गांवों को संक्रमण से बचाने में जन सहयोग की है प्रबल आवश्यकता : उप मुख्यमंत्री

> उप मुख्यमंत्री ने प्रयागराज के जनप्रतिनिधियों के साथ कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत वेबिनार के जरिए वार्ता की। 


> श्रमिकों का श्रम विभाग में पंजीयन कराने में सहयोग प्रदान करें जन प्रतिनिधि : उप मुख्यमंत्री



लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि कोरोना संकटकाल को हमें अवसर के रूप में बदलना है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लोगों को समय और परिस्थिति के अनुसार अपनी जीवन शैली बदलने की आवश्यकता है। उप मुख्यमंत्री शुक्रवार 22 मई को अपने आवास 7 कालिदास मार्ग से प्रयागराज महानगर के जनप्रतिनिधियों के साथ कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत वेबिनार के जरिए वार्ता कर रहे थे तथा उनकी समस्याएं सुन रहे थे। उप मुख्यमंत्री ने उनके बहुमूल्य सुझाव भी लिए। जनप्रितिनिधियों द्वारा रखी गई समस्याओं का संज्ञान लेते हुए उन्होंने कहा कि सामाजिक दूरी को बनाए रखने के साथ समस्याओं का यथा संभव समाधान हर हाल में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार जनता की समस्याओं को समझ रही है और पूरी प्रतिबद्धता के साथ जनता के साथ खड़ी है। श्री मौर्य ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के साथ नगरों में भी आर्थिक गतिविधियां तेज करने पर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मा प्रधानमंत्री जी की मंशा के अनुरूप हमें जन से लेकर जग की नीति पर चलना है। उन्होंने कहा कि औद्योगिक गतिविधियां भी चालू की जा रही हैं। विदेशी कंपनियों को भी उत्तर प्रदेश में लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। भारी संख्या में कुशल अथवा अकुशल मजदूर आये हैं अथवा आ रहे हैं, इसलिए गांवों को संक्रमण से बचाना, सबसे बड़ी चुनौती है और इसमें जन सहयोग की प्रबल आवश्यकता है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से अपील की है कि वह जन चेतना के अग्रदूत बनकर जनसेवा के कार्य में सरकार का भरपूर सहयोग प्रदान करें। श्री मौर्य ने कहा कि जिन औद्योगिक संस्थानों को चालू किया जा रहा है, उनमें स्पेशलिस्ट कामगारों से मदद ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि सभी की समस्याओं का संज्ञान लिया गया है, सरकार द्वारा इस संबंध में गाइडलाइन्स का पालन करते हुए सकारात्मक व सार्थक हल निकालने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है। उप मुख्यमंत्री ने सभी लोगों के सुझावों को गंभीरतापूर्वक सुना और आश्वासन दिया कि सभी लोगों की समस्याओं का कोई न कोई सार्थक व सकारात्मक हल निकालने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अन्य प्रदेशों से केवल मजदूर ही नहीं आए हैं, बल्कि बहुत प्रतिभावान बच्चे व विभिन्न कामों के विशेषज्ञ, कलाकार, डॉक्टर ,वैज्ञानिक भी आए हैं। हमें उनकी प्रतिभा का भरपूर उपयोग करते हुये उन्हें काम देना है। हम इनकी प्रतिभा और कौशल के आधार पर उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने में कामयाब होंगे और इस दिशा में सरकार गंभीर प्रयास कर रही है। उत्तर प्रदेश में भारी संख्या में निवेश कराने के प्रयास चल रहे हैं, जिससे शिक्षित व प्रतिभाशाली लोगों को भी उनकी प्रतिभा के अनुसार काम मिल सके। श्री मौर्य ने कहा की राजस्व की पूर्ति के साथ, जीवन रक्षा जरूरी है और सभी परिस्थितियों को संतुलित रखते हुए राज्य सरकार कार्य कर रही है। भारत सरकार द्वारा दिये गए आर्थिक पैकेज से आर्थिक गैप को भरने में बहुत मदद मिल रही है। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि हम मा प्रधानमंत्री जी की मंशा के अनुरूप आत्मनिर्भर भारत बनाने में हम ज़रूर सफल होंगे। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से अपेक्षा की कि जिन लोगों के राशन कार्ड अभी तक नहीं बन पाए हैं, उनके राशन कार्ड बनवाने में व श्रमिकों का श्रम विभाग में पंजीयन कराने में सहयोग प्रदान करें। उन्होंने जोर देते हुए कहा की खाद्यान्न के गोदामों पर नोडल अधिकारी जरूर मौजूद रहें। सभी लोग मास्क का प्रयोग जरूर करें। ट्रेनों से उतरने वाले लोगों की थर्मल स्कैनिंग कराने में जनप्रतिनिधि सहयोग प्रदान करें। बाहर से सीधे आए लोगों का भी डेटाबेस तैयार कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वार्डवार जो निगरानी समितियां बनाई गई हैं, वह आने वाले लोगों की जानकारी करें तथा प्रशासन को सूचित करें। उन्होंने कहा कि लोगों से अपील की जाए कि बाजार में अनिवार्य आवश्यकता होने पर ही निकलें।


Popular posts
मुख्यमंत्री योगी ने मकर संक्रांति और खिचड़ी पर्व पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी
Image
केरल की जीवन रेखा एनएच 66 को चौड़ा करने के परिणामस्वरूप अन्य बुनियादी ढांचे का भी विकास होगा
Image
ऋषिकुल योगपीठ एवं आईएनओ द्वारा ऑनलाइन योगासन स्पोर्ट्स प्रतियोगिता एवं प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम आयोजित
Image
कोविड-19 की वर्तमान स्थिति के परिप्रेक्ष्य में आईसीयू बेड्स की संख्या आवश्यकतानुसार बढ़ाई जाए : मुख्यमंत्री
Image
आगामी 08 दिसम्बर को प्रस्तावित बन्द के सम्बन्ध में किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से वार्ता की जाए : योगी आदित्यनाथ