इस्पात उद्योग का निर्यात पहले की तुलना में अधिक: धर्मेन्द्र प्रधान

> पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री ने इस्पात उद्योग के कार्यकारी अधिकारियों के साथ बैठक की।



नई दिल्ली - पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने शुक्रवार को इस्पात उद्योग के कार्यकारी अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में इस्पात उद्योग संबंधी मुद्दों और अड़चनों तथा उनके संभावित समाधानों पर चर्चा की गई। श्री प्रधान ने इस्पात उद्योग को सरकार की तरफ से पूरे समर्थन और सहयोग का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि इस्पात उद्योग परिपक्व हो चुका है तथा क्षमता निर्माण, गुणवत्ता और प्रौद्योगिकी उन्नयन के क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ा हैउन्होंने कहा कि इस उद्योग ने विश्व में अपनी जगह बना ली है तथा वह पहले से अधिक प्रतिस्पर्धी बना है। इस्पात उद्योग ने गुणवत्ता में सुधार किया है और पहले से अधिक निर्यात कर रहा है। श्री प्रधान ने उद्योग का आह्वान किया कि वह अधिक मूल संवर्धन करे और प्रमुख उद्योगों की आवश्यकताओं को पूरा करे। उन्होंने कहा कि इस्पात उद्योग को कच्चे माल की खरीद के अपने संसाधनों में विविधता लानी चाहिए, ताकि लागत में कमी आए और वह सीमित न रहे। श्री प्रधान ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारतीय उत्पादों की मांग और उनकी संभावनाएं अपार हैं। उन्होंने कहा कि इस्पात उद्योग की जायज मांगों पर विचार किया जाएगा और उनकी समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान खोजा जाएगा। इस्पात उद्योग के दिग्गजों ने वित्त पोषण, कच्चे माल की आसान उपलब्धता, मुक्त व्यापार समझौतों, कराधान, खनन ठेकों इत्यादि सहित विभिन्न विषय उठाए।


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति