अगले 4 वर्षों तक एक बार पुनः पेटीएम बना भारत का टाइटल स्पांसर

> सीईओ विजय शेखर ने कहा, "भारतीय क्रिकेट के प्रति हमारी प्रतिबद्धता हर मौसम में मजबूत होती है। भारत को क्रिकेट से प्यार है और पे-टीएम इसके सबसे बड़े प्रशंसक हैं।"



मुंबई - भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने बुधवार को भारत की प्रसिद्ध ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम को भारत में होने वाले अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू सीरीज के लिए एक बार फिर भारतीय टीम का टाइटल प्रायोजक घोषित किया हैपेटीएम 2019 से 2023 तक भारतीय टीम का टाइटल प्रायोजक बना रहेगा। इसके लिए पेटीएम अगले चार वर्षों में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को 326.80 करोड़ रुपये देगा। इससे पहले 2015 में पेटीएम को यह अधिकार दिया गया था जिसके लिए उसने 203.28 करोड़ की बोली लगायी थी। बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने कहा, "भारतीय टीम के घरेलू मैचों के लिए पेटीएम को टीम का टाइटल प्रायोजक घोषित कर मुझे खुशी हो रही है। पेटीएम देश की उभरती हुई कंपनी में से एक है और बीसीसीआई को गर्व है कि पेटीएम भारतीय क्रिकेट के साथ लगातार जुड़ी रही है।" भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 15 सितंबर से शुरु हो रही तीन ट्वेंटी-20 और तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के साथ भारतीय टीम का घरेलू सत्र शुरु हो रहा है। विराट ने कहा, "टेस्ट क्रिकेट को लेकर लोग कई तरह की बातें कर रहे खे कि यह अब प्रासंगिक नहीं रहा या टेस्ट क्रिकेट समाप्त हो रहा है। लेकिन मेरे ख्याल से टेस्ट क्रिकेट पिछले कुछ वर्षों में काफी चुनौतीपूर्ण हो गया है। यह अब खिलाड़ियों पर निर्भर करता है कि वे इस चैलेंज को कैसे जीतते हैं।” भारतीय कप्तान ने कहा, “मैच में प्रतिसपर्धा ही इस टेस्ट चैंपियनशिप को दिलचस्प बनाएगा। मुकाबले में मैच के ड्रा होने की उम्मीद कम रहेगी और अगर मैच ड्रा होता भी है तो मुकाबले काफी दिलचस्प होंगे क्योंकि दोनो ही टीमें अंक लेने की कोशिश करेगी।” विराट ने हालांकि स्वीकार किया कि बल्लेबाज अपने स्तर के अनुरुप बल्लेबाजी नहीं कर पा रहे हैं और टेस्ट चैंपियनशिप उनके लिए चुनौतीपूर्ण साबित होगी। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता बल्लेबाज अपनी क्षमता के अनुरुप खेल रहे हैं। हमने पिछले ढेड़ वर्षों में काफी सीरीज खेली है और यह काफी चुनौतीपूर्ण रहा है। हम इंग्लैंड के साथ हारे लेकिन टीम ने अस्ट्रेलिया में जीत हासिल की क्योंकि बल्लेबाज अपनी लय में थे। भारतीय कप्तान ने कहा, “जहां तक बल्लेबाजी की बात है हमें एक टीम के रुप में बल्लेबाजी करनी होगी और एक मजबूत स्कोर बनाना होगा जिससे गेंदबाजों को अपना काम करने का मौका मिल सके। वेस्टइंडीज की गेंदबाजी इस समय काफी मजबूत है और हमारे बल्लेबाजों को सीरीज जीतने के लिए अपनी क्षमता के अनुरुप प्रदर्शन करना होगा।”