महिला आयोग ने 'गोरखपुर में नाबालिग के साथ हैवानियत' घटना विषयक समाचार का लिया स्वतः संज्ञान


लखनऊ। सोमवार 17 अगस्त 2020 को उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष, सुषमा सिंह ने जिलाधिकारी गोरखपुर एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, गोरखपुर को नोटिस भेजकर सोशल मीडिया व अन्य मीडिया माध्यमों पर प्रसारित समाचार 'गोरखपुर में नाबालिग के साथ हैवानियत' घटना विषयक समाचार का स्वतः संज्ञान लेकर रिपोर्ट तलब की एवं घटना पर खेद प्रकट किया गया, साथ ही निर्देशित किया कि पीडि़ता का समुचित उपचार एवं नियमानुसार आर्थिक व्यवस्था उपलब्ध कराते हुये दोषियों के विरूद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही कर सूचना का सम्पूर्ण विवरण एवं कृत कार्यवाही की अद्यतन आख्या से 24 घण्टे में उपलब्ध करायें। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह द्वारा घटना को शर्मनाक एवं निंदनीय बताकर नाराजगी प्रकट की गयी है व कहा गया कि प्रदेश में महिला उत्पीड़न की घटनाओं का आयोग में किसी भी माध्यम से संज्ञान में आने पर उ प्र राज्य महिला आयोग द्वारा संबंधित जनपद से तत्काल पत्राचार अथवा नोटिस भेजकर सक्षम अधिकारी से दूरभाष पर वार्ता कर त्वरित कार्यवाही कर पीडि़ता एवं पीडि़त परिवार को तत्काल न्याय दिलाये जाने का कार्य किया जाता है। महिलाओं एवं बालिकाओं को सुरक्षा दिलाये जाने हेतु उ प्र राज्य महिला आयोग निरन्तर प्रयासरत है। महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा से संबंधित हर कदम आयोग गम्भीरता से उठा रहा है। किसी भी घटनाक्रम का संज्ञान में आने के पश्चात्, आयोग किसी भी प्रकार की लापारवाही बर्दाश्त नहीं करेगा। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश में महिला उत्पीड़न की रोकथाम हेतु एवं प्रभावी कार्यवाही करने के दिशा-निर्देश निरन्तर जारी किये जाने के उपरान्त भी ऐसी घटनाओ का संज्ञान में आना अत्यन्त खेदजनक बताया।