जेवर एयरपोर्ट के निर्माण हेतु कंसेशन एग्रीमेंट हस्ताक्षरित किये जाने के प्रस्ताव को मंजूरी

> जेवर एयरपोर्ट क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले लोक निर्माण विभाग एवं ऊर्जा विभाग की परिसम्पत्तियों से सम्बन्धित कार्यों को उनके विभागीय बजट से वहन किया जाएगा


> जेवर एयरपोर्ट की बिड वैलिडिटी की अवधि में विस्तार किये जाने के प्रस्ताव को मंजूरी, नागरिक उड्डयन विभाग के आदेश पर मंत्रिपरिषद द्वारा कार्योत्तर अनुमोदन प्रदान किया गया।



लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की अध्यक्षता में उनके सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए जिनमें मंत्रिपरिषद ने नोएडा इण्टरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट जेवर के निर्माण हेतु कंसेशन एग्रीमेंट हस्ताक्षरित किये जाने हेतु और मलेशिया एवं भारत और स्विट्जरलैण्ड के मध्य अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानें प्रारम्भ होने (जो भी बाद में हों) से 45 दिनों के समय के साथ ही भारत में मैनडेटरी क्वारंटाइन की अवधि को सम्मिलित करते हुए अथवा दिनांक 15 अक्टूबर, 2020, जो भी पहले हो, तक समय विस्तार तथा बिड वैलिडिटी तथा सिक्योरिटी की अवधि जो दिनांक 24 अक्टूबर, 2020 तक थी उसे दिनांक 31 मार्च, 2021 तक बढ़ाये जाने के प्रस्ताव पर अनुमोदन प्रदान किया गया। मंत्रिपरिषद द्वारा नोएडा इण्टरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट जेवर की स्थापना हेतु एयरपोर्ट क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले लोक निर्माण विभाग एवं ऊर्जा विभाग की परिसम्पत्तियों / अन्य अवस्थापनाओं के विस्थापन / अवसंरचनाओं की स्थापना से सम्बन्धित कार्यों को उनके विभागीय बजट से वहन किये जाने के प्रस्ताव को भी अनुमोदित किया गया। ज्ञातव्य है कि मंत्रिपरिषद द्वारा 05 जून, 2018 की बैठक में लिये गये निर्णय के अनुसार नोएडा इण्टरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट जेवर का निर्माण पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड पर किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा एयरपोर्ट के निर्माण हेतु भूमि उपलब्ध करायी गयी है। पीपीपी मोड पर एयरपोर्ट के विकास के लिए ग्लोबल बिडिंग प्रक्रिया के माध्यम से विकासकर्ता का चयन किया गया। मंत्रिपरिषद की दिनांक 09 दिसम्बर, 2019 की बैठक में नोएडा इण्टरनेशनल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट जेवर के विकास हेतु प्रिफर्ड बिडर 'ज्यूरिख एयरपोर्ट इण्टरनेशनल एजी' को सेलेक्टेड बिडर के रूप में घोषित किये जाने तथा सेलेक्टेड बिडर को कण्डीशनल लेटर ऑफ अवार्ड निर्गत किये जाने हेतु अनुमोदन प्रदान किया गया है। चयनित विकासकर्ता को 16 दिसम्बर, 2019 को कण्डीशनल लेटर ऑफ अवार्ड निर्गत किया गया। चयनित विकासकर्ता को 18 मई, 2020 को तथा विकासकर्ता द्वारा गठित एसपीवी 'यमुना इण्टरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड' को 04 मई, 2020 को केन्द्रीय नागर विमानन मंत्रालय द्वारा सिक्योरिटी क्लियरेंस प्रदान की गयी। बिड डॉक्यूमेंट (आरएफक्यू कम आरएफपी) एवं कण्डीशनल लेटर ऑफ अवार्ड के अनुसार सिक्योरिटी क्लियरेंस की प्राप्ति के दिनांक से 45 दिन के अन्दर ही कंसेशन एग्रीमेंट हस्ताक्षरित किया जाना अनिवार्य है। सिक्योरिटी क्लियरेंस की दिनांक 18 मई, 2020 से 45 दिन की अवधि 02 जुलाई, 2020 को पूर्ण होती। 11 मार्च, 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोविड-19 को वैश्विक महामारी घोषित किया गया, जिसके कारण अन्तर्राष्ट्रीय उड़ान पर प्रतिबन्ध है। वर्तमान में कोविड-19 के प्रभाव के कारण अन्तर्राष्ट्रीय उड़ान बाधित होने की स्थिति में कंसेशन एग्रीमेंट हस्ताक्षरित करने के लिए समय विस्तारण हेतु मुख्य कार्यपालक अधिकारी यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण / सदस्य (सचिव) द्वारा अनुरोध किया गया। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में प्रोजेक्ट मॉनीटरिंग एण्ड इम्प्लीमेंटेशन कमेटी की 11 अगस्त, 2020 को सम्पन्न बैठक में कंसेशन एग्रीमेंट हस्ताक्षरित किये जाने हेतु समय विस्तार दिये जाने तथा बिड वैलिडिटी तथा सिक्योरिटी की अवधि जो 24 अक्टूबर, 2020 तक थी उसे 31 मार्च, 2021 तक बढ़ाये जाने पर विस्तृत चर्चा हुई। पीएमआईसी की संस्तुतियों के परिप्रेक्ष्य में नागरिक उड्डयन विभाग द्वारा पत्रांक 1418 दिनांक 14 अगस्त, 2020 के माध्यम से आदेश निर्गत किये गये। इस पर मंत्रिपरिषद द्वारा कार्योत्तर अनुमोदन प्रदान किया गया।