केंतो मोमोता ने विध्वंसक प्रदर्शन करते हुए अपना खिताब रखा बरकरार


बासेल - विश्व के नंबर एक खिलाड़ी जापान के केंतो मोमोता ने विध्वंसक प्रदर्शन करते हुए पांचवीं सीड डेनमार्क के एंडर्स एंटनसन रविवार को 21-9, 21-3 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में अपना पुरुष एकल खिताब बरकरार रखामोमोता ने पिछले साल फाइनल में चीन के शी यूकी को 21-11, 21-13 से हराकर खिताब जीता था और इस बार उन्होंने डेनमार्क के खिलाड़ी को लगातार गेमों में पस्त कर दिया। मोमोता ने फाइनल में मुकाबला मात्र 37 मिनट में जीतकर महिला एकल के फाइनल में हमवतन नोजोमी ओकुहारा की हार का गम कुछ कम कियाटूर्नामेंट में महिला और पुरुष एकल फाइनल पूरी तरह एकतरफा रहे। महिला फाइनल 38 मिनट में और पुरुष फाइनल 37 मिनट में सिमट गया। भारत को चैंपियनशिप में दूसरा पदक पुरुष एकल में कांस्य के रुप में मिला। बी साई प्रणीत को सेमीफाइनल में हारने के बाद कांस्य से संतोष करना पड़ा। प्रणीत ने इसके बावजूद इतिहास बनाया और वह महान प्रकाश पादुकोण के 1983 में कांस्य पदक जीतने के 36 साल बाद इस प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय पुरुष खिलाड़ी बन गए। महिला युगल में टॉप सीड जापानी जोड़ी माय मत्सुमोतो और वकाना नागाहारा ने दूसरी सीड हमवतन जोड़ी युकी फुकुशिमा और सयाका हिरोता को एक घंटे 25 मिनट में 21-11, 20-22, 23-21 से हराकर खिताब जीता


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति