उत्तर प्रदेश को स्वच्छ भारत मिशन में प्राप्त हुआ है प्रथम पुरस्कार: योगी आदित्यनाथ

> राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी की 151वीं जयन्ती की पूर्व सन्ध्या पर आयोजित समारोह को सम्बोधित किया।


> हम सभी को पर्यावरण व जल संरक्षण करने के साथ-साथ भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाने का संकल्प लेना होगा : राज्यपाल 


>खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग एवं बैंक ऑफ बड़ौदा के मध्य एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित।



लखनऊ। राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल ने कहा है कि उत्तर प्रदेश, देश एवं विश्व महात्मा गांधी की जयन्ती मना रहा है। ऐसे समय में, हम सभी को संकल्प लेना होगा कि पर्यावरण व जल संरक्षण करने के साथ-साथ भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाया जाए। उन्होंने लोगों से सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के क्रियान्वयन में सहभागिता तथा उन योजनाओं में खर्च की जा रही धनराशि का सदुपयोग करने की अपील की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने आजादी की लड़ाई से लेकर गरीबों के कल्याण व उत्थान के लिए सतत प्रयत्न किए। राज्यपाल जी  बुधवार को यहां अवध शिल्प ग्राम में महात्मा गांधी जी की 151वीं जयन्ती की पूर्व सन्ध्या पर आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि राज्य की वर्तमान सरकार ने विगत ढाई वर्षों के कार्यकाल में कई उपलब्धियां हासिल की हैं। नई योजनाएं बनाकर जनता को लाभान्वित किया गया है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश में सर्वाधिक शौचालय निर्माण कर नारी की गरिमा और सम्मान को बढ़ाया है। बच्चों की शिक्षा के लिए अच्छी व्यवस्था की गई है। गरीबों व जरूरतमन्दों को आवास की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने वस्त्र उद्योग से जुड़े कारीगरों को आधुनिक डिजाइन के परिधानों को बनाए जाने की बात कही।


इस अवसर पर एक जनपद, एक उत्पाद योजना (ओ0डी0ओ0पी0) के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग और बैंक ऑफ बड़ौदा के मध्य एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित किया गया।



ओ0डी0ओ0पी0 के लाभार्थियों को टूल किट वितरित किए गए। सोलर चरखे एवं इलेक्ट्रिक चाक का वितरण किया गया। एम0एस0एम0ई0 क्षेत्र के उद्यमियों को केन्द्र व प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत ऋण वितरित किए गए। राष्ट्रीय स्तर के विजेता खिलाड़ियों, ग्राम प्रधानों एवं राजमिस्त्रियों को सम्मानित किया गया।



कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित किए गए खिलाड़ियों, ग्राम प्रधानों, राजमिस्त्रियों, एम0एस0एम0ई0 प्रतिनिधियों, विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री ने स्वच्छता, स्वदेशी और स्वावलम्बन को बढ़ावा देने का कार्य किया था। उन महापुरुषों के सपने को साकार करते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केन्द्र व राज्य सरकार कार्य कर रही है। विगत ढाई वर्षों में राज्य सरकार की कार्य योजनाओं के परिणामस्वरूप सम्मान समारोह के तहत प्रदेश की विभूतियों को सम्मानित किया गया है।



मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी जी के मूल्यों व आदर्शों को अपनाते हुए सरकार ने स्वच्छता पर विशेष बल दिया है। प्रदेश को स्वच्छ भारत मिशन में सर्वाधिक जनसहभागिता के लिए प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इस मिशन के तहत प्रदेश में 02 करोड़ 61 लाख शौचालयों का निर्माण कराया गया है। स्वावलम्बन को बढ़ावा देते हुए 'एक जनपद, एक उत्पाद' की अभिनव योजना लागू की गई। इससे प्रत्येक जनपद के परम्परागत विशिष्ट उत्पाद को प्रोत्साहन मिला है और उनकी लोकप्रियता बढ़ी है। उन्होंने कहा कि ओ0डी0ओ0पी0 योजना में विभिन्न संस्थाओं का भी सराहनीय योगदान मिला है। मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित होने से परम्परागत उत्पाद से जुड़े उद्यमियों को लाभ मिलेगा और नए रोजगार सृजित होंगे। उन्होंने कहा कि एम0एस0एम0ई0 के माध्यम से रोजगार को प्रोत्साहन मिला है। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत दस्तकारों, परम्परागत कारीगरों व शिल्पियों को जोड़ा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी की जयन्ती के अवसर पर प्लास्टिक मुक्त भारत बनाने का संकल्प लेना होगा। पर्यावरण एवं जल संरक्षण के कार्य करने होंगे, जिससे मानव, पशुधन एवं धरती माँ का स्वास्थ्य सुदृढ़ हो सके। उन्होंने कहा कि गांधी जी के सपने को साकार करने के लिए परम्परागत एवं खादी उत्पादों को आधुनिक तकनीक के साथ जोड़ना होगा। इस दिशा में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा सोलर चरखे एवं इलेक्ट्रिक व सोलर चाक का वितरण एक सराहनीय कदम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एम0एस0एम0ई0 क्षेत्र में वर्ष 2017-18 के सापेक्ष वर्ष 2018-19 में ऋण वितरण के क्षेत्र में 39 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। विगत वर्ष में प्रदेश द्वारा 01 लाख 14 हजार करोड़ रुपए का निर्यात किया गया, जो पूर्व वर्ष के निर्यात से 28 प्रतिशत अधिक है। उन्होंने कहा कि महापुरुषों के आदर्शों व मानकों को अपने आचरण में उतारते हुए उनके दिखाए मार्ग पर चलते हुए, उनके सपने को साकार करने के लिए निरन्तर कार्य करना ही महापुरुषों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।


समारोह के दौरान उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग की नवीन वेबसाइट का लोकार्पण किया गया। इस वेबसाइट की सहायता से जनसामान्य को गो सेवा आयोग के कार्यकलाप के सम्बन्ध में अद्यतन जानकारी सुलभ होगी। वेबसाइट पर शिकायतों के निस्तारण के लिए विशेष लिंक उपलब्ध करवाया गया है, जिस पर गोपालक व गोप्रेमी सूचना व शिकायत प्रदान कर सकते हैं।



इससे पूर्व, राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने 151 बच्चों द्वारा निर्मित महात्मा गांधी जी के जीवन पर आधारित पोर्टेट, क्ले द्वारा निर्मित मूर्तियों, 151 फीट कैनवास पर 'मोहन से महात्मा तक' चित्रांकन एवं प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उत्तर प्रदेश राजकीय अभिलेखागार द्वारा प्रकाशित महात्मा गांधी पर आधारित पुस्तक 'शिक्षा धर्म' का विमोचन किया गया। राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को चरखा एवं शॉल भेंटकर स्वागत किया। इस अवसर पर पद्मश्री मालिनी अवस्थी द्वारा महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि स्वरूप नृत्य नाटिका 'सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह तक' का मंचन किया गया। नृत्य नाटिका में देश के स्वतंत्रता आन्दोलन में अंग्रेजों द्वारा प्रतिबन्धित गीतों एवं देश की युद्ध कला पर आधारित नृत्यों का प्रस्तुतिकरण हुआ। समारोह में खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, पंचायतीराज मंत्री भूपेन्द्र सिंह चौधरी, पर्यटन, संस्कृति एवं धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 नीलकण्ठ तिवारी, खेल, युवा कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी, उ0प्र0 गोसेवा आयोग के अध्यक्ष श्याम नंदन सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव संस्कृति एवं पर्यटन जितेन्द्र कुमार, निदेशक सूचना, संस्कृति एवं भाषा शिशिर, बैंक ऑफ बड़ौदा के प्रबन्ध निदेशक पी0एस0 जयकुमार सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं विभिन्न योजनाओं के लाभार्थीगण उपस्थित थे।