इस रक्षाबंधन के अवसर पर, 92.7 बिग एफएम और गल्फ ऑयल ने भाई-बहनों के प्यार का जश्न मनाया

~ इस नई पहल का उद्देश्य घर से हमेशा दूर रहने वाले ट्रक ड्राइवरों और उनकी बहनों के बीच की दूरी कम करना था ~



कानपुर: भारत के रेडियो नेटवर्क में से एक, 92.7 बिग एफएम, ने गल्फ ऑयल और अनुकृति रंग मंडल के सहयोग से, रक्षाबंधन के अवसर पर एक विशेष अभियान, 'सुरक्षाबंधन' का आयोजन किया। यह अभियान ट्रक ड्राइवरों और उनके परिवारों पर केंद्रित था, और अभियान का उद्देश्य इस शुभ त्योहार पर ट्रक ड्राइवरों और उनकी बहनों के बीच की दूरी को कम करके कृतज्ञता व्यक्त करना था। इस दिल को छू लेने वाले अभियान के माध्यम से, रेडियो स्टेशन ने यह सुनिश्चित किया कि पहियों पर अपना समय गुजारने वाले ये हीरो इस खास दिन को बहुत ही अनोखे तरीके से मना पायें। रेडियो नेटवर्क ने अभियान के एक हिस्से के रूप में ट्रक ड्राइवरों और उनकी बहनों को एक-दूसरे के लिए अपनी कहानियों, यादगार पलों, अनुरोधों या संदेशों को साझा करने के लिए आमंत्रित किया। कहानियों को ऑन-एयर प्रसारित करने के साथ-साथ रेडियो नेटवर्क के इनको डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी साझा किया। इसके लिए ट्रक ड्राइवरों, उनकी बहनों, ट्रक ऑपरेटरों और ट्रक कंपनी के मालिकों के लिए एक विशेष हॉटलाइन बनाई गई थी। इसके अलावा, 92.7 बिग एफएम के आरजे ने ट्रक ड्राइवरों के परिवारों की दिनचर्या और जीवन को समझने के लिए उनसे मुलाकात की। इस बीच, उन्होंने इन ट्रक ड्राइवरों की बहनों से 927 राखियों और संदेश भी एक किये। रक्षाबंधन समारोह का जश्न मनाने के लिए एक की गईं राखियों और संदेशों को कोलकाता, आसनसोल, इंदौर, वाराणसी, लखनऊ, नागपुर, औरंगाबाद, मुंबईऔर भोपाल जैसे अन्य नौ शहरों के ट्रांसपोर्ट नगरों तक बिग एफएम द्वारा पहुंचाया गया इस अवसर पर, कठिन परिश्रम करने वाले ट्रक चालकों को त्योहार मनाने के लिए आमंत्रित किया गयानेटवर्क की महिला जॉकी ने ट्रक ड्राइवरों की बहनों, परिवार, दो तों आदि द्वारा साझा की गईं राखियों और संदेशों का वितरण किया, और दिलचस्प बातचीत में अपने सुहता चैंपियंस भाइयों के लिए सर्वश्रेष्ठ 10 संदेश देने वाली भाग्यशाली बहनों का सरप्राइज राखी सेलिब्रेशन के लिए चयन किया गया। अभियान पर टिप्पणी करते हुए आरजे अभिलाष ने कहा कि “रक्षाबंधन भाई-बहनों के लिए अपने प्यार का जश्न मनाने का समय है। दुर्भाग्य से, हर साल इनमें से अधिकांश ट्रक ड्राइवर हमारे पार्सलों को एक शहर से दूसरे शहर तक पहुंचाने में व्यस्त रहते हैं और इस मूल्यवान पारिवारिक समय पर घर को याद करते हैं इस पहल ने हमें बहुत सारी मुस्कुराहट बिखेरने में मदद की, और यह एक सुंदर अनुभव था। हमें ट्रक ड्राइवरों और उनकी बहनों से 927 संदेश मिले थे इस पहल का हिस्सा बनकर मुझे बहुत खुशी मिली है।" अभियान के दौरान रेडियो नेटवर्क ने उन बहनों की कहानियों को प्रसारित किया, जो घर से या अपने भाइयों से दूर थीं सभी ट्रक ड्राइवरों, ट्रक ऑपरेटरों और ट्रक मालिकों के लिए एक हॉटलाइन खोली गई थी। इन सभी शहरों के आरजे ने एक-दूसरे से दूर रहने वाले भाई-बहनों के लिए अनुरोधों और संदेशों को एक किया।