दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री ने उत्कृष्ट अंक प्राप्त बच्चों को किया पुरस्कृत

卐 उत्कृष्ट कार्यों के लिए दिव्यांगों को राज्य स्तरीय पुरस्कार से किया गया सम्मानित।

 

卐 प्रदेश सरकार दिव्यांगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए प्रयासरत है - अनिल राजभर



लखनऊ। विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर मंगलवार को पूरी दुनिया, देश तथा प्रदेश में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से दिव्यांगों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। प्रदेश सरकार भी दिव्यांगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए प्रयासरत है और निरन्तर चल रही योजनाओं के माध्यम से लगभग 10 लाख लोगों को लाभ पहुंँचाया जा रहा है। यह बात दिव्यांगजन सशक्तीकरण एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री अनिल राजभर ने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के मार्स सभागार में आयोजित 'विश्व दिव्यांग दिवस' के अवसर पर राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान कही।


श्री राजभर ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने 21 प्रकार की दिव्यांगता को परिभाषित किया है। इससे देश में दिव्यांगों को आगे बढ़ने में बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। उन्होंने दिव्यांगजन विभाग की प्रशंसा करते हुए कहा कि विभाग जिस प्रकार से कार्यक्रमों को धरातल पर उतार रहा है, वह सराहनीय है। इससे दिव्यांगों का मनोबल बढ़ेगा और वे बढ़-चढ़ कर सभी क्षेत्रों में प्रतिभाग करेंगे तथा अपनी प्रतिभा को पहचानेंगे। मंत्री ने कहा कि सरकार की योजनाएं तब तक सार्थक सिद्ध नहीं होंगी जब तक इनका भागीदार आमजन न हो। उन्होंने दिव्यांगता के क्षेत्र में कार्य करने वाली गैर सरकारी संस्थाओं को भी दिव्यांगों के जीवन को सरल बनाने के लिए प्रेरणास्रोत कहा। श्री राजभर ने कहा जिस प्रकार डाॅ शकुंतला मिश्रा विश्वविद्यालय के स्टेडियम का निर्माण व विस्तार हो रहा है, उसका उपयोग करके भविष्य में दिव्यांग खिलाड़ी विश्व स्तर पर देश तथा प्रदेश का नाम रोशन करेंगे। इसके साथ ही भविष्य में इस स्टेडियम में ओलम्पिक खेलों का आयोजन भी किया जा सके, इसके लिए प्रदेश सरकार प्रयास कर रही है। दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री ने कहा कि दिव्यांगता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्ति तथा संस्थाएं अपने सुझाव तथा मार्गदर्शन दें, जिससे सरकार दिव्यांगों को आगे बढ़ने तथा उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए बेहतर कदम उठा सके। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग को विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर उप राष्ट्रपति द्वारा उत्तर प्रदेश को 03 राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। अब प्रदेश को यह लक्ष्य निर्धारित करना है कि सभी बेहतर सुविधाओं के साथ सकारात्मक होकर कार्य करें जिससे भविष्य में उत्तर प्रदेश को देश में अधिक सम्मान तथा पुरस्कार प्राप्त हो सके। इस अवसर पर दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति डाॅ राजेन्द्र प्रसाद की जयंती पर उनको याद करते हुए पुष्पांजलि अर्पित की। इसके साथ ही विभागीय संस्थाओं व स्वैच्छिक संगठनों के माध्यम से दिव्यांग बच्चों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। मंत्री द्वारा चिन्हित दिव्यांगों को ट्राइसाईकिल, व्हीलचेयर, श्रवण यंत्र, ब्लाण्ड स्टिक तथा कृत्रिम अंग सहित कुल 38 उपकरण वितरित किये गये। इस अवसर पर दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग द्वारा चयनित उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों, संस्थाओं तथा जनपद को दिव्यांगजन सशक्तीकरण मंत्री द्वारा राज्य स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया तथा विभाग द्वारा संचालित विशेष विद्यालयों के शैक्षणिक सत्र 2018-19 मेें हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट की परीक्षा में उत्कृष्ट अंकों के साथ उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं को मेडल तथा प्रमाण पत्र वितरित किये। कार्यक्रम में निदेशक दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग अजीत कुमार, संयुक्त निदेशक अमित कुमार सिंह सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की