कोरोना पॉजिटिव पाये गये लोगों में सर्वाधिक 21-40 आयु वर्ग 

फोकस टेस्टिंग अभियान के अन्तर्गत 12,290 संक्रमित लोगों की पहचान की गयी : एसीएस हेल्थ


> प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 14,52,41,530 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है : अमित मोहन प्रसाद


01, 02 व 03 दिसम्बर, 2020 को विशेष अभियान चलाया जा रहा है ... 


विशेष अभियान के अन्तर्गत बैण्ड–बाजा, लाइट, टेंट, मैरिज हॉल, डीजे, के स्टाफ की फोकस टेस्टिंग करायी जायेगी।



उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद 1 दिसंबर 2020 को लोक भवन में प्रेस वार्ता करते हुए।


दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ। प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश में सोमवार 30 नवंबर को एक दिन में कुल 1,43,787 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,94,66,550 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 1703 नये मामले आये हैं। प्रदेश में 23,670 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 11,025 लोग हैं। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2357 लोग ईलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त बाकी मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों में अपना ईलाज करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 2059 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। अब तक कुल 5,14,087 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत 94.23 है। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 4,71,880 टीम दिवस के माध्यम से 2,97,26,115 घरों के 14,52,41,530 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि चिकित्सकीय उपचार के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से कल एक दिन में 1789 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श लिया। अब तक कुल 2,28,817 लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल पर चिकित्सकीय परामर्श लिया। उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजिटिव पाये गये लोगों में 0-20 आयु वर्ग के 13.4 प्रतिशत, 21-40 आयु वर्ग के 46.83 प्रतिशत, 41-60 आयु वर्ग के 29.37 प्रतिशत और 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 10.34 प्रतिशत है। श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में फोकस टेस्टिंग का अभियान 29 अक्टूबर से 12 नवम्बर, 2020 तक तथा 19 नवम्बर से 30 नवम्बर, 2020 तक चलाकर टू व्हीलर, थ्री व्हीलर, रिक्शा चालकों, मेंहदी / ब्यूटी पार्लर, मिठाई की दुकानों / रेस्टोरेंट में कार्य करने वाले लोग, धर्म स्थलों, शॉपिंग मॉल, इलेक्ट्रॉनिक्स और व्हीकल शोरूम, स्ट्रीट वेण्डर्स, दवा की दुकान / नर्सिंग होम, वेण्डर्स / फल / सब्जी वेण्डर्स में संक्रमित लोगों की पहचान की गयी है। फोकस टेस्टिंग अभियान के अन्तर्गत 12,290 संक्रमित लोगों की पहचान की गयी है। उन्होंने बताया कि फोकस टेस्टिंग के माध्यम से भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों तथा महत्वपूर्ण स्थानों की फोकस टेस्टिंग कर संक्रमित लोगों की पहचान करने से त्यौहारों के समय कोविड-19 संक्रमण को बढ़ने से रोकने में सहायता मिली। 01, 02 व 03 दिसम्बर, 2020 को विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत बैण्ड–बाजा, लाइट, टैण्ट, मैरिज हॉल, डीजे, के स्टॉफों की फोकस टेस्टिंग करायी जायेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जनपदों में संक्रमित क्षेत्रों की मैपिंग की जा रही है। जिसके माध्यम से संक्रमित इलाकों, मोहल्लों को उक्त मैपिंग के माध्यम से चिन्हित किया जा रहा है। इन चिन्हित स्थानों की फोकस टेस्टिंग 04 से 10 दिसम्बर तक करायी जायेगी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव हेतु सतर्कता बरते तथा सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनें, हाथ धोते रहें, लोगो से सोशल डिस्टेंसिंग रखें तथा भीड़भाड़ से दूरी बनाये रखें। विशेषकर बच्चे, बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं तथा पहले से बीमार व्यक्तियों को सार्वजनिक कार्यक्रम/स्थनों से दूर रखकर संक्रमण से सुरक्षित किया जा सकता है।