राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के प्रभावी कार्यान्वयन की है आवश्यकता


कानपुर। मंगलवार 8 सितम्बर 2020 को एसएन सेन बालिका विद्यालय पीजी काॅलेज के शिक्षाशास्त्र विभाग द्वारा "राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 : सकारात्मक भविष्य की ओर एक स्वागतयोग्य कदम" विषय पर ई-सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम औपचारिक आरम्भ के साथ प्राचार्या डॉ निशा अग्रवाल ने मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि, रिसोर्स पर्सन्स और सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। इसके पश्चात विशिष्ट अतिथि शुभ्रो सेन ने कहा कि नयी शिक्षा नीति युवा शिक्षा एवं रोजगारपरक शिक्षा के क्षेत्र में नवीन क्रांति लेकर आएगी। मुख्य अतिथि डॉ रिपुदमन सिंह (आरएचईओ कानपुर) ने नयी शिक्षा नीति पर व्यापक चर्चा की बात की, जिसमें इसके सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर बात की जा सके। पहले रिसोर्स पर्सन प्रो के सी वशिष्ठ ने कहा कि, यह नीति हमारी सामाजिक, सांस्कृतिक जड़ों से जुड़ी है। प्रो विजय जायसवाल ने कहा कि यह नीति एबीसी माॅडल के द्वारा विद्यार्थी की स्वायत्तता पर बल देती है। यह नीति एक बूम है, जिसके प्रभावी कार्यान्वयन की आवश्यकता है। डॉ महेश नारायण दीक्षित ने नयी शिक्षा नीति को गाँधी जी के बुनियादी शिक्षा से जोड़ा तथा कहा कि यह शिक्षा नीति गाँधी जी के 'हाथ, हृदय और मन की शिक्षा से समानता रखती है। अन्त में संयोजिका डॉ चित्रा सिंह तोमर ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया तथा कार्यक्रम के औपचारिक समापन की घोषणा की।


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की