21 वीं सदी में भारत के लिए गगनयान एक ऐतिहासिक उपलब्धि होगी: पीएम

> नए दशक के अपने पहले मन की बात में मिशन पर चर्चा की।



नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन)। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने नए साल और नए दशक के अपने पहले मन की बात में 'गगनयान' मिशन पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि 2022 में भारत के आजादी के 75 वें वर्ष के जश्न के रूप में देश को 'गगनयान मिशन' के माध्यम से एक भारतीय को अंतरिक्ष में ले जाने का संकल्प पूरा करना है। उन्होंने कहा, 21 वीं सदी में भारत के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में गगनयान मिशन एक ऐतिहासिक उपलब्धि होगी। यह न्यू इंडिया के लिए मील का पत्थर साबित होगा। प्रधानमंत्री ने भारतीय एयरफोर्स के चार पायलटों की प्रशंसा की, जिन्हें मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्री के रूप में चुना गया है और रूस में उनका प्रशिक्षण प्रारम्भ होगा। ये होनहार युवा भारत के कौशल, प्रतिभा, क्षमता, साहस और सपनों का प्रतीक हैं। हमारे चार दोस्त कुछ दिनों में अपने प्रशिक्षण के लिए रूस जाने वाले हैं। मुझे विश्वास है कि यह भारत-रूस मित्रता और सहयोग में एक और स्वर्णिम अध्याय लिखेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक वर्ष से अधिक समय तक उनके प्रशिक्षण के बाद, वे राष्ट्र की आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा करने और अंतरिक्ष में उड़ान भरने की जिम्मेदारी संभालेंगे। उन्होंने कहा, गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर, मैं इन चार युवाओं और इस मिशन से जुड़े भारतीय और रूसी वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को बधाई देता हूं।


Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ0प्र0 सरकारी सेवक (पदोन्नति द्वारा भर्ती के लिए मानदण्ड) (चतुर्थ संशोधन) नियमावली-2019 के प्रख्यापन को मंजूरी

स्वामित्व योजना के कार्यान्वयन के लिए उ प्र आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली, 2020 के प्रख्यापन के प्रस्ताव को स्वीकृति