देव दीपावली पर काशी के 15 घाटों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे

मुख्यमंत्री ने देव दीपावली कार्यक्रम को सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए


> प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम के दृष्टिगत पूरी काशी की विशेष सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की जाए : मुख्यमंत्री


> देव दीपावली के अवसर पर प्रधानमंत्री जी का आगमन हम सभी के लिए सौभाग्य की बात : मुख्यमंत्री




मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 27 नवंबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के देव दीपावली कार्यक्रम में प्रतिभाग किए जाने के क्रम में राजातालाब, खजुरी में होने वाली जनसभा की व्यवस्थाओं का निरीक्षण करते हुए।

 




प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम के दृष्टिगत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की गईं तैयारियों को लेकर अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ सर्किट हाउस सभागार, वाराणसी में बैठक करते हुए।

 


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 27 नवंबर 2020 को  श्री कशी विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना की समीक्षा के दौरान, साथ में हैं धर्मार्थ कार्य मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी। 




दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगामी 30 नवंबर को देव दीपावली पर्व पर वाराणसी के प्रस्तावित आगमन के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने शुक्रवार को वाराणसी का भ्रमण कर तैयारियों एवं व्यवस्थाओं का स्थलीय निरीक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा - निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने सर्वप्रथम प्रस्तावित जनसभा स्थल पहुंचकर वहां की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने लोगों के कार्यक्रम स्थल पर प्रवेश एवं निकास आदि के बारे में पूरी जानकारी ली। उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था के बारे में भी विस्तार से जानकारी लेते हुए पुख्ता एवं चाक - चैबंद सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित कराए जाने हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। इसके उपरांत योगी जी देव दीपावली पर्व के प्रस्तावित मुख्य कार्यक्रम स्थल पहुंचे और वहां आने वाले लोगों के बैठने, सुरक्षा व्यवस्था के साथ - साथ प्रधानमंत्री द्वारा किए जाने वाले दीपदान आदि कार्यक्रमों के बारे में अधिकारियों से पूरी जानकारी ली। तत्पश्चात उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर पहुंच कर वहां के निर्माण की प्रगति को देखा। मुख्यमंत्री ने देव दीपावली के दौरान आयोजित होने वाले लेजर शो स्थल का भी निरीक्षण किया।
तत्पश्चात मुख्यमंत्री ने सर्किट हाउस सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक कर आगामी 30 नवंबर को देव दीपावली पर्व पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रस्तावित वाराणसी आगमन से संबंधित अब तक की गई तैयारियों की समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने तैयारियों पर संतुष्टि व्यक्त करते हुए इस कार्यक्रम को सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए। काशी का राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विशेष महत्व है। बैठक में मण्डलायुक्त दीपक अग्रवाल ने पूरे कार्यक्रम की व्यवस्थाओं की तैयारियों की रूपरेखा प्रस्तुत की। इस अवसर पर प्रमुख सचिव संस्कृति एवं पर्यटन मुकेश कुमार मेश्राम ने अपने विभागीय कार्यों की रूपरेखा प्रस्तुत की।  मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी लम्बे अंतराल के बाद काशी आ रहे हैं। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का कार्य आगे बढ़ा है। अयोध्या के दीपोत्सव के उपरान्त काशी की देव दीपावली का भव्य कार्यक्रम और भी महत्वपूर्ण बन जाता है। काशी में धार्मिक, आध्यात्मिक, शैक्षणिक पर्यटन की दृष्टि से लोग आते हैं। यहां का संदेश पूरे विश्व में जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्यक्रम के दौरान कोविड-19 के सम्बन्ध में निर्धारित प्रोटोकाॅल के अनुपालन के लिए लोगों को पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लगातार जागरुक किया जाए, ताकि वे आवश्यक रूप से मास्क पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। स्वच्छता प्रधानमंत्री जी की प्राथमिकता है, अतः पूरी काशी की विशेष सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। योगी जी ने कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से हर स्तर पर सतर्कता रखी जाए। यह काशी का बहुत बड़ा आयोजन है। ट्रैफिक संचालन प्रभावी ढंग से किया जाए। जाम की स्थिति न बने, इसकी बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। देव दीपावली के अवसर पर प्रधानमंत्री जी का आगमन हम सभी के लिए सौभाग्य की बात है। कोरोना काल के दौरान प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में सदी का सबसे बड़ा आपदा प्रबंधन कार्य भारत में हुआ है, यह पूरा विश्व मान रहा है। उल्लेखनीय है कि देव दीपावली पर 15 घाटों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। घाटों पर दीप प्रज्ज्वलन किया जाएगा। इस अवसर पर आयोजित किए जा रहे समस्त कार्यक्रमों का सजीव प्रसारण होगा। इसके लिए जगह-जगह एलईडी लगेंगे। मुख्यमंत्री योगी के जनपद आगमन से पहले, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी तथा अपर मुख्य सचिव एमएसएमई एवं सूचना नवनीत सहगल ने वाराणसी में स्थलीय निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया तथा मौके पर मौजूद अधिकारियों को सुरक्षा व्यवस्था एवं अन्य व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा - निर्देश दिए।