ग्लोबल बायो इंडिया शिखर सम्मलेन के तीन दिवसीय आयोजन का हुआ समापन

> जीबीआई को एक वार्षिक कार्यक्रम में बदल दिया जाए: बायो टेक्नोलॉजी सचिव



नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन)। भारत का पहला सबसे बड़ा जैव प्रौद्योगिकी हितधारकों का समूह, - ग्लोबल बायो-इंडिया (जीबीआई) शिखर सम्मेलन, 2019 शनिवार को यहां संपन्न हुआ। तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी), विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने सार्वजनिक उपक्रम, बायोटेक्नोलॉजी इंडस्ट्री रिसर्च अस्सिस्टेंस कॉउन्सिल (बीआईआरएसी) के साथ मिलकर किया था। इस आयोजन के लिए संबद्ध भागीदार भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई), एसोसिएशन ऑफ बायोटेक्नोलॉजी लेड एंटरप्राइजेज (एबीएलई) और इन्वेस्ट इंडिया थे।



समापन समारोह में अपनी टिप्पणी में, बायो टेक्नोलॉजी की सचिव और अध्यक्ष बीआईआरएसी विभाग डॉ रेणु स्वरूप ने कहा, मेगा इवेंट की जबरदस्त सफलता से, विभाग की योजना है कि सभी हितधारकों के समर्थन से जीबीआई को एक वार्षिक कार्यक्रम में बदल दिया जाए। बायो टेक्नोलॉजी को सूर्योदय क्षेत्र के रूप में मान्यता प्राप्त है - 2025 तक भारत के 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था लक्ष्य में योगदान करने के लिए एक प्रमुख चालक भी है। शिखर सम्मेलन ने बायो -फार्मा, बायो-कृषि, बायो-औद्योगिक, बायो-ऊर्जा और बायो - सेवाएँ और संबद्ध क्षेत्र के क्षेत्रों में प्रमुख चुनौतियों पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए भारत के बायोटेक क्षेत्र की क्षमता प्रदर्शित करने, पहचान बनाने, अवसरों का सृजन करने और विचार-विमर्श का अवसर प्रदान किया। 


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की