की मान्यता के लिए प्रतिष्ठित पुरस्कार के रूप में उभरा है। विश्व पर्यटन दिवस में कुल 22 अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद