आईआईटी कानपुर सीसीई द्वारा आयोजित सांख्यिकीय तकनीकों और आर सॉफ्टवेयर पर कार्यशाला का समापन


कानपुर (का ० उ ० सम्पादन)। आईआईटी कानपुर में सेंटर फ़ॉर कंटीन्यूइंग एजुकेशन (सीसीई) ने 10 -14 फरवरी, 2020 के दौरान सांख्यिकीय तकनीकों और आर सॉफ्टवेयर (एसटीएआरएस-2020) पर एक अल्पकालिक कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला का संचालन प्रो शलभ, गणित और सांख्यिकी विभाग, और प्रो एम ए रहमान, आर्थिक विज्ञान विभाग ने प्रतिभागियों के लिए सांख्यिकीय मॉडलिंग (एक मध्यवर्ती स्तर पर), डेटा खनन और फिटिंग सांख्यिकीय मॉडल वास्तविक सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों में डेटा के लिए आर सॉफ्टवेयर का उपयोग के बारे में अधिक जानने के लिए किया था। कार्यशाला में आर सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हुए सांख्यिकीय उपकरणों के उपयोग पर चर्चा की गई जो सबसे लोकप्रिय सॉफ्टवेयर में से एक है। आर सॉफ्टवेयर का एक फायदा यह है कि यह एक मुफ्त सॉफ्टवेयर है। तो एक आम छात्र और व्यक्ति इसका उपयोग बिना किसी शुल्क के कर सकते हैं। आईआईटी कानपुर के प्रो शलभ और प्रो रहमान इस कार्यशाला के मुख्य वक्ता थे। सांख्यिकी विभाग, म्यूनिख विश्वविद्यालय (जर्मनी) के प्रो क्रिश्चियन ह्यूमन ने भी सत्रों में व्याख्यान दिया और अपने बहुमूल्य आदानों को साझा किया। यह कार्यशाला किसी भी दिए गए डेटा की बेहतर समझ के लिए सांख्यिकीय मॉडल को लागू करने में रुचि रखने वाले लोगों के लिए फायदेमंद थी। आर सॉफ्टवेयर की समझ आम व्यक्ति को महंगे सॉफ्टवेयर की लागत की चिंता किए बिना उसका उपयोग करने और सांख्यिकीय विश्लेषण करने में मदद करती है। प्रो शलभ ने पहले ही आर सॉफ्टवेयर और सांख्यिकी पर एमएचआरडी के 'स्वयं मंच' पर एमओओसी व्याख्यान दिए हैं। सांख्यिकी और आर सॉफ्टवेयर पर उनका अगला 8 सप्ताह का पाठ्यक्रम 24 फरवरी 2020 से शुरू हो रहा है।

Popular posts from this blog

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की