आईआई टी कानपुर में वेल्डिंग प्रौद्योगिकी पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन


कानपुर: आई आई टी कानपुर ने 10-11 अगस्त 2019 को वेल्डिंग टेक्नोलॉजी में हो रहे आधुनिक बदलाव और एल्यूमीनियम और टाइटेनियम धातुओं की जटिलता को संबोधित करते हुए ' दो दिवसीय उद्योग सहयोग कार्यशाला का आयोजन किया। डॉ. जनकराजन रामकुमार, हेड इमेजिनियरिंग लेबोरेटरी, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग, आई.आई.टी. कानपुर इस आयोजन के समन्वयक थे। कार्यशाला में बुनियादी वेल्डिंग तकनीक से लेकर समकालीन और उन्नत तकनीक तक के मॉड्यूल शामिल थे। उद्योग विशेषज्ञ फ्रोनियस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड से आए थे जिन्होंने व्याख्यान दिया और अनुकरण का प्रदर्शन किया। कार्यशाला में प्रतिनिधियों को यथार्थवादी विनिर्माण वातावरण का अनुभव करने के लिए हैंड्स ऑन कार्यक्रम भी डिजाइन किया गया था। इस कार्यशाला में आये हुए प्रतिनिधि उद्योग और शैक्षणिक क्षेत्रों के विभिन्न हिस्सों से थे। कार्यक्रम का उद्घाटन आईआईटी कानपुर के डॉ. अमिताभ बंदोपाध्याय ने कियास्वागत भाषण में, उन्होंने सं थान में उद्योग संपर्क और नवाचार के महत्व के बारे में बात की। इमेजिनियरिंग प्रयोगशाला का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, कि "हमारे सं थान में, हमने हमेशा अनुसंधान और परामर्श में एक उच्च स्तरीय सेतुबंधन बनाने का प्रयास किया है। आई.आई.टी.कानपुर की इमेजिनियरिंग प्रयोगशाला जैसी सुविधाएं हमें एक स्वदेशी डिजाइन और विनिर्माण कौशल प्रदान करती हैं। यह सं थान द्वारा आयोजित की जा रही वेल्डिंग प्रौद्योगिकी पर पहली बार उद्योग-अकादमिक सहयोगात्मक ड्राइव है, और हम भविष्य में भी इस तरह की कार्यशालों से, विभिन्न क्षेत्रों में ज्ञानवृधि, अभ्यासरत छात्रों और हमारे ग्राहकों की अभूतपूर्व जरूरतों को पूरा करने के लिए तत्पर रहेंगे। एक जबरदस्त रणनीति के साथ सभी प्रतिनिधियों को समग्र कार्यक्रम के साथ जोड़ा गया था, कार्यशाला में कोल्ड मेटल ट्रांसफर जॉइनिंग तकनीकों पर ध्यान केंद्रित किया गया, और एंड्रॉइड अनुप्रयोगों का उपयोग करने सहित बुद्धिमान वेल्डिंग सिस्टम पर एक विशेष सत्र आयोजित किया गया। उन्होंने कार्यशाला समन्वयक को ऐसी कार्यशालों के आयोजन में अधिक से अधिक बार आने का सुझाव दिया और भविष्य में उनके समर्थन और भागीदारी का आश्वासन दिया। कार्यशाला के समापन समारोह के मुख्य अथिति प्रोफेसर बी. वी. फणी, आईआईटी कानपुर थे। उन्होंने इमेजिनियरिंग प्रयोगशाला द्वारा किए गए प्रयास की सराहना की, उन्होंने प्रयोगशाला के सं थापकों में से एक होने के नाते, उन क्षणों को याद किया जब इसेर थापित किया गया था, और संदेश दिया कि आईआईटी कानपुर हमेशा से ही ज्ञान का आधारस् थापित करने का इच्छुक रहा है। उन्होंने कहा कि "ज्ञान का निर्माण किया जाना चाहिए और उसके प्रचार प्रसार के साथ साथ आईआईटी कानपुर के साथ काम करने के लिए अग्रणी कंपनियों को आकर्षित किया जाना चाहिए।