प्रधानमंत्री ने योग पुरस्कार प्रदान किए, आयुष के दिग्गज चिकित्सकों की स्मृति में डाक टिकट जारी किया

> प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 आयुष स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्रों की शुरूआत की।



प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 30 अगस्त को नई दिल्ली में योग के संवर्धन और विकास में उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रधान मंत्री पुरस्कार की प्रस्तुति में प्रख्यात विद्वानों, चिकित्सकों और आयुष प्रणालियों के महान मास्टर हीलर को सम्मानित करने के लिए डाक टिकट जारी किया।, 2019. आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और रक्षा, श्री श्रीपद येसो नाइक, आयुष मंत्रालय के सचिव, श्री वैद्य राजेश कोटेचा को भी देखा गया।


नई दिल्ली - प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को योग के संवर्धन और विकास के लिए शानदार योगदान करने वालों को योग पुरस्कार प्रदान किए। इन पुरस्कारों की घोषणा रांची में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर की गई थीइसके साथ आयुष मंत्रालय द्वारा आयोजित कार्यक्रम में पिछले वर्ष के दो विजेता भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने आयुष प्रणाली के महान और दिग्गज चिकित्सकों की उपलब्धियों और उनके योगदान के मद्देनजर उनकी स्मृति में 12 डाक टिकटों का एक सेट भी जारी किया। प्रधानमंत्री ने हरियाणा में स्थित 10 आयुष स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्रों की भी शुरूआत की। उल्लेखनीय है कि आयुष मंत्रालय ने अगले तीन वर्षों में 12,500 आयुष स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्र खोलने का लक्ष्य निर्धारित किया है।


वर्ष 2019 योग पुरस्कार विजेताओं के नाम इस प्रकार हैं-


1-व्यक्तिगत-राष्ट्रीय वर्ग में गुजरात के लाइफ मिशन के स्वामी राजर्षि मुनि,


2-व्यक्तिगत-अंतर्राष्ट्रीय वर्ग में इटली की सुश्री एंतोनिता रोज़ी,


3-संगठन-राष्ट्रीय वर्ग में मुंगेर,


4-बिहार का योग विद्यालय,


5-संगठन-अंतर्राष्ट्रीय वर्ग में जापान का योग निकेतन


2018 योग पुरस्कार विजेताओं में -


6-व्यक्तिगत-राष्ट्रीय वर्ग में नासिक के श्री विश्वास मांडलीक


7-संगठन-राष्ट्रीय वर्ग का योग संस्थान, मुंबई शामिल है



प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 30 अगस्त, 2019 को नई दिल्ली में योग के प्रचार और विकास के लिए उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रधानमंत्री के पुरस्कार की प्रस्तुति पर वीडियो लिंक के माध्यम से हरियाणा में 10 स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों का शुभारंभ किया। आयुष (स्वतंत्र प्रभार) और रक्षा के लिए, आयुष मंत्रालय के सचिव श्री श्रीपाद येसो नाइक, श्री वैद्य राजेश कोटेचा को भी देखा गया।


प्रधानमंत्री ने कहा कि आधुनिक क्षेत्र के अलावा आयुष के लिए भी अधिक से अधिक प्रोफेशनलों को लाने के लिए आवश्यक सुधार किए जा रहे हैं। उन्होंने आयुष-ग्रिड बनाने के विचार की सराहना करते हुए कहा कि इससे इस क्षेत्र की कमियां दूर करने में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार देश में डेढ़ लाख से अधिक आरोग्य केन्द्रों की योजना बनाने के संदर्भ में आयुष को ध्यान में रख रही है। उन्होंने कहा कि 12.5 हजार आयुष आरोग्य केन्द्रों की योजना बनाई गई है, जिनमें से इस साल लगभग 4,000 केन्द्र खोल दिए जाएंगे। आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीपद येसो नाइक ने प्रधानमंत्री योग पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी। उन्होंने कहा कि योग स्वास्थ्य की जमानत है, जिसके लिए हमें कोई पैसा खर्च नहीं करना पड़ता। इस क्षेत्र के महान दृष्टाओं के योगदान को याद करते हुए श्री नाइक ने कहा, 'इन दिग्गज चिकित्सकों का योगदान अतुलनीय है। भव्यता, सम्मान और सौंदर्य के साथ इन डाक टिकटों को जारी करना उन दिग्गज चिकित्सकों के विज्ञान और मानवता के प्रति स्वास्थ्य सेवा के प्रति समर्पण के लिए सच्ची श्रद्धांजलि है। युवा अवस्था में उन लोगों ने कड़ी मेहनत की और सीमित संसाधनों की चुनौतियों पर विजय प्राप्त करके मानवता के लिए योगदान किया। आज वे राष्ट्र का गौरव हैं।' श्री नाइक ने कहा कि प्रधानमंत्री आयुष प्रणाली में विशेष रूचि रखते हैं। यह उन्हीं की पहल थी कि आयुष मंत्रालय आयुष्मान भारत के अंग के रूप में देश भर के डेढ़ लाख स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्रों के 10 प्रतिशत का संचालन करे। उन्होंने कहा कि यह केन्द्र राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 का पूरक हैं। उन्होंने पारम्परिक स्वास्थ्य सेवा आपूर्ति प्रणाली में आयुष सेवाओं को एकीकृत करने पर जोर दिया।


 


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति