रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने महाप्रबंधकों को माल लदान को बढ़ाने की पहल करने पर जोर दिया

> रेल मंत्री, पीयूष गोयल और रेलवे बोर्ड ने रेलवे के जीएम और डीआरएम के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की।


> यात्री ट्रेनों में फ़र्स्ट एड बॉक्स की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए ज़ोनल रेलवे को रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगाड़ी ने निर्देशित किया।


> एक्सप्रेस ट्रेनों के समय पाबंदी में हुआ उल्लेखनीय सुधार, पिछले साल (अप्रैल-अक्टूबर) के 67% की तुलना में 75% के स्तर तक बढ़ा।


> डीजल ईंधन की खपत को कम करने पर होना चाहिए फ़ोकस: अध्यक्ष , रेलवे बोर्ड



नई दिल्ली ( का ० उ ० सम्पादन)। रेल और वाणिज्य और उद्योग मंत्री, पीयूष गोयल, रेल राज्य मंत्री, सुरेश सी अंगाड़ी और रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष, विनोद कुमार यादव सहित रेलवे बोर्ड के अन्य सदस्य और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने 20 नवंबर बुधवार को रेल भवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से क्षेत्रीय रेलवे / उत्पादन इकाइयों और मंडल रेल प्रबंधकों के सभी महाप्रबंधकों के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की।
बैठक का एजेंडा सुरक्षा प्रदर्शन, समय की पाबंदी, माल ढुलाई लोडिंग, कमाई, व्यय, बुनियादी ढांचे के निर्माण और रोलिंग स्टॉक के उत्पादन सहित 2019 अक्टूबर तक प्रदर्शन की समीक्षा की गई। रेल और वाणिज्य और उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल ने भारतीय रेलवे में समय की पाबंदी में सुधार के लिए क्षेत्रीय रेलवे की सराहना की। संभागीय प्रमुख प्रदर्शन संकेतक (KPI) की समीक्षा करते हुए, श्री गोयल ने विभिन्न क्षेत्रों में प्रदर्शन में सुधार के लिए रेलवे डिवीजनों के प्रयासों की सराहना की। श्री गोयल ने नए ट्रैफिक को आकर्षित करके माल ढुलाई लोड बढ़ाने के लिए सामान्य प्रबंधकों को पहल करने और उद्योग के साथ बातचीत करने पर जोर दिया। श्री गोयल ने महाप्रबंधकों को नॉन फेयर रेवेन्यू (एनएफआर) और पार्सल जैसे अन्य कोचिंग प्रमुखों के माध्यम से कमाई बढ़ाने के लिए नए अभिनव विचारों का पता लगाने का भी निर्देश दिया। श्री गोयल ने महत्वपूर्ण मुद्दों पर अधिकारियों से सुझाव आमंत्रित किए ताकि रेलवे के प्रदर्शन और दक्षता में और सुधार हो सके। श्री गोयल ने आगे जोर देकर कहा कि व्यय को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। रेलवे के विभिन्न क्षेत्रों में नई तकनीकों को अपनाने की आवश्यकता है।



रेल राज्य मंत्री सुरेश सी अंगाड़ी ने इस बात पर जोर दिया कि सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए और इसका लक्ष्य भारतीय रेलवे पर on शून्य दुर्घटना 'को प्राप्त करना होना चाहिए। श्री अंगाड़ी ने समय की पाबंदी में सुधार के लिए ज़ोन और डिवीजनों की सराहना की। ट्रेनों में साफ-सफाई सुनिश्चित करने की जरूरत है। श्री अंगाड़ी ने यात्री ट्रेनों में फ़र्स्ट एड बॉक्स की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए ज़ोनल रेलवे को निर्देशित किया। श्री अंगड़ी ने आगे निर्देश दिया कि सभी ज़ोन और डिवीजनों को आय बढ़ाने और व्यय को कम करने के लिए काम करना चाहिए। रेलवे बोर्ड के वर्तमान वर्ष के दौरान विस्तार से जोनल रेलवे के प्रदर्शन की समीक्षा करते हुए, अध्यक्ष, विनोद कुमार यादव ने ट्रेन संचालन में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महाप्रबंधकों को निर्देश दिए। श्री यादव ने इस बात पर भी जोर दिया कि सभी दुर्घटनाओं का विस्तार से विश्लेषण किया जाना चाहिए और उपचारात्मक कार्रवाई तुरंत होनी चाहिए। श्री यादव ने मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों की समय की पाबंदी में उल्लेखनीय सुधार लाने के लिए अधिकारियों की सराहना की, जो पिछले साल (अप्रैल-अक्टूबर) के 67% की तुलना में 75% के स्तर तक बढ़ गया है। अवसंरचना कार्यों के तेजी से कार्यान्वयन के लिए ड्राइंग की मंजूरी सहित डिजिटल पहल को अपनाया जाना चाहिए। ज़ोनल रेलवे के जीएम को आय में सुधार और व्यय को कम करने के लिए सभी प्रयास करने चाहिए। फ़ोकस डीजल ईंधन की खपत को कम करने पर होना चाहिए। संगठनात्मक सुधार सर्वोच्च प्राथमिकता है और 'वितरण' पवित्र है। अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड ने जीएम को माल लदान को बढ़ाने की पहल करने पर जोर दिया। लक्षित समय के भीतर प्राथमिकता के आधार पर न्यू लाइन कमीशन, गेज परिवर्तन, दोहरीकरण और विद्युतीकरण परियोजनाओं को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए, ताकि बुनियादी ढांचे में वृद्धि और गतिशीलता में सुधार हो सके। श्री यादव ने भारतीय रेलवे पर बढ़ते रोलिंग स्टॉक की आवश्यकता को पूरा करने के लिए लोकोमोटिव और कोच का उत्पादन बढ़ाने के लिए उत्पादन इकाइयों से आग्रह किया।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद