राजकीय निर्माण निगम की अपनी एक अलग साख और प्रसिद्धि है : केशव प्रसाद मौर्य
राजकीय निर्माण निगम के 73 कार्य प्रारम्भ किए गए : यू के गहलोत

 

卐 उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने राजकीय निर्माण निगम के सभी अंचलों से अंचलवार शुरू कराए गए कार्यों की जानकारी हासिल की।

卐 श्रमिकों के रहने व खाने के स्थान पर सफाई व सोशल डिस्टेंसिग पर रखी जाए पैनी नजर : उप मुख्यमंत्री 

卐 साइट पर मजदूरों के लिए शौचालय पर्याप्त मात्रा में बनवाए जाएं : उप मुख्यमंत्री 

卐 आने वाले समय के कार्यों की ठोस कार्य योजना अभी से तैयार कर ली जाए : उप मुख्यमंत्री

卐 जिन श्रमिकों का श्रम विभाग में रजिस्ट्रेशन अभी न हो पाया हो, उनका रजिस्ट्रेशन करा लिया जाए : उप मुख्यमंत्री 

卐 निर्माण कार्यों में आड़े आने वाली गंभीर समस्याओं की सूचना मुख्यालय में दें : उप मुख्यमंत्री 

卐 कराए जा रहे कार्यों को सुरक्षा ऐप पर हर हाल में अपलोड करें : उप मुख्यमंत्री 

 


 

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि राजकीय निर्माण निगम के कार्यों को 2 शिफ्टों में यदि कराया जाए तो बेहतर होगा। इससे सोशल डिस्टेंसिग बनाए रखने में मदद मिलेगी। एक शिफ्ट के बाद जब दूसरी शिफ्ट काम शुरु करे तो उसमें 1 घंटे का अंतर रहना चाहिए ताकि  अनावश्यक रूप से भीड़ एकत्र न होने पाए। श्री मौर्य सोमवार 4 मई को लोक निर्माण विभाग मुख्यालय में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उ प्र राजकीय निर्माण निगम के प्रदेश और प्रदेश से बाहर संचालित कार्यों का फीडबैक ले रहे थे। इस दौरान उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को व्यापक दिशा निर्देश दिए। श्री मौर्य ने निर्देश दिए कि सोशल डिस्टेंसिग और भारत सरकार की गाइडलाइन्स का हर हाल में पालन किया जाए। उन्होंने कहा कि मजदूरों की थर्मल स्कैनिंग कराई जाए तथा वहाँ पर सैनिटाइजर की व्यवस्था हर हाल में करें। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी सुरक्षा मानकों का पालन अनिवार्य रुप से किया जाए। उन्होंने कहा कि साइट पर मजदूरों को अंगौछा, मास्क, साबुन व पानी की समुचित व्यवस्था की जाए तथा शौचालय पर्याप्त मात्रा में बनवाए जाएं। श्रमिकों के रहने व खाने के स्थान पर सफाई व सोशल डिस्टेंसिग पर पैनी नजर रखी जाए। उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट मैनेजर लगातार साइटों का निरीक्षण करें। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में अधिक से अधिक काम कराने के लिए ठोस व प्रभावी कार्य योजना अभी से तैयार कर ली जाए तथा जहाँ पैसे की डिमांड हो, उसकी मांग भी कर ली जाए। उन्होंने सभी अंचलों से अंचलवार शुरू कराए गए कार्यों की जानकारी हासिल की। उत्तर प्रदेश सहित देहरादून, पटना, दिल्ली व बंगलौर अंचलों के तहत प्रदेश व प्रदेश के बाहर कराए जा रहे कार्यों के बारे में भी संबंधित अधिकारियों से जानकारी हासिल की। उन्होंने कहा कि राजकीय निर्माण निगम ऐसी संस्था है जिसकी एक अपनी अलग साख और प्रसिद्धि है। इस साख को हमें हर हाल में बनाए रखना है और कोरोना संकटकाल को अवसर के रूप में बदलना है। उन्होंने कहा कि इस समय कार्य करना चुनौतीपूर्ण व जिम्मेदारी भरा काम है लेकिन हम सबको मिलकर कार्य के मामले में कीर्तिमान स्थापित करना है और भारत सरकार की गाइडलाइन्स का पालन भी सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि यह विशेष रुप से ध्यान रखा जाए कि शराब के नशे मे किसी को साइट पर कतई न जाने दिया जाए और न ही कोई मजदूर शराब का वहाँ सेवन करने पाए। उन्होंने कहा पान मसाला, गुटखा व खैनी खाना साइट पर पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। उन्होंने कहा कि साइटों पर मेटों की ड्यूटी सही तरीके से लगाई जाए। जहाँ पर नए कार्य कराए जाने हैं, अगर वहां पैसे की कोई कमी हो तो मुख्यालय को सूचित किया जाए। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमण के बचाव हेतु सभी साइटों पर पोस्टर लगाए जाएँ और श्रमिकों को जागरूक किया जाए। ठेकेदारों से समन्वय बनाकर काम किया जाए तथा ठेकेदारों की कोई समस्या हो तो उसे भी संज्ञान में लिया जाए और उसका निराकरण करना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि जिन श्रमिकों का श्रम विभाग में रजिस्ट्रेशन अभी न हो पाया हो, उनका रजिस्ट्रेशन करा लिया जाए।  वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान उन्होंने प्रत्येक अंचल के अधिकारी से बात करते हुए कहा कि किसी को कोई समस्या हो तो वह निःसंकोच अवगत कराएं। जो समस्या स्थानीय स्तर पर हल होने वाली हो उसका समाधान निकालें और यदि और कोई बड़ी समस्या आ रही हो तो मुख्यालय को अवगत कराएं। उन्होंने निर्देश दिए कि सुरक्षा ऐप व आरोग्य सेतु ऐप सभी अधिकारी व कर्मचारी डाउनलोड करें तथा कराए जा रहे कार्यों को सुरक्षा ऐप में हर हाल में अपलोड करें। राजकीय निर्माण निगम के प्रबंध निदेशक यू के गहलोत ने बताया की राजकीय निर्माण निगम द्वारा लगभग 1050 करोड़ रुपए के काम उत्तर प्रदेश में तथा लगभग 1250 करोड़ रुपये के काम उत्तर प्रदेश के बाहर अन्य प्रांतों में प्रस्तावित हैं। कुल 167 कामों में 117 का सर्वेक्षण कर लिया गया है और 73 कार्य शुरू कर दिए गए हैं। इस अवसर पर प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग नितिन रमेश गोकर्ण, सचिव लोक निर्माण विभाग रंजन कुमार, विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग राजीव रतन सिंह, प्रबंध निदेशक राजकीय निर्माण निगम यू के गहलोत, विशेष कार्याधिकारी प्रदीप कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।