बालिकाओं को दी विधिक जानकारी


कानपुर (का ० उ ० सम्पादन)। बीते बुधवार 1 जनवरी को गर्ल्स चाइल्ड डे के अवसर पर राजकीय महिला शरणालय स्वरुप नगर में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर चिंता राम (सचिव, जिला विधिक सेवा अधिकरण, कानपुर नगर), योगेश कुमार चौधरी (अपर सिविल जज जूनियर डिवीज़न), कु० धारू नन्द (अपर सिविल जज जूनियर डिवीज़न), कु० स्नेहा सिंह (अपर सिविल जज जूनियर डिवीज़न), शिवेंद्र पांडेय (वरिष्ठ अधिवक्ता), नागेंद्र (अधिवक्ता), सीमा सक्सेना (अधीक्षिका, स्टाफ, ज़िला विधिक सेवा प्राधिकरण, कानपुर नगर एवं अन्य ने भाग लिया। सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कानपुर नगर द्वारा उपस्थित सभी बालिकाओं को बताया गया कि जिला विधिक सेवा अपराधीकरण का मुख्य उद्देश्य लोगों को जानकारी देना है। इसलिए अलग अलग दिवसों पर शिविर का आयोजन किया जाता है। इस बार यह आयोजन बालिका दिवस के अवसर पर किया गया। यदि महिलाओं और बालिकाओं को कोई परेशानी है तो उसे अपने परिजनों और हितैषियों से साझा अवश्य करें। शिविर में यह भी अवगत कराया गया कि  भी व्यवस्था की गई है कि गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग परीक्षण बंद हो एवं शिक्षा के क्षेत्र में बालिकाओं की उपलब्धियों से भी अवगत कराया, यह भी बताया गया कि कानून में यह व्यवस्था भी की गई है कि 6 वर्ष से 14 वर्ष तक के बच्चों ो निशुल्क शिक्षा अर्जित कराना यह प्रत्येक माता पिता  का मौलिक कर्तव्य है। प्रत्येक माता पिता का यह कर्तव्य है कि वे बेटा व बेटी में कोई भेद न करें। उपस्थित बालिकाओं को दहेज़ के विरोध अधिनियम के बारे में जानकारी दी गई। शिवेंद्र पांडेय, वरिष्ठ अधिवक्ता द्वारा उपस्थित बालिकाओं को उनके व्यवहारिक ज्ञान एवं संविधान में जाति, लिंग का कोई भेद नहीं है, सभी को गरिमामयी जीवन जीने का अधिकार है, से अवगत कराया गया और साथ ही जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा दी जाने वाली सेवाओं से अवगत कराया।  


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की