विकास के एजेंडे की नीव होती है समग्र विकास: योगी आदित्यनाथ 

>मुख्यमंत्री ने कानपुर नगर में लगभग 500 करोड़ रु० लागत की 50 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।


>लाभार्थीपरक योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र भी वितरित किए।



कानपुर - उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास हम सभी की आवश्यकता है, विकास कार्यों के माध्यम से सभी के जीवन में खुशहाली आती है। विकास कार्य समयबद्ध व मानक की गुणवत्ता एवं सभी आयाम को पूरा करने वाला होना चाहिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार बिना किसी भेदभाव के योजनाओं का क्रियान्वयन कर लाभार्थियों को लाभ प्रदान कर रही हैं "नमामि गंगे योजना” एवं "स्वच्छ भारत मिशन" के माध्यम से प्रयागराज में सुव्यवस्थित एवं स्वच्छता का भव्य कुम्भ आयोजित किया गया, जिसमें गंगा को निर्मल एवं स्वच्छ बनाने में कानपुर की महत्वपूर्ण भूमिका रही। मुख्यमंत्री ने यह विचार सोमवार को कानपुर नगर में आयोजित विभिन्न परियोजनाओं के लोकार्पण, शिलान्यास, लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम एवं जनसभा को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि कानपुर में डिफेन्स कॉरिडोर की स्थापना किये जाने के साथ ही सुगम यातायात हेतु मेट्रो सेवा भी शुरू की जायेगी। इसके लिए केन्द्र सरकार द्वारा धनराशि प्रदान कर दी गयी है। कानपुर को प्लास्टिक मुक्त व स्वच्छ शहर बनाने के कार्य में जनता का सहयोग लें और सभी लोग इसके लिए युद्ध स्तर पर कार्य करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा तट पर स्थित कानपुर को कभी प्रदेश का आद्यौगिक नगर कहा जाता था। कानपुर के विकास को नयी गति देने के लिए लगभग 500 करोड़ रुपये लागत की 50 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जा रहा है। आजादी के बाद पहली बार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की केन्द्र सरकार ने गरीबों, नौजवानों, किसानों, महिलाओं एवं सभी वर्गों को बिना किसी भेदभाव के विभिन्न योजनाओं का लाभ प्रदान किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत शौचालय निर्माण, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, अटल पेंशन योजना तथा जीवन ज्योति बीमा योजना आदि कल्याणकारी योजनाओं को गरीबों के हितों में संचालित कर जन-जन तक पहुँचाने का कार्य किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान केन्द्र सरकार द्वारा विगत 100 दिनों के अन्दर लिए गये ऐतिहासिक निर्णयों में कश्मीर में अनुच्छेद 370, 35 ए को समाप्त कर आतंकवाद को खत्म करना एवं एन0आर0सी0 को लागू करना प्रमुख हैं। इनके लागू होने से अब बाहरी घुसपैठ पर लगाम लगेगी। उन्होंने कहा कि तीन तलाक की कुप्रथा को समाप्त करना भी एक महत्वपूर्ण निर्णय है।



मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास का एजेन्डा समग्र विकास के लिए होना चाहिए, किसी के व्यक्तिगत विकास के लिए नहीं। विकास योजनाओं में भ्रष्टाचार नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्वच्छ भारत मिशन के साथ-साथ 'नमामि गंगे' योजना को सफलतापूर्वक संचालित किया गया है। इसके चलते प्रयागराज कुम्भ स्वच्छतापूर्वक सम्पन्न कराया गया। अमृत योजना के अन्तर्गत कराए गए कार्यों एवं 'नमामि गंगे' परियोजना को ठीक से लागू करके गंगा जी को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने का कार्य किया जा रहा है। 'नमामि गंगे' परियोजना स्वच्छता के साथ-साथ लोगों की आस्था का भी सम्मान कर रही है। "नमामि गंगे योजना” के तहत गंगा घाटों का जीर्णोद्धार भी किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा 'स्वच्छता ही सेवा है' कार्यक्रम को एक मिशन के रूप में लेकर कार्य किया गया है, इसके मूल में सेवाभाव है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने भारत को प्लास्टिक मुक्त करने का संकल्प लिया है, यह पूरे देश का संकल्प बनना चाहिये, क्योंकि प्लास्टिक नुकसानदायक है। यह पर्यावरण एवं स्वच्छता के लिये भी घातक है। उन्होंने कानपुर वासियों से शहर को प्लास्टिक मुक्त करने का आह्वान किया। कानपुर नगर की यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ करने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि कानपुर में मेट्रो योजना का शिलान्यास प्रधानमंत्री जी द्वारा किया गया था, इसके लिए धन भी आवंटित किया गया है, जिससे कानपुर वासियों को भविष्य में सुगम यातायात की व्यवस्था उपलब्ध होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत ढाई वर्ष के अन्दर प्रदेश सरकार ने गांवों में घर-घर तक बिजली पहुंचाने का काम किया है। इसके अलावा, बड़ी संख्या में शौचालय भी निर्मित कराये गए हैं। दिव्यांगजन सशक्तिकरण योजना के अन्तर्गत दिव्यागजनों को पेंशन उपलब्ध करायी जा रही है। केन्द्र की उज्ज्वला योजना के अन्तर्गत गरीब परिवारों को रसोई गैस उपलब्ध करायी गयी है। साथ ही, “मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत गरीब परिवारों की पुत्रियों की शादी में सहायता प्रदान की जा रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उज्ज्वला योजना, वृद्धावस्था पेंशन योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), आयुष्मान भारत योजना सहित अन्य योजनाओं के तहत लाभार्थियों को स्वीकृति प्रमाण-पत्र वितरित किये कार्यक्रम को सांसद सत्यदेव पचौरी ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर मण्डलायुक्त  सुभाष चन्द शर्मा ने के0डी0ए0 के अन्तर्गत संचालित आवासीय योजना एवं अन्य लोकार्पण एवं शिलान्यास की जाने वाली योजनाओं के संबंध में जानकारी देते हुये बताया कि आज इस कार्यक्रम में 2,000 लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्ज्वला योजना, उजाला योजना, वृद्धावस्था पेंशन एवं अन्य योजनाओं के स्वीकृति प्रमाण-पत्र का वितरण किया जा रहा है। इस अवसर पर औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमला रानी वरूण, नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता 'नन्दी', राज्य मंत्री, उच्च शिक्षा तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री नीलिमा कटियार, महापौर प्रमिला पाण्डेय, सांसद देवेन्द्र सिंह भोले, विधायकगण, जिलाधिकारी विजय विश्वास पन्त, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अन्नत देव सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।