मुख्यमंत्री ने आई0आई0एम0, लखनऊ में आयोजित लीडरशिप डेवलपमेन्ट 'मंथन-1' कार्यक्रम को सम्बोधित किया

> पहली बार किसी राज्य सरकार ने देश में अपने राजनीतिक नेतृत्व की दक्षता के लिए देश के श्रेष्ठ प्रबन्धन संस्थान से प्रशिक्षण लेने का फैसला किया है।



लखनऊ - उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा कि जीवन सीखने के लिए होता है। जीवन की प्रत्येक घटना से कुछ न कुछ सीखने को मिलता है, सीखने के लिए जहां कहीं भी अवसर मिले उसका लाभ अवश्य लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार विगत ढाई वर्षों में जनता की आशाओं और आकांक्षाओं की कसौटी पर खरी उतरी है। मुख्यमंत्री रविवार को यहां भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आई0आई0एम0), लखनऊ में आयोजित लीडरशिप डेवलपमेन्ट 'मंथन-1' कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आई0आई0एम0 के सहयोग से मंथन कार्यक्रम के तीन विशेष सत्रों का आयोजन किया जा रहा है, जिसका प्रथम सत्र रविवार को आयोजित किया गया है। प्रदेश के सर्वांगीण विकास में इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम सहायक सिद्ध हो सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य को श्रेष्ठ बनाने की दिशा में सकारात्मक प्रयास कर रही है। इसके दृष्टिगत प्रदेश सरकार सुशासन, प्रबंधन, नेतृत्व कौशल व जनभागीदारी को बेहतर ढंग से जानने के लिए आई0आई0एम0 संस्थान से सहयोग प्राप्त कर रही है। पहली बार किसी राज्य सरकार ने देश में अपने राजनीतिक नेतृत्व की दक्षता के लिए देश के श्रेष्ठ प्रबन्धन संस्थान से प्रशिक्षण लेने का फैसला किया है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार 'सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास की अवधारणा को अपनाते हुए जनता की सेवा कर रही है। अपना अनुभव साझा करते हुए उन्होंने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी द्वारा दिये गये सुझावों को प्राथमिक विद्यालयों पर लागू किया, जिसके सकारात्मक परिणाम आये, शासन की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में शिक्षण संस्थान महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए आई0आई0एम0 की निदेशक प्रो0 अर्चना शुक्ला ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री  की प्रेरणा से यह कार्यक्रम सम्पन्न हो रहा है। उत्तर प्रदेश भारत की रीढ़ है। उत्तर प्रदेश का विकास करके ही हम देश के विकास में सहभागी बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि एक राजनेता से जनता को काफी उम्मीदें होती हैं, इन उम्मीदों को पूरा करने में यह मंथन कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस अवसर पर राज्य सरकार के मंत्रिगण, आई0आई0एम0 लखनऊ के शिक्षाविद् उपस्थित थे।


Image



Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति