नगर निगम के नवीन भवन में गोरखपुर की संस्कृति की झलक दिखाई दे: मुख्यमंत्री योगी

> मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में कुल 182.65 करोड़ रु0 लागत की 233 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया


> 127.18 करोड़ रु0 लागत की 180 परियोजनाओं का शिलान्यास तथा 55.47 करोड़ रु0 लागत की 53 परियोजनाओं का लोकार्पण


> मुख्यमंत्री द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 12 लाभार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किया गया


> प्रदूषण नियंत्रण के लिए प्रदेश सरकार द्वारा 700 इलेक्ट्रिक बसों का क्रय किया जा रहा है : नगर विकास मंत्री



लखनऊ (का ० उ ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीते शनिवार को जनपद गोरखपुर के नगर निगम परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में सामुदायिक सुविधा केन्द्र/ सदन भवन एवं नगर निगम के कार्यालय भवन सहित कुल 182.65 करोड़ रुपये लागत की 233 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। कार्यक्रम में 127.18 करोड़ रुपये लागत की 180 परियोजनाओं का शिलान्यास तथा 55.47 करोड़ रुपये लागत की 53 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 12 लाभार्थियों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि नगर निगम का भवन लगभग 122 वर्ष पुराना था। नगर निगम गोरखपुर के नवीन भवन के साथ ही बेहतर व्यवस्था बनाने की मांग थी। नये भवन के निर्माण के साथ ही, गोरखपुर महानगर का दायरा भी बढ़ेगा तथा नगरवासियों को बेहतर बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि नगर निगम, गोरखपुर का बहुत ही गौरवशाली इतिहास है। इसलिए नगर निगम के पुराने भवन को संग्रहालय के रूप में विकसित किया जायेगा, जिससे लोगों को नगर निगम के इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निगम के नये भवन में नगर निगम का सदन एवं कार्यालय, पार्षदों की बैठक के लिए मीटिंग हाल के साथ ही, पार्किंग की बेहतर व्यवस्था रहेगी। नगर निगम के नवीन भवन में गोरखपुर की संस्कृति की झलक दिखाई दे। इसके लिए नगर निगम तथा जिला प्रशासन योजना बनाकर गुणवत्ता के साथ कार्य को पूर्ण करायें। उन्होंने कहा कि जनता को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए नगर निगम/नगर निकायों को आत्मनिर्भर होना आवश्यक है। नगर निगम गोरखपुर के नवीन भवन में वाणिज्यिक स्थान निर्मित कर निगम को आत्मनिर्भर बनाने की व्यवस्था की जाएगी। योगी जी ने कहा कि गोरखपुर में वर्षों से बन्द खाद कारखाने को शीघ्र आरम्भ कर दिया जायेगा, इससे किसानों को सुविधा मिलेगी। खाद कारखाना चालू होने से यहां पर रोजगार भी उपलब्ध होगा। चिड़ियाघर के आरम्भ होने से गोरखपुर नये पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा। इस अवसर पर नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टण्डन ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के कुशल नेतृत्व में उत्तर प्रदेश देश के विकसित राज्यों में शामिल हो रहा है। नगर निगम के नवीन कार्यालय भवन में सुव्यवस्थित कार्यालय के साथ-साथ सभी के बैठने की व्यवस्था रहेगी। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही इलेक्ट्रिक बसों का संचालन किया जाएगा। इससे प्रदूषण में काफी कमी होगी। प्रदेश सरकार द्वारा 700 इलेक्ट्रिक बसों का क्रय किया जा रहा है। कार्यक्रम को नगर विधायक डॉ0 राधा मोहन दास अग्रवाल, विधायक ग्रामीण श्री विपिन सिंह तथा गोरखपुर के महापौर श्री सीताराम जायसवाल ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर एम0एल0सी0 देवेन्द्र प्रताप सिंह, विधायक फतेहबहादुर,  शीतल पाण्डेय सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा बड़ी संख्या में जनसमुदाय उपस्थित था।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद