मिशन शक्ति को और प्रभावी बनाकर दोषियों के विरुद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही सुनिश्चित हो : उपाध्यक्ष, राज्य महिला आयोग

दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ। दिनांक 23.11.2020 को उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने आयोग में विभिन्न माध्यमों से जनपद अम्बेडकरनगर, कासगंज, कानपुर नगर एवं मऊ के प्राप्त 04 गम्भीर श्रेणी के शिकायती प्रार्थना पत्रों का स्वतः संज्ञान लेकर संबंधित जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अथवा पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजकर रिपोर्ट तलब की एवं घटना पर खेद प्रकट किया, साथ ही निर्देशित किया कि दोषियों के विरुद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही कर सूचना का सम्पूर्ण विवरण एवं कृत कार्यवाही की अद्यतन आख्या से 24 घण्टे में उपलब्ध करायें। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह द्वारा घटना को शर्मनाक एवं निंदनीय बताकर नाराजगी प्रकट की गयी है व कहा गया कि मुकदमा दर्ज होने के बाद कोई पक्षपात नहीं होना चाहिये। विवेचना ईमानदारी से हो और पीड़िता को इन्साफ मिले, साथ ही महिला सशक्तिकरण को लेकर चलाये जा रहे मिशन शक्ति को और प्रभावी बनाकर व्यापक कार्यवाही की बात कही। प्रदेश में महिला उत्पीड़न की घटनाओं का आयोग में किसी भी माध्यम से संज्ञान में आने पर उ प्र राज्य महिला आयोग द्वारा संबंधित जनपद से तत्काल पत्र भेजकर सक्षम अधिकारी से दूरभाष पर वार्ता कर त्वरित कार्यवाही कर पीड़िता एवं पीड़ित परिवार को तत्काल न्याय दिलाये जाने का कार्य किया जाता है। महिलाओं एवं बालिकाओं को सुरक्षा दिलाये जाने हेतु उ प्र राज्य महिला आयोग निरन्तर प्रयासरत है। उपाध्यक्ष सुषमा सिंह द्वारा कहा गया कि प्रदेश सरकार की महिलाओं एवं बालिकाओं के लिये संचालित योजनाओं को जमीनी स्तर पर गांव-गांव तक पहुंचाने हेतु आयोग निरन्तर प्रयासरत है। प्रदेश में महिला उत्पीड़न की रोकथाम हेतु एवं प्रभावी कार्यवाही करने के दिशा-निर्देश निरन्तर जारी किये जाने के उपरान्त भी ऐसी घटनाओं का संज्ञान में आना अत्यन्त खेदजनक बताया।


Popular posts from this blog

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

उ प्र शासन ने गृह (गोपन) अनुभाग-3 के 31 मई को जारी निर्देशों को यथा संशोधित करते हुए अनलॉक 2 की गाइडलाइन्स जारी की