मनोज पांडे रेलवे बोर्ड के सदस्य (स्टाफ) नियुक्त


नई दिल्ली। मनोज पांडे, भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा (आईआरपीएस) (1981 सीएस परीक्षा) ने 2 नवम्‍बर, 2019 को रेलवे बोर्ड के सदस्‍य (स्‍टाफ) और भारत सरकार के पदेन सचिव के रूप में पदभार ग्रहण कर लिया। इससे पहले मनोज पांडे रेलवे बोर्ड के महानिदेशक (कार्मिक) के तौर पर कार्यरत थे। श्री पांडे ने अपने लम्‍बे करियर के दौरान रेलवे में विभिन्‍न महत्‍वपूर्ण पदों पर काम किया है। इसकी शुरुआत मध्‍य रेलवे से हुई और बाद में उन्‍होंने डीजल लोकोमोटिव वर्क्‍स, पश्चिमी रेलवे, पश्चिम-मध्‍य रेलवे, दक्षिण-मध्‍य रेलवे और दक्षिण-पूर्वी रेलवे में भी विभिन्‍न महत्‍वपूर्ण पदों पर काम किया। श्री पांडे तीन विभिन्‍न जोनल रेलवे यथा पश्चिमी-मध्‍य, दक्षिण-मध्‍य रेलवे और दक्षिण-पूर्वी रेलवे में 12 वर्षों से भी अधिक समय तक प्रधान मुख्‍य कार्मिक अधिकारी के पद पर कार्यरत थे। श्री पांडे जनवरी, 2017 में अतिरिक्‍त सदस्‍य (स्‍टाफ) के रूप में अपनी पदोन्‍नति से पहले रेलवे बोर्ड में कार्यकारी निदेशक/सलाहकार (प्रशिक्षण एवं एमपीपी) थे। श्री पांडे को नये प्रभाग (भोपाल) के पहले प्रभागीय कार्मिक अधिकारी और नई रेलवे (पश्चिमी-मध्‍य रेलवे) के प्रथम मुख्‍य कार्मिक अधिकारी के तौर पर कार्य करने की विशिष्‍ट उपलब्धि भी प्राप्‍त है। इन सभी पदों पर प्रक्रियाओं का सरलीकरण किया गया। इसके अलावा कर्मचारियों के कल्‍याण से जुड़ी कई पहल की गईं। श्री पांडे दिल्‍ली स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स से अर्थशास्‍त्र में स्‍नातकोत्‍तर, एमबीए (मानव संसाधन में विशेषज्ञता) और एलएलबी हैं तथा उन्‍होंने जेएनयू से रूसी भाषा में डिप्‍लोमा प्राप्‍त किया है। उन्‍हें रेलवे की धरोहर एवं इतिहास में विशेष दिलचस्‍पी है और उन्‍होंने इस विषय पर अनेक लेख लिखे हैं। श्री पांडे केबीसी 2007 में 50 लाख रुपये के विजेता भी रह चुके हैं।  


Popular posts from this blog

माध्यमिक विद्यालयों को प्रान्तीयकृत किये जाने के सम्बन्ध में नीति निर्धारण

कोतवाली में मादा बंदर ने जन्मा बच्चा

रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रखा जाए : मुख्यमंत्री