पीसीआई ने अपने कई पदक विजेता खिलाड़ियों को किया सम्मानित

> अबतक पैरालंपिक में कुल 11 पदक जीत चुका है भारत


> टोक्यो में 40- 45 एथलीटों का दल उतारने की है उम्मीद



नयी दिल्ली - जापान के टोक्यो में 2020 में ओलंपिक खेलों के बाद होने वाले पैरालंपिक का काउंटडाउन आज से शुरु हो गया है और भारत ने टोक्यो पैरालंपिक में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखा है। भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) ने टोक्यो पैरालंपिक के काउंटडाउन के मौके पर रविवार को राजधानी में एक समारोह रखा जिसमें पीसीआई ने अपने कई पदक विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर देश के सर्वोच खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित पैरा एथलीट देवेंद्र झाझरिया और 29 अगस्त को खेल रत्न से सम्मानित होने जा रहीं दीपा मलिक मौजद थींभारत ने 2016 के पिछले रियो पैरालंपिक में दो स्वर्ण एक रजत और एक कांस्य सहित चार पदक जीते थे। पीसीआई के अंतरिम अध्यक्ष गुरशरण सिंह ने इस मौके पर कहा, आज से ठीक एक साल बाद 25 अगस्त 2020 को टोक्यो में पैरालंपिक शुरु होंगे। टोक्यो पैरालंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका है और हमने टोक्यो में रियो से ज्यादा दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखा है। गुरशरण ने कहा, भारत ने पहली बार पैरालंपिक में 1968 में हिस्सा लिया था। भारत उसके बाद से अबतक पैरालंपिक में कुल 11 पदक जीत चुका है। लेकिन हम टोक्यो में एक ही पैरालंपिक में 11 से ज्यादा पदक जीतने का लक्ष्य रखकर चल रहे हैं। हमारे पैरा एथलीट कड़ी मेहनत कर रहे हैं और खिलाड़ियों को किसी चीज की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी।पीसीआई के अध्यक्ष ने बताया कि स्विटजरलैंड के बासेल में विश्व पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत अबतक 12 पदक जीत चुका है जो कि एक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा, "हमारे जूनियर एथलीटों ने हाल में स्विटजरलैंड में विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन किया था और 11 स्वर्ण सहित 25 पदक जीते थे तथा भारत 43 देशों के बीच पदक तालिका में दूसरे स्थान पर रहा था।" टोक्यो पैरालंपिक के लिए भारतीय दल की संख्या के बारे में पूछे जाने पर गुरशरण ने कहा, “पैरालंपिक के लिए अगले साल एक अप्रैल तक क्वालीफायर चलेंगे उसके बाद ही कोई संख्या स्पष्ट हो पाएगी। रियो में हमारे 19 पैरा एथलीट उतरे थे लेकिन टोक्यो में हमें 40-45 एथलीटों का दल उतारने की उम्मीद है।” गुरशरण ने कहा कि टोक्यो में पैरा एथलेटिक्स, निशानेबाजी, बैडमिटन और तीरंदाजी में भारतीय खिलाड़ियों से पदक जीतने की पूरी उम्मीद है। इस अवसर पर मौजूद झाझरिया ने बताया कि वह सीनियर विश्व चैंपियनशिप का क्वालीफिकेशन हासिल करने सोमवार को पेरिस रवाना हो रहे हैं जबकि विश्व रिकॉर्डधारी भाला फेंक एथलीट संदीप चौधरी ने कहा कि रियो में चौथे स्थान पर आने के बाद से ही उन्होंने टोक्यो के लिए अपनी तैयारी शुरु कर दी थी। समारोह में दीपा और झाझरिया दोनों की ही सम्मानित किया गया। विश्व जूनियर पैरा एथलेटिक्स के पदक विजेताओं को भी गुरशरण और पीसीआई के महासचिव जे चंद्रशेखर ने सम्मानित किया। झाझरिया पैरालंपिक में दो बार के स्वर्ण पदक विजेता हैं जबकि खेल रत्न बनने जा रही दीपा मलिक ने पिछले रियो पैरालंपिक में रजत पदक जीता था। इस बीच एशियाई पैरालंपिक समिति के अध्यक्ष माजिद राशिद ने चीन में कहा कि टोक्यो पैरालंपिक नए रिकॉर्ड बनाएंगे और यह पैरालंपिक के इतिहास में सबसे बड़े खेल होंगे। टोक्यो पैरालंपिक में 22 खेलों में 540 स्पर्धाओं का आयोजन होगा जिसमें 160 देशों के 4400 एथलीट हिस्सा लेंगे।


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति