खाद्य पदार्थों में ट्रांस फैट का इस्तेमाल रोकना हम सबकी सामाजिक जिम्मेदारी: डॉ हर्षवर्धन

» ईट राइट इंडिया' अभियान को बढ़ावा देने के लिए डॉ हर्षवर्धन ने एफएसएसएआई का 'ट्रांस-फैट फ्री' लोगो जारी किया।


» 2022 तक खाद्य पदार्थों में से ट्रांस फैट को पूरी तरह खत्म करने का रखा है लक्ष्य।


» एक हजार शेफ ने अपने व्यंजनों में ट्रांस-फैट फ्री तेल इस्तेमाल करने की शपथ ली। 



नई दिल्ली। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने शुक्रवार को नई दिल्ली में 8वें अंतर्राष्ट्रीय शेफ सम्मेलन (आईसीसी VIII) में भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) का 'टांस-फैट फ्री लोगो जारी किया। यह ट्रांस फैट के खिलाफ अभियान का एक महत्वपूर्ण पड़ाव होने के साथ ही एफएसएआई के ईट राइट डंडिया के जनअभियान को नई गति देगा। डाक्टर हर्षवर्धन ने इस अवसर पर कहा कि ईट राइट इंडिया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 2022 तक भारत के लोगों के लिए एक ऐसे न्यू इंडिया के निर्माण के सपने को साकार करना है जिसमें सभी के लिए स्वास्थ्य, सामाजिक सुरक्षा और पोषण युक्त आहार उपलब्ध हो सके। प्रधानमंत्री ने अपने मन की बात कार्यक्रम में एपएसएसएआई के ईट राइट इंडिया अभियान का जिक्र किया था। उन्होंने आगे यह भी कहा था कि स्वस्थ होने का अर्थ केवल निरोग होना नहीं है बल्कि इसका मतलब तन और मन के साथ ही भावनाओं और आध्यात्मिकता के स्तर पर भी निरोग होना है। डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार द्वारा पोषक और स्वस्थ्य खाने की आदतों को प्राथमिकता दी गई है। यह पोषण माह का आधार है। पोषण माह सितम्बर में मनाया गया था, जिसमें पोषक आहार के बारे में जागरूकता लाने के लिए कई मंत्रालय और हितधारक एक साथ आगे आए थे।



केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ट्रांस फैट फैट का एक खराब रूप है जो सवास्थ्य के लिए हानिकारक हैभारत सरकार ने 2022 तक खाद्य पदार्थों में से ट्रांस फैट को पूरी तरह खत्म करने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए एफएसएसएआई ने 2022 तक औद्योगिक खाद्य उत्पादों में ट्रांस फैट की मात्रा चरणबद्ध तरीके से घटाते हुए 2 प्रतिशत से कम तक ले आने का लक्ष्य रखा है। डाक्टर हर्षवर्धन ने ट्रांस फैट न इस्तेमाल करने वाली बेकरियों की सराहना की और कहा कि खाद्य पदार्थों में ट्रांस फैट का इस्तेमाल रोकना हम सबकी सामाजिक जिम्मेदारी है। कार्यक्रम में केनद्रीय मंत्री ने शेफ 4 टांस फैट फ्रीसलोगन भी जारी किया जिसके तहत देश के विभिन्न हिस्सों से आए एक हजार से ज्यादा शेफों ने अपने व्यंजनों में ट्रांस फैट फ्री तेल इस्तेमाल करने की शपथ ली।



स्वास्थ्य मंत्री ने इस अवसर पर ऐसी दस बेकरियों को सम्मानित किया जो अपने उत्पादों में ट्रांस फैट रहित तेल का इस्तेमाल कर रही हैं या फिर भविष्य में ऐसा करने का वायदा किया है। एफएसएसएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी पवन अग्रवाल ने इस अवसर पर कहा कि एफएसएसएआई ने 2022 तक औद्योगिक खाद्य उत्पादों में ट्रांस फैट की मात्रा चरणबद्ध तरीके से घटाते हुए 2 प्रतिशत से कम तक ले आने का लक्ष्य रखा है। कार्यक्रम के अवसर पर एफएसएसएआई के साफ-सफाई और खाने का सही स्थान स्कीम पर भी एक सत्र आयोजित किया गया। इस स्कीम में खाने की जगहों पर साफ-सफाई की रेटिंग करने की ऑनलाइन व्यवस्था है। इसके जरिये लोगों को बाहर खाने-पीने की जगहों में साफ-सफाई की जानकारी दी जाती है। इस मौके पर खाद्य उत्पाद बनाने और बेचने वाले कारोबारी प्रतिनिधियों के अलावा वैज्ञानिक समुदाय, चिकित्सक और पोषण विशेषज्ञ भी मौजूद थे।


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की