खाद्य सामग्री की पैकेजिंग के लिए शत-प्रतिशत जूट को लाया जाए इस्तेमाल में: रामविलास पासवान

> उद्योग संगठनों, हितधारकों और विभिन्न सरकारी विभागों ने पेयजल की प्लास्टिक बोतलों के स्थान पर उपयुक्त विकल्पों का सुझाव दिया



नई दिल्ली - प्लास्टिक के दुष्प्रभावों का उल्लेख करते हुए उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने मंगलवार को प्रेस के साथ बातचीत करते हुए कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक से 95 लाख टन प्लास्टिक कचरा पैदा होता है। इसमें से 6 लाख टन नदियों में चला जाता है और पानी को प्रदूषित करता है। उन्होंने कहा कि जब प्लास्टिक कचरे को जलाया जाता है, तो सांस संबंधी बीमारियां पैदा होती है। उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का उद्देश्य है कि पैकेजिंग में प्लास्टिक के इस्तेमाल को धीरे-धीरे कम किया जाए और उसकी जगह खाद्य सामग्री की पैकेजिंग के लिए शत-प्रतिशत जूट को इस्तेमाल में लाया जाए। पेयजल के लिए एक बार इस्तेमाल की जाने वाली प्लास्टिक बोतलों के स्थान पर उपयुक्त विकल्पों के विषय में श्री पासवान ने अपने मंत्रालय द्वारा उठाये गये कदमों की जानकारी देते हुए मीडिया से कहा कि उद्योग संगठनों, हितधारकों और विभिन्न सरकारी विभागों के साथ आयोजित बैठक के दौरान पेयजल की पैकेजिंग के मुद्दों पर चर्चा की गई। सभी हितधारकों ने पेयजल की प्लास्टिक बोतलों के स्थान पर उपयुक्त विकल्पों का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि पेयजल की वैकल्पिक पैकेजिंग के लिए मानक तय किये जाए तथा प्लास्टिक के इस्तेमाल को रोकने के लिए जागरूकता पैदा की जाए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 69वें जन्मदिवस पर शुभकामनाएं देते हुए रामविलास पासवान ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हर क्षेत्र में अभूतपूर्व काम किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत की प्रतिष्ठा विश्व में बढ़ी है और प्रधानमंत्री ने साबित कर दिया है कि भारत एक मजबूत राष्ट्र है तथा वह हर तरह की सुरक्षा चुनौती का सामना करने में सक्षम है। अर्थव्यवस्था के हवाले से श्री पासवान ने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी ने मजबूत अर्थव्यवस्था की नींव रखी है। सामाजिक न्याय का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने मुस्लिम महिलाओं सहित समाज के सभी वर्गों के लिए सामाजिक न्याय सुनिश्चित किया है। कश्मीर के बारे में श्री पासवान ने कहा है कि प्रधानमंत्री की नीतियों के आधार पर कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे है और कश्मीर दोबारा प्रमुख पर्यटन स्थल बन जाएगा। उन्होंने कहा कि 2 अक्टूबर, 2014 को शुरू होने वाला स्वच्छ भारत अभियान राष्ट्रीय आंदोलन बन चुका है तथा प्रधानमंत्री ने लोगों का आह्वान किया है कि भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाया जाए।



Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति