डिफेन्स इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के पक्ष में किकऑफ कार्यक्रम आयोजित

(डिफेन्स इंडस्ट्रियल कॉरिडोर) रक्षा औद्योगिक गलियारे के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के पक्ष में किकऑफ कार्यक्रम आयोजित



कानपुर - भारत की रक्षा क्षमताओं को मजबूत करने और रक्षा क्षेत्र में अपनी आत्मनिर्भरता बढ़ाने कट ष्टि के साथ, देश में दो रक्षा गलियारों की योजना बनाई जा रही है। उनमें से एक बुंदेलखंड रक्षा गलियारा, राज्य के राज्य में प्रस्तावित किया गया है। INR 3000 करोड़ के निवेश के साथ बनाए जाने का अनुमान है, यह कॉरिडोर 6 जिलों (नोड्स) से होकर गुजरेगा - अलीगढ़, आगरा, झाँसी, कानपुर, लखनऊ और चित्रकूट में रक्षा विनिर्माण का समर्थन करने और कच्चे माल की निरंतर आपूर्ति बनाए रखने के लिए एक अच्छा सहायक आधार होगा। और श्रम। यूपी सरकार ने आईआईटी कानपुर को अपने प्रमुख ज्ञान भागीदारों में से एक के रूप में चुना है और स्थान में प्रस्तावित गलियारे के लिए रक्षा प्रौद्योगिकी केंद्र में उत्कृष्टता केंद्रस् थापित करने का निर्णय लिया है। केंद्र रक्षा क्षेत्र में नई प्रौद्योगिकियों और उत्पादों को विकसित करने की दिशा में काम करने के लिए सभी हितधारकों, उद्योगों, स्टार्ट-अप और शिक्षाविदों को एक साथ लाएगा। सहयोग के चार प्राथमिक क्षेत्र जिनके तहत अनुसंधान और विकास किया जाएगा, उनमें सामग्री, साइबर सुरक्षा, इलेक्ट्रॉनिक्स, संचार और यूएवी (मानव रहित हवाई वाहन) शामिल हैं। इन क्षेत्रों का नेतृत्व क्रमशः प्रोफेसर संदीप वर्मा (रसायन विज्ञान विभाग), प्रोफेसर संदीप शुक्ला (कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग), प्रोफेसर योगेश चौहान (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग) और प्रोफेसर ए.के. घोष (एयरस्पेस इंजीनियरिंग विभाग) करेंगे। आईआईटी कानपुर में डिफेंस टेक्नोलॉजीज में उत्कृष्टता केंद्र आईआईटी कानपुर के बौद्धिक और अवसंरचना नेतृत्व का लाभ उठाने के लिए सभी इच्छुक भागीदारों को आमंत्रित करता है और रक्षा क्षेत्र में नई प्रौद्योगिकियों और उत्पादों का सहयोग, निर्माण और व्यावसायीकरण करता है। इसके अलावा, कंपनियां एक उच्च परिपक्व और गतिशील प्रौद्योगिकी इनक्यूबेटर (2004 से परिचालन में) के साथ-साथ एक नए थापित अनुसंधान और प्रौद्योगिकी पार्क का लाभ उठा सकती हैं जहां कंपनियां अपने आरएंडडी कार्यालयों को थापित करने के लिएजगह ले सकती हैं। दोनों सुविधाएं IIT कानपुर परिसर के भीतर थत हैं। आईआईटी कानपुर और आईआईटी BHU को रक्षा स्लॉट विकसित करने के लिए प्रौद्योगिकी साझेदार के रूप में घोषित किया गया है। 4 वर्टिकल के विकास पर एक प्रेजेंटेशन समझाया गया जो डिफेंस कॉरिडोर के नोड को विकसित करेगा। रक्षा गलियारे के विकास में SIIC और टेक्नोपार्क अहम भूमिका निभाएंगे। प्रो मनिंद्र अग्रवाल द्वारा उत्कृष्टता केंद्र के परिचय का परिचय दिया गया। प्रस्तुति के दौरान उच्च प्रदर्शन फाइबर, यूएवी संचार प्रणाली, उच्च शक्ति एम्पलीफायर, आपातकालीन किट पर चर्चा की गई। डीआरडीओ का राष्ट्रीय रक्षा में योगदान' प्रस्तुति डॉ। चंद्रिका कौशिक (निदेशक, डीआरबी एट डीआरडीओ मुख्यालय) द्वारा प्रस्तुत की गई, जिसने 1958 से डीआरडीओ और इसकी यात्रा की अंत 'ष्टि को समझाया। प्रस्तुति ने प्रौद्योगिकी प्रबंधन, मेजर डीआरडीओ प्रोजेक्ट्स, डायरेक्टेड रिसर्च जैसे महत्वपूर्ण विषयों को समझाया। केंद्र, अनुसंधान बोर्ड, प्रौद्योगिकी विकास निधि योजना, आदि। डॉ। चंद्रिका ने बताया कि उत्पाद विकास पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, जो शैक्षणिक सं थानों से प्रौद्योगिकी आदानों की प्राप्ति के लिए अपेक्षित है। आईआईटी कानपुर ने 1985 में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग और यूपीडा के सीईओ श्री अवनीश अब थी ने कक्लेव में अपनी उप थति दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि 2018 के केंद्रीय बजट में 2 रक्षा गलियारों की घोषणा के कारण यूपीआईए ने एजेंसी के रूप में यूपीडा को चुनने का फैसला किया गलियारे को विकसित करने के लिए। यूपी को चुना गया क्योंकि इसके पास यमुना एक्सप्रेसवे, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे और गंगा लिंक एक्सप्रेसवे का एक व्यापक ग्रिड है जिसे हाल ही में सीएम योगी ने कुंभ में घोषित किया था जो मेरठ को प्रयागराज से जोड़ देगा। अवनीश ने डिफेंस कॉरिडोर की उम्मीदों पर एक प्रेजेंटेशन दिखाया जिसमें नोड्स, लैंड प्रोक्योरमेंट, साइट एनालिसिस, ड्राफ्ट पर्सपेक्टिव प्लान्स ऑफ ५ ड डिफेंस पॉइंट्स जैसे यूपी डिफेंस एंड एयरोस्पेस पॉलिसी 2018 को दर्शाया गया। UPEIDA के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि सरकार उनके दृ ष्टिकोण से और तेजी से आगे बढ़ेगी अक्टूबर हम कानपुर में भूमि का अधिग्रहण करेंगे और जैसे ही भारत सरकार रक्षा कॉरिडोर के लिए डीपीआर तैयार करेगी, निर्माताओं को लाइसेंस जारी कर दिया जाएगा। आईआईटी कानपुर के निदेशक अभय करंदीकर ने बताया कि वे ज्ञान के भागीदार के रूप में इस पहल का हिस्सा बनकर खुश हैं। IITians क्षमता निर्माण में काफी संभावनाएं देखते हैं। उन्होंने बताया कि आईआईटी कानपुर में एक मजबूत इनक्यूबेशन और इनोवेशन कार्यक्रम है। उन्होंने टेक्नोपार्क के लाभों के बारे में बताया और बताया कि डिफेंस और एरोस्पेस पार्क सुविधा एमओयू को टेक्नोपार्क के साथ हस्ताक्षरित करेगी। बाद में, (SIIC) स्टार्टअप इनोवेशन एंड इक्यूबेशन सेंटर और टेक्नोपार्क की विस्तृत प्रस्तुति दी गई। इस आयोजन में 100 से अधिक बुद्धिजीवियों ने भाग लिया। यूपी सरकार द्वारा INR 200 करोड़ के निवेश के साथ, बुंदेलखंड रक्षा गलियारा भारतीय रक्षा क्षमताओं को मजबूत करेगा। रक्षा क्षेत्र में अपनी आत्मनिर्भरता बढ़ाएंगे। बुंदेलखंड रक्षा गलियारा छह जिलों - अलीगढ़, आगरा, झांसी, कानपुर, लखनऊ और चित्रकूट से होकर गुजरेगा - रक्षा विनिर्माण का समर्थन करने और कच्चे माल और श्रम की निरंतर आपूर्ति बनाए रखने के लिए एक अच्छा सहायक आधार होगा।