नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान में वन्यजीवों को ठंड से बचाने हेतु किये गये सभी जरूरी इंतजाम

卐 जलीय जीवों हेतु पानी में डाली गयी दवा और समय-समय पर बदला जा रहा पानी।


लखनऊ। नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान के निदेशक, आर के सिंह ने कहा कि लगातार बढ़ रही ठंड को देखते हुये प्राणि उद्यान में जानवरों के रहने की व्यवस्था से लेकर उनके खाने-पीने की पूरी व्यवस्था की गयी है, ताकि जानवर ठंड से बीमार न पड़े। उन्होंने कहा कि जिन जानवरों को ठंड में हीटर आदि की आवश्यकता है, उनके बाड़ों में हीटर लगाये गये हैं। श्री सिंह ने बताया कि घड़ियाल, कछुआ, मगरमच्छ समेत पानी में रहने वाले वन्यजीवों के लिये अलग व्यवस्था की गयी है। उनको कोई बीमारी न हो, इसके लिये पानी में दवा डाली गयी है। इसके साथ ही समय-समय पर पानी भी बदला जा रहा है। इसके अतिरिक्त जानवरों एवं पक्षियों पर बराबर निगरानी भी रखी जा रही है। साथ ही वन्यजीवों को खाने के साथ विटामिन्स, मिनरल्स और कैल्शियम की अतिरिक्त मात्रा भी दी जा रही है। प्राणि उद्यान के पशु चिकित्सक, डाॅ अशोक कश्यप ने विस्तार से जानकारी देते हुये बताया कि जानवरों को ठंड के मौसम से बचाने के लिये चिड़ियाघर प्रशासन की तरफ से सभी जरूरी इंतजाम किये गये हैं। उन्होंने बताया कि छत से ओस और ठंडी हवाओं को रोकने के लिये बाड़ों में ग्रीन शीट लगायी गयी है। इसके साथ ही जानवरों को धूप मिले, इसके लिये पेड़ों की छंटाई भी करायी गयी है। डाॅ कश्यप ने बताया कि सर्दी के मौसम में शाकाहारी-मांसाहारी जानवरों के खान-पान पर भी विशेष ध्यान रखा जाता है। शाकाहारी जानवरों के लिये साग, सब्जी, फल और फली की मात्रा बढ़ाई गयी है। वहीं मांसाहारी जानवरों के लिये पूर्व से ज्यादा मीट दिये जाने की व्यवस्था की गयी है। उन्होंने बताया कि वन्यजीवों को सर्दियों से बचाने के लिये 30-40 हीटर का इंतजाम किया गया है। इसके साथ ही अस्पताल में रह रहे वन्यजीवों के पिंजरों में भी हीटर की व्यवस्था की गयी है।

Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की