बसंत पंचमी पर स्नान को उमड़ा आस्था का जनसैलाब

卐 30 लाख से अधिक श्रद्वालुओं ने विभिन्न घाटों पर किया स्नान।


प्रयागराज। माघ मेला के चतुर्थ प्रमुख स्नान पर भी श्रद्वा एवं आस्था का जनसैलाब प्रयागराज में उमड़ पड़ा। मेलाधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार बसंत पंचमी के स्नान पर्व में 30 लाख से अधिक श्रद्वालुओं ने 20 से अधिक घाटों पर स्नान किया। धर्म और अध्यात्म की इस दिव्य, भव्य, सुन्दर और स्वच्छ नगरी में जहाँ श्रद्धालुओं का जन सैलाब उमड़ा, इस दौरान प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ स्नानार्थियों को सुगमता एवं सरलता के साथ स्नान घाटों तक पहुँचने के लिए यातायात की खासी रणनीति तैयार की थी और इसके साथ ही घाटों पर स्नानार्थियों की भीड़ रूककर एकत्र न हो तथा उनके वापसी व गन्तव्य तक पहुँचाने के लिए विशेष व्यवस्था की गयी थी। समुचित व्यवस्थाओं, सुविधाओं, ट्रैफिक, सुरक्षा आदि व्यवस्थाओं को लेकर जहाँ प्रशासन व पुलिस के आला अधिकारी मेले व स्नान के दौरान स्वयं उपस्थित रहे, वहीं फोर्स के जवान, पुलिस, वालंटियर्स, मजिस्ट्रेट लगातार भ्रमण व निरीक्षण करते रहे। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व प्रशासन की व्यवस्था सतर्क रही और स्नानार्थियों/श्रद्वालुओं को स्नान करने के उपरान्त गंतव्य तक जाने हेतु सहायता करते रहें। संगम नोज सहित सभी घाटों स्नानार्थियों/श्रद्वालुओं की काफी भीड़ रही। भीड़ नियंत्रित करने हेतु बनाये गये टावरों से लगातार निगरानी एवं लाउडस्पीकर के माध्यम से निर्देशन दिया जाता रहा। मेले की व्यवस्था को देखकर प्रदेश सहित अन्य प्रदेशों के कोने-कोने से आये कई श्रद्वालुओं ने प्रसन्नता व्यक्त की। बसंत पंचमी का यह स्नान भी शांति और सुगमता के साथ सम्पन्न हुआ। मेले में किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना प्रकाश में आयी। श्रद्धालु लगातार गंगा मैया का जयघोष पूरे रास्ते करते हुए आ जा रहे थे।

Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की