कोरोना कालखण्ड में भी विंध्य क्षेत्र विकास से वंचित नहीं है : मुख्यमंत्री

विंध्य क्षेत्र में विकास की इतनी बड़ी परियोनजाएं पहले कभी नहीं आई


प्रधानमंत्री जी के प्रत्येक घर को पीने का पानी नल से उपलब्ध कराने के लक्ष्य को 2024 की जगह 2022 तक उ प्र की जनता के लिए पूरा करेंगे : गजेन्द्र सिंह शेखावत


> प्रधानमंत्री ने जल जीवन मिशन के अन्तर्गत विन्ध्य क्षेत्र के जनपद मीरजापुर और सोनभद्र की 5,555 करोड़ रु0 से अधिक की कुल 23 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं का वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के द्वारा शिलान्यास किया।


> परियोजनाओं के माध्यम से जनपद मीरजापुर तथा सोनभद्र के 2,995 राजस्व ग्राम की 41,41,438 जनसंख्या लाभान्वित होगी।


> यह धरती योगीराज मत्स्ययेन्द्र नाथ की साधना स्थली रही है, यहां का विकास करके ही व्यापक स्तर पर रोजगार उपलब्ध हो सकेगा : योगी आदित्यनाथ


> सोनभद्र में हवाई पट्टी का विस्तार किया जा रहा है, जिससे लोगों को हवाई यात्रा की बेहतर सुविधाएं प्राप्त हो सकेंगी : मुख्यमंत्री


> बिजली की पर्याप्त व्यवस्था करने के उद्देश्य से सोनभद्र में सौर ऊर्जा प्लाण्ट लगाया जा रहा है : मुख्यमंत्री



समुचित मात्रा में पानी मिले और उचित गुणवत्ता का पानी मिले, ताकि पीने का पानी लाने के अभिशाप से मुक्ति के साथ साथ स्वास्थ्य के स्तर में सुधार का भी हम एक बहुत बड़ा मुकाम हासिल कर सकें : गजेन्द्र सिंह शेखावत



प्राकृतिक सौंदर्य सोनभद्र में भरपूर है जिला प्रशासन ने इसके लिए कॉफी टेबल बुक बनाने की प्रक्रिया यहाँ पर प्रारम्भ कर दी है। एक एक चीज को उतर करके अगर हम देश और दुनिया के सामने रखने का प्रयास करेंगे कोई कारण नहीं आने वाले समय में यहां पर्यटन के साथ साथ  यहां के नागरिकों के लिए रोजगार की संभावनाओं को आगे बढ़ाने में हमें मदद मिलेगी। बस एक सकारात्मक पहल की आवश्यकता थी आज केन्द्र और प्रदेश सरकार उस पहल को आगे बढ़ाने का प्रयास कर रही है।


 - योगी आदित्यनाथ



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, जल शक्ति मंत्री उ प्र डॉ महेन्द्र सिंह, बेसिक शिक्षा राजयमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उ प्र डॉ सतीश द्विवेदी  22 नवंबर 2020 को जनपद सोनभद्र में विंध्य क्षेत्र हेतु पेयजल परियोजना का शिलान्यास करते हुए।  


दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने रविवार को जल जीवन मिशन के अन्तर्गत विन्ध्य क्षेत्र के जनपद मीरजापुर और सोनभद्र की 5,555 करोड़ रुपए से अधिक की कुल 23 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं का वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के द्वारा शिलान्यास किया। इनमें 09 पाइप पेयजल परियोजनाएं जनपद मीरजापुर तथा 14 पाइप पेयजल परियोजनाएं जनपद सोनभद्र की हैं। इन परियोजनाओं के माध्यम से जनपद मीरजापुर तथा सोनभद्र के 2,995 राजस्व ग्राम की 41,41,438 जनसंख्या लाभान्वित होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी जनपद सोनभद्र से इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल वर्चुअल रूप से इस कार्यक्रम में शामिल हुईं। जनपद सोनभद्र के आयोजन स्थल पर केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत तथा प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डाॅ महेन्द्र सिंह भी मौजूद रहे। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री जी ने कहा कि मां विन्ध्यवासिनी की विशेष कृपा है, जो लाखों परिवारों की भलाई के लिए शुद्ध पेयजल की योजना का शुभारम्भ हो रहा है। नल से जल हर घर पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सोनभद्र जिले के धंधरौल बांध के करमांव गांव में उपस्थित होकर पूरी टीम के साथ जो प्रयास किया है, वह प्रशंसनीय है। इससे पूर्व, प्रधानमंत्री जी ने महिला लाभार्थियों से संवाद भी किया। उन्होंने सोनभद्र जिले के एनआरएलएम समूह की गुरमुरा निवासी श्रीमती फूलपत्ती देवी से वर्चुअल संवाद किया। उनकी हौसला अफजायी करते हुए प्रधानमंत्री जी ने कहा कि श्रीमती फूलपत्ती देवी तथा उनकी टीम ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बड़ी संख्या में मास्क बनाकर लोगों को उपलब्ध कराए, जो एक सराहनीय कार्य है। विन्ध्य क्षेत्र में शिलान्यास की गई परियोजनाओं के लिए क्षेत्र की जनता को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि आज शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के इस कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कर कमलों से किया गया है। इस क्षेत्र में विकास की इतनी बड़ी परियोनजाएं पहले कभी नहीं आई। आज कोरोना कालखण्ड में भी यह क्षेत्र विकास से वंचित नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश के बुन्देलखण्ड तथा विन्ध्य क्षेत्र में पेयजल की उपलब्धता एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। ग्रामीण इलाकों में पाइप पेयजल योजना के माध्यम से सभी घरों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि शुद्ध जल का अर्थ है, बीमारियों का सर्वथा अन्त। किसी भी बीमारी को रोकने में स्वच्छता और शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की बड़ी भूमिका है। जनता को जब शुद्ध जल घर पर उपलब्ध होगा, तो उन्हें दूर जाने की आवश्यकता नहीं होगी। इससे इनका जीवन खुशहाल होगा और बीमारियों से निजात मिलेगी। उन्होंने प्रधानमंत्री जी और केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि विन्ध्य क्षेत्र में पर्यटन की असीम सम्भावनाएं हैं। इसके दृष्टिगत इसका विकास किया जा रहा है। यह धरती योगीराज मत्स्ययेन्द्र नाथ की साधना स्थली रही है। क्षेत्र का विकास करते हुए इसे पर्यटन से जोड़कर यहां व्यापक स्तर पर रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। जनपद सोनभद्र में हवाई पट्टी का विस्तार किया जा रहा है, जिससे लोगों को हवाई यात्रा की बेहतर सुविधाएं प्राप्त हो सकेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली की पर्याप्त व्यवस्था करने के उद्देश्य से यहां सौर ऊर्जा प्लाण्ट लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना और मुख्यमंत्री आवास योजना के माध्यम से सभी पात्र लोगों को आवास उपलब्ध कराए गए हैं। आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रत्येक पात्र परिवार को 05 लाख रुपए का बीमा कवर प्रदान किया गया। आजादी के 70-72 वर्षों में मात्र 398 गांवों में ही पेयजल की व्यवस्था थी, वहीं वर्तमान सरकार द्वारा आज 01 दिन में ही 03 हजार गांवों को शुद्ध पेयजल से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। इस प्रकार लगभग 41 लाख लोग लाभान्वित होंगे। यह योजना आने वाली पीढ़ियों को भी बेहतर पेयजल व्यवस्था देगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के अथक प्रयासों से आज देश की जनता को बिना भेदभाव के विकास की योजनाओं का लाभ मिल रहा है। गांव, गरीब, किसान, महिलाएं, नौजवानों सहित समाज के हर तबके को यह लाभ मिल रहा है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री को ग्रामीण आजीविका समूह द्वारा तैयार की गई टोपी तथा धनुष-बाण भेंट कर सम्मानित किया गया। जनपद भ्रमण के अवसर पर मुख्यमंत्री ने धधरौल बांध, जनपद सोनभद्र पर जलाभिषेक तथा पूजा-अर्चना की।


Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद