रानी लक्ष्मीबाई सभागार के नवीनीकृत भवन का उद्घाटन

> राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) महिला कल्याण एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार ने महिला कल्याण विभाग के कानपुर एवं लखनऊ मण्डल तथा निदेशालय के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।


> कन्या सुमंगला योजना और विधवा पेंशन योजना का व्यापक प्रचार - प्रसार किया जाए : स्वाती सिंह


> जनपद के बाल गृहों का निरीक्षण नियमित रूप से करेें जिला प्रोबेशन अधिकारी : बाल विकास मंत्री


> महिला कल्याण एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा संचालित बाल गृहों एवं महिला शरणालयों आदि की समीक्षा की गई।



उत्तर प्रदेश की महिला कल्याण एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाती सिंह 30 सितम्बर 2020 को इन्दिरा भवन के सातवां तल पर स्थित रानी लक्ष्मीबाई सभागार के नवीनीकृत भवन का उद्घाटन करती हुईं।


लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश की महिला कल्याण एवं बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाती सिंह की अध्यक्षता में महिला कल्याण विभाग के कानपुर एवं लखनऊ मण्डल तथा निदेशालय के अधिकारियों के साथ इन्दिरा भवन के सातवां तल पर स्थित रानी लक्ष्मीबाई सभागार में विभागीय समीक्षा बैठक आयोजित की गई। जिसमें अशोक कुमार, विशेष सचिव महिला कल्याण, मनोज राय, निदेशक महिला कल्याण, निदेशालय के समस्त अधिकारियों व दोनों मण्डलों के उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारियों एवं जिला प्रोबेशन अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। इसके पूर्व स्वाती सिंह द्वारा रानी लक्ष्मीबाई सभागार के नवीनीकृत भवन का उद्घाटन भी किया गया। स्वाती सिंह ने महिला कल्याण से संबंधित जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि जन कल्याणकारी योजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर गंभीरता से लें तथा पात्र व्यक्तियों को योजनाओं से लाभान्वित करें। उन्होंने जनपद लखनऊ और कानपुर मंडल के जनपदों के जिला प्रोबेशन अधिकारियों से एक - एक कर योजनाओं की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि कन्या सुमंगला योजना और विधवा पेंशन योजना का व्यापक प्रचार - प्रसार किया जाए तथा तहसील दिवसों पर योजना से संबंधित काउंटर लगाकर पात्र व्यक्तियों को योजना से जोड़ा जाए तथा योजना से संबंधित किसी प्रकार की शिकायत या जिज्ञासा का समाधान भी किया जाए। सोशल प्लेटफार्म के माध्यम से लोगों से जुड़ने के लिए सभी जिला प्रोबेशन अधिकारियों को ट्विटर हैंडल बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही जिला प्रोबेशन अधिकारी अपने जनपद के बाल गृहों का निरीक्षण नियमित रूप से करेें। बैठक में महिला कल्याण मंत्री द्वारा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, निराश्रित महिला पेंशन योजना, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना, स्वधार योजना, उज्जवला योजना, वन स्टॉप सेन्टर योजना, तथा विभाग द्वारा संचालित बाल गृहों एवं महिला शरणालयों आदि की समीक्षा की गई। मंत्री जी द्वारा सभी अधिकारियों को मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना एवं निराश्रित महिला पेंशन योजना  के सभी पात्रों व्यक्तियों को समय से योजनाओं से लाभान्वित करने के निर्देश दिये गये तथा बाल विकास एवं पुष्टाहार सेवा विभाग के अधिकारियों से समन्वय स्थापित करते हुये पात्र व्यक्तियों के चयन हेतु सर्वे कार्य में आगनवाड़ी कार्यकत्रियों का सहयोग लिया जाये। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, निराश्रित महिला पेंशन योजना, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना के प्रचार - प्रसार हेतु जनपद के प्रमुख स्थलों पर होर्डिंग लगानेे के निर्देश दिये गये। इसके अतिरिक्त विभाग द्वारा संचालित बाल गृहों एवं महिला शरणालयों में कोविड से बचाव हेतु जारी किये गये निर्देशों का पालन किया जाये। महिलाओं हेतु एक ही छत के नीचे सभी योजनाओं का लाभ दिलाने हेतु संचालित वन स्टाप सेन्टर योजना के अन्तर्गत समस्त जनपदों में भवनों के निर्माण कार्य में तेजी लायी जाये।