केंद्र ने कर्नाटक और बिहार राज्य को राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया कोष से रु 1313.75 करोड़ की अतिरिक्त वित्तीय सहायता स्वीकृत की


नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सभी बाढ़ प्रभावित राज्यों के बचाव और राहत कार्यों की समीक्षा की है। बिहार और कर्नाटक के राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) खाते में बाढ़ की स्थति और फंड की स्थिति  की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए, गृह मंत्री ने बिहार को 400 करोड़ रुपये और राष्ट्रीय आपदा रिस्पांस फंड से कर्नाटक को 1200 करोड़ रुपये की अग्रिम रिहाई की मंजूरी दी है। उन्होंने वर्ष 2019-20 के लिए बिहार को केंद्र के हिस्से के राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष की दूसरी किस्त 213.75 करोड़ रुपये की राशि की अग्रिम किस्त जारी करने की मंजूरी दे दी है।



कर्नाटक और बिहार राज्यों ने एसडीआरएफ खाते में धन की कमी से अवगत कराया है, जिसके परिणामस्वरूप प्रभावित लोगों को राहत सहायता प्रदान करने में देरी हुई और एनडीआरएफ से अग्रिम अतिरिक्त वित्तीय सहायता जारी करने का अनरोध किया गया। बिहार राज्य ने वर्ष 2019-20 के लिए एसडीआरएफ की दूसरी किस्त की हिस्सेदारी की अग्रिम रिहाई के लिए भी अनुरोध किया है। दक्षिण पश्चिम मानसून, 2019 के दौरान, 13 राज्य अभूतपूर्व बाढ़ / भूस्खलन से प्रभावित हुए हैं। केंद्रीय गृह मंत्री ने एनडीआरएफ, गृह मंत्रालय से अतिरिक्त वित्तीय सहायता लेने के लिए संबंधित राज्य सरकार से ज्ञापन प्राप्त होने से पहले 19 अगस्त, 2019 को आयोजित उच्च स्तरीय समिति (एचएलसी) की बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा लिए गए एक महत्वपूर्ण निर्णय के अनुपालन में 13 राज्यों के लिए अंतर मंत्रालयी केंद्रीय टीमों (आईएमसीटी) का गठन किया। आईएमसीटी ने अब तक 12 राज्यों का दौरा किया है और राज्यों द्वारा प्रस्तुत अंतरिम ज्ञापन के आधार पर, बिहार और कर्नाटक के संबंध में आईएमसीटी द्वारा अंतरिम रिपोर्ट प्रस्तुत की गई है। केंद्र सरकार बाढ़ / भूस्खलन के मद्देनजर प्रभावी ढंग सेर थति से निपटने के लिए राज्य सरकारों के प्रयासों के पूरक के लिए समय पर रसद और वित्तीय संसाधन जुटाकर / प्रदान करके राज्य सरकारों को पूर्ण समर्थन प्रदान कर रही है। प्रदान किए गए लॉजिस्टिक्स सपोर्ट में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, भारतीय वायु सेना और तटरक्षक हेलीकॉप्टर, सेना के कॉलम, नौसेना और तटरक्षक कर्मियों की पर्याप्त संख्या के साथ आवश्यक बचाव उपकरण शामिल हैं। भारत सरकार एसडीआरएफ और, प्रतिस्थापित प्रक्रिया के माध्यम से तत्काल प्रकृति की राहत के लिए सहायता प्रदान करके राज्य सरकार के प्रयास को पूरक बनाती है। प्रत्येक राज्य के लिए एक एसडीआरएफ का गठन किया गया हैकेंद्र सरकार सामान्य श्रेणी के राज्यों के लिए 75% और प्रत्येक वर्ष एसडीआरएफ आवंटन में उत्तरपूर्वी और पहाड़ी राज्यों के लिए 90% का योगदान देती है। राहत व्यय का पहला शुल्क एसडीआरएफ पर है और गंभीर प्रकृति की आपदाओं के मामलों में, यह एनडीआरएफ सेस् थापित प्रक्रिया के अनुसार पूरक है।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद