देश में इंडस्ट्री 4.0' की शुरुआत के रूप में पायलट प्रोजेक्ट, मॉडर्न कोच फैक्ट्री रायबरेली में शुरू

> रेल मंत्रालय और विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आधुनिक कोच फैक्ट्री, रायबरेली में इंडस्ट्री 4.0' पर एक अनूठी परियोजना कार्यान्वित करने के लिए आईआईटी कानपुर के साथ की साझेदारी।



कानपुर। देश में इंडस्ट्री 4.0' की शुरुआत के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट, मॉडर्न कोच फैक्ट्री (MCF), रायबरेली में कार्यान्वित करने के लिए शुरू किया गया है। रेल और विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आधुनिक कोच फैक्ट्री, रायबरेली में कार्यान्वयन के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू करके इंडस्ट्री 4.0' पर एक अनूठी परियोजना कार्यान्वित करने के लिए आईआईटी कानपुर के साथ साझेदारी की है। इस अवसर पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव आशुतोष शर्मा ने कहा कि उनके विभाग ने हाल ही में अनुसंधान के इस उभरते हुए क्षेत्र में विकास को बढ़ावा देने के लिए एक नया कार्यक्रम "इंटरडिसिप्लिनरी साइबर फिजिकल सिस्टम्स (ICPS)" लॉन्च किया है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में आने वाले वर्षों में लगभग 4000 करोड़ रुपये खर्च किए जाने की उम्मीद है। रेलवे बोर्ड (सदस्य रोलिंग स्टॉक), राजेश अग्रवाल ने कहा कि इस पहल से भारत को नौकरियों में तेजी से वृद्धि के साथ एक उन्नत औद्योगिक अर्थव्यब था बनाने की उम्मीद है।



'उद्योग 4.0' जिसे आमतौर पर चौथी औद्योगिक क्रांति के रूप में जाना जाता है, उत्पादकता बढ़ाने के लिए विनिर्माण प्रौद्योगिकियों में स्वचालन, इंटरकनेक्टिविटी और डेटा एक्सचेंज की वर्तमान प्रवृत्ति को दिया गया एक नाम है। उद्योग 4.0 एक जटिल साइबर-भौतिक प्रणाली है जो डिजिटल प्रौद्योगिकियों, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, बिग डेटा एंड एनालिटिक्स, मशीन लर्निंग और क्लाउड क प्यूटिंग के साथ उत्पादन को समन्वित करता है। प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 22 वें सितंबर 2019 को अमेरिका के हयस्टन में अपने संबोधन में वैश्विक अर्थव्यब था और भारत के लाभ में उद्योग 4.0 के महत्व पर प्रकाश डाला था। शुक्रवार को शुरू की गई परियोजना "भारतीय रेलवे के लिए प्रौद्योगिकी मिशन" (TMIR) के तत्वावधान में शुरू की जाएगी। इसे निवेश साझाकरण मॉडल पर रेल मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एक संघ द्वारा कार्यान्वित किया जाएगा। यह आधुनिकीकरण के लिए एप्लाइड रिसर्च एंड यूज के लिए चिन्हित रेलवे परियोजनाओं में काम करेगा। उद्योग 4.0 एक जटिल साइबर/भौतिक डिजिटल प्रणाली है। इसलिए, एमसीएफ में शुरू में अवधारणा और तैयार की जाने वाली वास्तुकला को धीरे-धीरे चरणबद्ध तरीके से विस्तारित किया जाएगा ताकि देश में सभी विनिर्माण क्षेत्रों में उद्योग 4.0 का गठन करने वाली सभी जटिलताओं को शामिल किया जा सके। डिजाइन से लेकर उत्पादन तक संपूर्ण मूल्य श्रृंखला में 4.0 उद्योग 4.0 का उपयोग करके डिजिटल कारखाने में पूर्ण परिवर्तन, उत्पादन प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान करके उत्पादकता को बढ़ाने में मदद करेगा। यह वास्तविक समय के आधार पर निर्णय लेने में मदद करेगा, प्रभावी निगरानी के द्वारा मानवीय त्रुटियों को कम करेगा जो यह सुनिश्चित करेगा कि संसाधनों को सर्वश्रेष्ठ उपयोग के लिए रखा जाए जो कि समग्र उपकरण प्रभावशीलता (ओईई) द्वारा मापा जाता है। उन्नत विनिर्माण के लिए इस तरह की राष्ट्रीय नीति की परिकल्पना है कि विनिर्माण क्षेत्र को जीडीपी में कम से कम 25% का योगदान करना चाहिएपूरी दुनिया में, वे देश जो अभूतपूर्व विकास हासिल करने में सक्षम हैं, विनिर्माण क्षेत्र में तेजी से प्रगति के आगमन के साथ ऐसा कर सकते हैं। रेलवे की इस पहल से रक्षा उत्पादन में वृद्धि के साथ-साथ निजी विनिर्माण क्षेत्र में भी व्यापक प्रभाव पड़ सकते हैं।



आधुनिक कोच फैक्ट्री (MCF), रायबरेली एक कोच निर्माण इकाई के रूप मेंस् थापित की गई है, जिसमें सालाना 1000 यात्री कोच बनाने की क्षमता है और इसमें आधुनिक स्वचालित मशीन और रोबोट निर्माण लाइनें हैं। पिछले एक वर्ष के दौरान, मॉडर्न कोच फैक्ट्री ने 2017-18 में 710 एलएचबी कोचों के संबंध में 2018-19 में अपने उत्पादन को 1425 एलएचबी कोचों तक बढ़ा दिया है। यह परिष्कृत मशीनों पर उद्योग 4.0 के तत्वों को अपनाने में काफी सक्षम था। दिसंबर 2018 में प्रधान मंत्री द्वारा एमसीएफ का निरीक्षण इस पहल का प्रसार करने के लिए एक प्रेरणा रहा है।अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आराम के साथ उच्च गति वाले कोचों की निरंतर मांग को देखते हुए और निरंतर बढ़ती अर्थव्यब था की मांग को पूरा करने के लिए, उन उपकरणों को नियोजित करने की आवश्यकता है जो उत्पादकता में सुधार के साथ अधिक उत्पाद लचीलेपन के साथ अगले उच्च स्तर पर पहुंचेंगे। उद्योग 4.0 साइबर / भौतिक डिजिटल प्रणाली पर आधारित होगा और इसमें मॉडर्न कोच फैक्ट्री में मॉड्यूलर और वृद्धिशील तरीके से जोड़े जाने वाले विभिन्न पैकेज, सिस्टम, एप्लीकेशन और हार्डवेयर शामिल होंगे जो कि डिजाइनिंग / प्लानिंग, नेटवर्किंग और प्रोडक्शन में शामिल होंगे। उद्योग 4.0 के दायरे में विभिन्न दुकानें, जैसे निरीक्षण, मशीनिंग, वेल्डिंग, मापन आदि जैसे क्षेत्र, आरंभिक और बिगडेटा एनालिटिक्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि के साथ भी प्रदान किए जाएंगे।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद