भारत के उपराष्ट्रपति ने विश्व पर्यटन दिवस पर राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2017-18 प्रदान किया

> पर्यटन के व्यापक विकास के लिए सर्वश्रेष्ठ राज्य / केंद्र शासित प्रदेश - आंध्र प्रदेश


> रोमांच पर्यटन के लिए सर्वश्रेष्ठ राज्य / केंद्र शासित प्रदेश - गोवा


> सर्वश्रेष्ठ फिल्म निर्माण अनुकूल राज्य / केंद्र शासित प्रदेश - उत्तराखंड


> भारत में एक पर्यटक गंतव्य का सर्वश्रेष्ठ नागरिक प्रबंधन - अहमदाबाद नगर निगम, गुजरात



नई दिल्ली। भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को विश्व पर्यटन दिवस पर राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2017-18 प्रदान किया। विभिन्न श्रेणियों के तहत कुल 76 पुरस्कार प्रदान किए गए। केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (इनडिपेंडेंट चार्ज) श्री प्रहलाद सिंह पटेल, संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (UNWTO) के महासचिव जुराबपोलिकवशीली, पराग्वे के पर्यटन मंत्री सुश्री सुश्री मोंटियाल डी अफ़ारा; पर्यटन सचिव श्री योगेन्द्र त्रिपाठी; महानिदेशक पर्यटन श्रीमती। मीनाक्षी शर्मा, पर्यटन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी और 82 अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि इस अवसर पर उप थत थे। इस अवसर पर उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ने पर्यटन उद्योग के सभी हितधारकों से उनके पारिस्थतिक पदचिह्न के प्रति विशेष रूप से ध्यान रखने का आग्रह किया और अधिक जिम्मेदार और थायी पर्यटन प्रथाओं का आह्वान किया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए सुझाव के अनुसार, विशेष रूप से युवाओं को घरेल पर्यटन को बढावा देने के लिए 2022 तक भारत के कम से कम 15 पर्यटनर थलों का दौरा करने का आग्रह किया। श्री नायडू ने छात्रों से भारत की संस्कृति, विरासत, भाषाओं और व्यंजनों के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानने और देश के अद्वितीय सांस्कृतिक मोज़ेक की अपनी समझ को बढ़ाने के लिए भारत दर्शन' शुरू करने का आग्रह किया। उपराष्ट्रपति ने चिकित्सा पर्यटन के क्षेत्र में भारत की जबरदस्त संभावनाओं को भी रेखांकित किया और कहा कि भारत को अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए आयुर्वेद और योग जैसे उपचार की अपनी प्राचीन प्रथाओं का लाभ उठाना चाहिए जो समग्र कल्याण चाहते हैं।



केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (IC) ने संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (UNWTO) द्वारा विश्व पर्यटन दिवस 2019 के उत्सव के लिए भारत को मेजबान देश के रूप में चुने जाने पर खुशी व्यक्त की। उन्होंने सभी पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और कहा कि हमारा मानना है। 'अथिथि देवो भव' की भावना होने के कारण हमारे पर्यटक हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार लगातार पर्यटन के अनुकूल निर्णय ले रही है जैसे कि ई-टूरिविज़ा शुल्क में कमी, एक विस्तारित ई-पर्यटक वीजा उपलब्ध कराना, होटल के टैरिफ पर जीएसटी में कटौती हाल के कुछ महत्वपूर्ण हैं, जो देश में पर्यटन को बढ़ावा देने में एक लंबा रास्ता तय करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पर्यटन क्षेत्र राजस्व पैदा करने वाला क्षेत्र है। राजस्व के अलावा, हम धारणा को भी बदलना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों में भारत ने 2013 में 65 से 2019 में 34 तक विश्व यात्रा और प्रतिस्पर्धात्मकता सूचकांक में अपना बेहतर प्रदर्शन किया है। इसका श्रेय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को जाता है जिन्होंने भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक ब्रांड के रूप में गर्व से पेश किया है। देश का राजदूत। बाद में मीडिया को जानकारी देते हुए, पर्यटन मंत्री श्री प्रह्लाद सिंह पटेल और महासचिव यूएनडब्ल्यूटीओ श्री जुरब पोलोलिकाशविल्ली ने घोषणा की कि यूएनडब्ल्यूटीओ की ऑनलाइन अकादमी अपने अकादमी पोर्टल पर पर्यटन से संबंधित पाठ्यक्रम हिंदी में उपलब्ध कराएगीकेंद्रीय मंत्री ने पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिए UNWTO को धन्यवाद दिया। पर्यटन मंत्री ने आगे घोषणा की कि अगले साल से पर्यटन के लिए पुरस्कारों में एक नई विशेष श्रेणी होगी, जिसमें असाधारण कार्यों का प्रदर्शन किया जाएगा जैसे कि पर्यटक की जान बचाने की थति में जीवन को बचाने की िथति आदि। श्री जुरब पोलोलिकाशविल्ली ने कहा कि भारत एक तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यब था है और यह वांछित सुधार भी कर रहा है, जो पर्यटन क्षेत्र के लिए बहुत सारे अवसर प्रदान करता हैअधिक लोगों को शिक्षित और प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। पर्यटन से संबंधित अवसरों के लिए भारत के साथ सहयोग करने के लिए UNWTO खुश है।



केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद सिंह पटेल और पराग्वे के पर्यटन मंत्री सुश्री सोफिया मोंटीएल डी अफ़ारा ने भी आयोजन के बाद पर्यटन सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए।


इस अवसर पर, UNWTO द्वारा भारत में अपने संबद्ध सदस्य, आउटलुक रिस्पॉन्सिबल टूरिज्म इनिशिएटिव के सहयोग से 'टूरि म जॉब्स ऑफ़ द फ्यूचर' पर एक कार्यशाला भी आयोजित की गई। कार्यशाला का आयोजन भारत में पर्यटन MSME और सामाजिक उद्यमियों के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए किया गया था ताकि यह पता लगाया जा सके कि भविष्य के पर्यटन रुझानों में कैसे समायोजित किया जा सकता है, अपनी गतिविधियों और पर्यटन प्रथाओं को व्यव िथत करें और अपने समुदायों में अधिक रोजगार के अवसर पैदा करें। पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार सालाना यात्रा, पर्यटन और आतिथ्य उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों में राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार प्रदान करती है। ये पुरस्कार राज्य सरकारों / केंद्र शासित प्रदेशों, वर्गीकृत होटल, विरासत होटल, अनुमोदित ट्रैवल एजेंट, टूर ऑपरेटर, पर्यटक परिवहन ऑपरेटर, व्यक्तियों और अन्य निजी संगठनों को उनके संबंधित क्षेत्रों में उनके प्रदर्शन की मान्यता के लिए प्रदान किए जाते हैं। राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार, यात्रा, पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्रों में उपलब्धियों की एक प्रतिष्ठित मान्यता के रूप में उभरा है।