उपराष्ट्रपति ने विशाखापत्तनम में एनएसटीएल के स्वर्ण जयंती समारोह को संबोधित किया

> हाइड्रो डायनमिक मूल्यांकन के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं का निर्माण एनएसटीएल ने किया: वेंकैया नायडू



विजयवाड़ा - उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने बुधवार को विशाखापत्तनम, आंध्र प्रदेश में नेवल साइंस एंड टेक्नोलॉजिकल लेबोरेट्री के स्वर्ण जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर राज्य के मामले में केवल प्रशासनिक बदलाव किए गए है और हम अपने आंतरिक मामलों में किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करेंगे। श्री नायडू ने आग्रह किया कि सुरक्षा और राष्ट्रीय अखंडता के मामले में सभी भारतीयों को एक स्वर में बोलना चाहिए। भारत एक शांतिप्रिय देश हैश्री नायडू ने टॉरपीडो, समुद्र के नीचे की खान आदि समुद्र संबंधी क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास के लिए एनएसटीएल की सराहना की। एनएसटीएल ने समुद्र संबंधी हाइड्रो डायनमिक मूल्यांकन के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं का निर्माण किया है। इससे देश मैरीन प्लेटफॉर्म डिजाइन में आत्मनिर्भर बनेगा। श्री नायडू ने कहा कि विशेषकर रक्षा प्रौद्योगिकी में भारत को एक मजबूत और आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए। हमारी सशस्त्र सेनाओं के लिए स्वदेशी तकनीक से आधुनिक प्रणालियों को विकसित किया जाना चाहिए। एक राष्ट्र की शक्ति शैक्षणिक, आर्थिक, वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी क्षमता पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा कि जीएसएलवी, अग्नि मिसाइल, आईएनएस अरिहंत तथा चन्द्रयान व मंगलयान मिशन के माध्यम से भारत उन राष्ट्रों की सूची में शामिल हो गया है जिनके पास विशिष्ट तकनीक है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि डीआरडीओ, आरएंडडी संस्थान, शिक्षा जगत और उद्योग जगत को मिलकर गुणवत्तापूर्ण उत्पाद और सेवाएं प्रदान करनी चाहिए। इसके लिए मेक इन इंडिया जैसे कार्यक्रमों का लाभ लेना चाहिए। उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने एनएसटीएल द्वारा किए गए कार्यों पर आधारित एक प्रदर्शनी का अवलोकन किया। भारतीय नौसेना की जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने एनएसटीएल और डीआरडीओ की सराहना की। इस संबंध में उन्होंने एनएसटीएल द्वारा विकसित वरुणास्त्र टॉरपीडो का उल्लेख किया। इस अवसर पर उपराष्ट्रपति ने एनएसटीएल पर एक डाक कवर जारी किया और खेल परिसर, तरणताल और आवासीय परिसरों की आधारशिला रखी। श्री नायडू ने डीआरडीओ तथा एनएसटीएल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित उत्पादों की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस अवसर पर आंध्र प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति और युवा मामलों के मंत्री मुत्तमसेट्टी श्रीनिवास राव, डीआरडीओ के चेयरमैन और रक्षा आरएंडडी विभाग के सचिव डॉ. जी. सतीश रेड्डी, वाइस एडमिरल ए.के.जैन, एवीएसएम, वीएसएम, डीआरडीओ के नेवल सिस्टम एंड मिनरल्स के महानिदेशक डॉ. समीर वेंकटपति कामत तथा डीआरडीओ एवं एनएसटीएल के वरिष्ठ वैज्ञानिक व अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।



उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू 28 अगस्त, 2019 को आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में नौसेना विज्ञान और तकनीकी प्रयोगशाला के स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान खेल एवं स्विमिंग पूल परिसर और विवाहित अधिकारियों के आवास सथल की आधारशिला रखते हए। पर्यटन, संसकृति एवं युवा उननति मंत्री, आंध्र प्रदेश, श्री मुत्तमसेती श्रीनिवास राव, सचिव, रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग, चेयरमैन रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और महानिदेशक, वैमानिकी विकास एजेंसी (एडीए), डॉ. जी. सतीश रेड्डी और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित हैं।



उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू 28 अगस्त, 2019 को आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में नौसेना विज्ञान और तकनीकी प्रयोगशाला के स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान स्वर्ण जयंती पोस्टल कवर जारी करते हुए। पर्यटन, संस्कृति एवं युवा उन्नति मंत्री, आंध्र प्रदेश, श्री मुत्तमसेती श्रीनिवास राव, सचिव, रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग, चेयरमैन रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और महानिदेशक, वैमानिकी विकास एजेंसी (एडीए), डॉ. जी. सतीश रेड्डी और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित हैं।



उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू 28 अगस्त, 2019 को आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में नौसेना विज्ञान और तकनीकी प्रयोगशाला के स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान तकनीकी प्रदर्शनी का अवलोकन करते हुए


 


 


 


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति