रेणुका सिंह ने नोएडा में आदि महोत्सव का उद्घाटन किया


नॉएडा। जनजातीय मामलों के राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने "आदि महोत्सव" का उद्घाटन किया, जो आदिवासी मामलों के मंत्रालय द्वारा इंडिया एक्सपो सेंटर, सेक्टर -62, नोएडा (उत्तर प्रदेश) में दीपावली खंडेकर (सचिव, ट्राइबल अफेयर्स) और आरसी मीणा (अध्यक्ष, ट्राइफेड) की उप िथति में आयोजित किया जा रहा है। त्योहार की योजना आदिवासी संस्कृति, शिल्प, भोजन और वाणिज्य की भावना का जश्न मना रही है। इस उत्सव में 70 स्टालों के माध्यम से आदिवासी हस्तशिल्प, कला, पेंटिंग कपड़े, आभूषण और बहुत कुछ की प्रदर्शनी-सह-बिक्री की सुविधा है। महोत्सव में मिनी इंडिया बनाने वाले विभिन्न राज्यों के 200 से अधिक आदिवासी कारीगर और कलाकार भाग ले रहे हैं। उत्तर में जम्मू-कश्मीर से लेकर दक्षिण में तमिलनाडु तक और पश्चिम में गुजरात से लेकर पूर्व में नागालैंड । सिक्किम तक मास्टर आदिवासी कारीगरों द्वारा निर्मित जनजातीय वस्त्र महोत्सव में उपलब्ध हैं। पारंपरिक आदिवासी आभूषण, डोकरा कारपेट, केन-बांस और भी आकर्षण का सामान। आदिवासी दस्तकारों द्वारा जनजाति बैनर के तहत 70-100 स्टालों के माध्यम से आदिवासी हस्तशिल्प को बेचा जा रहा है।



कैशलेस जाने की राष्ट्रीय आकांक्षा के अनुरूप, पहली बार आदिवासी कारीगर प्रमुख क्रेडिट / डेबिट कार्ड के माध्यम से भुगतान स्वीकार कर रहे हैं, जिसके लिए प्रत्येक स्टाल में प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) मशीनें प्रदान की गई हैंभारतीय स्टेट बैंक द्वारा इसके सुचारू संचालन के लिए एक विशेष प्रशिक्षण आयोजित किया गया है। महोत्सव में समृद्ध डिजिटल वाणिज्य और ई-कॉमर्स को ट्राइब्स इंडिया द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है। ट्राइब्स इंडिया ने जनजातीय उत्पादों के ई-कॉमर्स के लिए भारत सरकार के पोर्टल अमेजन, स्नैपडील, फ्लिपकार्ट, पेटीएम और जीईएम के साथ समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं। ट्राइब्स के अलावा भारत का अपना ई-कॉम पोर्टल www.tribesindia.com भी है। आदि महोत्सव आदिवासी वाणिज्य को डिजिटल और इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन के अगले स्तर तक ले जाने का एक प्रयास है। महोत्सव कला रूप विदेशी हस्तशिल्प आदिवासियों के इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल कौशल को भी विशेष आकर्षण के रूप में प्रदर्शित करेगा।