डीपीआईआईटी ने बौद्धिक संपदा अधिकारों के लिए वेबसाइट और मोबाइल ऐप की शुरुआत की


नई दिल्ली। उद्योग और आंतरिक व्‍यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के सचिव गुरुप्रसाद महापात्र ने सोमवार को बौद्धिक संपदा अधिकारों (आईपीआर) पर वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन (अपने नवोत्‍पादों को संरक्षित, सुरक्षित रखना सीखें और बढ़ाएं) की शुरूआत की। क्‍वालकॉम और नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (एनएलयू), दिल्‍ली के सहयोग से आईपीआर संवर्धन और प्रबंधन (सीआईपीएएम सेल फॉर आईपीआर प्रमोशन एंड मैनेजमेंट)-डीपीआईआईपी के लिए प्रकोष्‍ठ द्वारा वेबसाइट और ऐप विकसित किया गया है। इस अवसर पर डीपीआईआईटी सचिव ने कहा कि विभाग द्वारा शुरू की गई यह एक महत्‍वपूर्ण परियोजना है क्‍योंकि वेबसाइट और ऐप दोनों स्‍टार्टअप समुदाय के लिए काफी उपयोगी हैं जो भारत और उसकी अर्थव्‍यवस्‍था के लिए उम्‍मीद प्रदान करते हैं। स्‍टार्टअप के लिए निवेश और जोखिम उठाना आसान है लेकिन कानूनी जानकारी का अभाव है और आज जब हम चौथी औद्योगिक क्रांति की दहलीज पर हैं, प्रौद्योगिकी और कानून के बीच तालमेल बढ़ रहा है। इसलिए यह आवश्‍यक है कि एक आईपी प्रक्रिया के साथ स्‍टार्ट-अप्‍स की मदद के लिए एक विशेष प्रकार की वेबसाइट और ऐप उपलब्‍ध हो। इस ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म (एल2प्रो इंडिया आईपी ई-लर्निंग प्‍लेफॉर्म और एल2प्रो इंडिया मोबाइल ऐप) का मॉड्यूल युवाओं, नवोत्‍पादकों, उद्यमियों और लघु तथा मध्‍यम उद्योगों (एमएसएम) की अपने स्‍वामित्‍व और संरक्षण के लिए आईपीआर को समझने में मदद करेगा, आईपी को व्‍यवसाय मॉडल से जोड़ेगा और अनुसंधान और विकास प्रयासों के लिए उपयोगिता प्रदान करेगा। एल2प्रो को जर्मनी, ब्रिटेन, इटली और फ्रांस में सफलतापूर्वक लागू किया जा चुका है और यह सम्‍बद्ध आईपी संगठनों और सार्वजनिक अनुसंधान संस्‍थानों के साथ सहयोग करके लाभ प्रदान कर रहा है। इस ऐप को भारत के लिए रूचि अनुसार तैयार किया गया है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नवोत्‍पाद जो स्‍टार्ट-अप्‍स का आधार हैं, वह संरक्षित रहें और उनका व्‍यवसायीकरण हो सके।



एल2प्रो इंडिया आईपी ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म के तीन विभिन्‍न स्‍तरों के लिए 11 मॉड्यूल होंगे- आधारभूत, मध्‍यम और अत्‍याधुनिक। प्रत्‍येक मॉडयूल में अवधारणाओं को समझने के लिए ई-टेक्‍सट, लघु एनिमेटिड वीडियो, विषय के बारे में अतिरिक्‍त संसाधनों के लिंक, मूल्‍यांन के लिए प्रश्‍नोत्‍तरी और विषय के बारे में विद्यार्थी की जानकारी और समझ की ग्रेडिंग की जानकारी होगी। विद्या‍र्थी अपने डेस्‍कटॉप, लेपटॉप, मोबाइल ब्राउजर और मोबाइल एप्लिकेशन (एंड्रायड और आईओएस पर उपलब्‍ध) के जरिए एल2प्रो आईपी ई-लर्निंग प्‍लेटफॉर्म तक पहुंच सकते हैं और उन्‍हें ई-‍लर्निंग मॉडयूलों की सफल समाप्ति पर सीआईपीएएम-डीपीआईआईटी और एनएलयू दिल्‍ली और क्‍वालकॉम द्वारा ई-प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा। वेबसाइट और मोबाइल ऐप की शुरूआत के अवसर पर क्‍वालकॉम को कार्यकारी उपाध्‍यक्ष एलेक्‍स रोज़र, एनएलयू दिल्‍ली के कुलपति प्रो. रणबीर सिंह और डीपीआईआईटी और सीआईपीएएम के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारी उपस्थित थे।     


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की