ठेकेदारों को राहत


ठेकेदार की लागत के बिना सभी केंद्रीय एजेंसियों (जैसे रेलवे, सड़क परिवहन और राजमार्ग, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग, आदि) द्वारा 6 महीने तक का विस्तार प्रदान किया जाएगा। निर्माण कार्यों,  माल और सेवाओं के अनुबंधों को भी यह प्रावधान शामिल करता हैकाम पूरा होना, इंटरमीडिएट माइलस्टोन इत्यादि जैसे दायित्वों और पीपीपी अनुबंधों में रियायत अवधि का विस्तार भी प्रावधान में शामिल है। सरकारी एजेंसियां आंशिक रूप से बैंक गारंटी जारी करेंगी, इस हद तक कि अनुबंध आंशिक रूप से पूरे हो जाएंगे जिससे नकदी प्रवाह में आसानी होगी।


Popular posts from this blog

माध्यमिक विद्यालयों को प्रान्तीयकृत किये जाने के सम्बन्ध में नीति निर्धारण

कोतवाली में मादा बंदर ने जन्मा बच्चा

रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रखा जाए : मुख्यमंत्री