फिल्म सिटी के निर्माण में सहयोग करके फिल्म जगत देश की विरासत को वैश्विक पटल पर स्थापित करने में सहभागी बने : मुख्यमंत्री

भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत सबसे प्रभावी ढंग से उत्तर प्रदेश में दिखायी देती है : योगी आदित्यनाथ


फिल्म जगत को फिल्म निर्माण के लिए सुरक्षा सहित जैसा वातावरण चाहिए, वह उत्तर प्रदेश में उपलब्ध है : मुख्यमंत्री 


> मुख्यमंत्री ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया।


> फिल्म सिटी के निर्माण में फिल्म जगत नेतृत्व करे और सरकार की सहयोगी भूमिका हो : मुख्यमंत्री 


> यमुना एक्सप्रेस-वे प्राधिकरण के सीईओ ने प्रस्तावित फिल्म सिटी एवं अन्य विकास कार्याें के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण दिया।


> फिल्म जगत के लिए शूटिंग हेतु उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्र प्राकृतिक सौन्दर्य से युक्त : मुख्यमंत्री


उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित फिल्म सिटी की लोकेशन बहुत अच्छी ....


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह गौतमबुद्धनगर के जेवर में निर्माणाधीन एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट से मात्र 06 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां से दिल्ली तथा मथुरा एवं वृंदावन मात्र आधे घण्टे में पहुंचा जा सकता है। आगरा की यहां से दूरी एक घण्टे से कम समय की है।



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 2 दिसंबर 2020 को मुम्बई में आयोजित एक कार्यक्रम में फिल्म जगत तथा औद्योगिक जगत के प्रतिनिधियों के साथ संवाद के बाद प्रेस वार्ता करते हुए।



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 2 दिसंबर 2020 को अपने मुम्बई प्रवास के दौरान टाटा ग्रुप के चेयरमैन नटराजन चंद्रशेखरन से मुलाकात की और कई मुद्दों पर चर्चा करते हुए।



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 2 दिसंबर 2020 को अपने मुम्बई प्रवास के दौरान इंडियन फिल्म एंड टी वी डायरेक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रोडूसर अशोक पंडित के साथ।  अशोक पंडित ने ट्वीट कर लिखा कि योगी आदित्यनाथ जी की यूपी फिल्म सिटी के खिलाफ राजनेताओं को यह महसूस करना चाहिए कि मुंबई सिनेमा की जन्मभूमि है, लेकिन कर्मभूमि भारत में कहीं भी हो सकती है। शुरुआत से हिंदी फिल्मों की शूटिंग चेन्नई, हैदराबाद में की गई है और आजकल उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में 50% फिल्मों और वेबसरीज की शूटिंग की जा रही है।



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 2 दिसंबर 2020 को अपने मुम्बई प्रवास के दौरान अडानी ग्रुप के एमडी एग्रो, ऑयल एंड गैस प्रनव अडानी संग नोएडा और ग्रेटर नोएडा में डेटा सेंटर, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, एक्सप्रेस-वे एवं सौर ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश हेतु वार्ता करते हुए।


दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ।  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित फिल्म सिटी की स्थापना के लिये फिल्म जगत से सुझाव एवं सहयोग का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि फिल्म जगत से जुड़े तथा फिल्म निर्माण का व्यापक अनुभव रखने वाले निर्माता, निर्देशक, एक्टर, लेखक आदि सभी की सहभागिता वर्ल्ड क्लास फिल्म सिटी के निर्माण में सहायक होगी। एक अच्छी फिल्म सिटी के निर्माण में सहयोग करके फिल्म जगत देश की कला, संस्कृति, विरासत को वैश्विक पटल पर स्थापित करने में सहभागी बने। मुख्यमंत्री योगी बुधवार 2 दिसंबर को मुम्बई में आयोजित एक कार्यक्रम में फिल्म जगत के प्रतिनिधियों के साथ संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय की आवश्यकता है कि फिल्म जगत की जरूरतों और चुनौतियों का सामना सरकार और फिल्म जगत मिलकर करे। फिल्म जगत नेतृत्व करे और सरकार की सहयोगी भूमिका हो। इससे फिल्म निर्माण के लिए उपयोगी एवं सफल वातावरण बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि फिल्म सिटी को किस मोड पर विकसित किया जाए, इस पर चर्चा की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश की प्रस्तावित फिल्म सिटी की लोकेशन बहुत अच्छी है। यह जनपद गौतमबुद्धनगर के जेवर में निर्माणाधीन एशिया के सबसे बड़े एयरपोर्ट से मात्र 06 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां से दिल्ली तथा मथुरा एवं वृंदावन मात्र आधे घण्टे में पहुंचा जा सकता है। आगरा की यहां से दूरी एक घण्टे से कम समय की है। फिल्म जगत को फिल्म निर्माण के लिए सुरक्षा सहित जैसा वातावरण चाहिए, वह उत्तर प्रदेश में उपलब्ध है। राज्य में फिल्म निर्माण के लिये आवश्यक आध्यात्मिक, सांस्कृतिक, प्राकृतिक, ऐतिहासिक पृष्ठभूमि भी सहज सुलभ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में पूरी दुनिया कोरोना से प्रभावित है। भारत में कोरोना के विरुद्ध मजबूती से सघंर्ष हो रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार कोरोना के विरुद्ध पूरी प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। कोरोना से बचाव एवं उपचार के समुचित कदम उठाए गए हैं। प्रतिदिन लगभग 02 लाख टेस्ट कराए जा रहे हैं। देश में सर्वाधिक जनसंख्या का प्रदेश होने के बावजूद उत्तर प्रदेश में कोरोना की पाॅजिटिविटी दर न्यूनतम है। पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से कोरोना से बचाव के सम्बन्ध में जन जागरुकता का कार्यक्रम निरन्तर संचालित किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में कोरोना का टेस्ट एवं उपचार भी निःशुल्क है। राज्य सरकार के लिए जान और जहान दोनों महत्वपूर्ण है। इसके दृष्टिगत सभी आर्थिक गतिविधियां भी संचालित हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश असीम सम्भावनाओं का प्रदेश है। राज्य में हर क्षेत्र में व्यापक अवसर हैं। प्रयागराज कुम्भ - 2019 की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भव्य एवं दिव्य कुम्भ के आयोजन ने वैश्विक पटल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी। प्रयागराज कुम्भ - 2019 अपनी स्वच्छता, सुरक्षा, सुव्यवस्था के लिए जाना गया। इसमें 24 करोड़ श्रद्धालुओं ने प्रतिभाग किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की पहल पर यूनेस्को ने कुम्भ को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर के रूप में मान्यता दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में दीपोत्सव का आयोजन दुनिया में एक यूनीक इवेन्ट के रूप में सामने आया है। इस आयोजन में दक्षिण कोरिया की फस्ट लेडी व फिजी की डिप्टी प्राइम मिनिस्टर प्रतिभाग कर चुकी हैं। भगवान श्रीराम की संस्कृति से प्रभावित देश इस कार्यक्रम के साथ जुड़ रहे हैं। तीन दिन पहले वाराणसी में आयोजित देव दीपावली कार्यक्रम की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम कोविड-19 के प्रोटोकाॅल का पालन करते हुए आयोजित किया गया। इसमें प्रधानमंत्री जी भी सम्मिलित हुए। इस दिन वाराणसी के होटलों में सभी कमरे भरे हुए थे। यह आयोजन उत्तर प्रदेश में पर्यटन की सम्भावनाओं को दर्शाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत सबसे प्रभावी ढंग से उत्तर प्रदेश में दिखायी देती है। श्रीराम जन्मभूमि, श्रीकृष्ण जन्मभूमि, बाबा विश्वनाथ का मन्दिर, गंगा और यमुना का संगम आदि उत्तर प्रदेश में हैं। इसके अलावा, ईको पर्यटन की दृष्टि से भी प्रदेश समृद्धशाली है। भारत-नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र, विंध्य क्षेत्र के जलप्रपात, सोनभद्र, मीरजापुर के जंगल, बुन्देलखण्ड का क्षेत्र प्राकृतिक सौन्दर्य से युक्त हैं। यह फिल्म जगत के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश का कनेक्टिविटी की दृष्टि से विकास फिल्म सिटी के लिए उपयोगी है। प्रदेश में 04 नये एक्सप्रेस-वे बनाए जा रहे हैं। जिला मुख्यालयों को 04 लेन मार्ग से जोड़ा जा रहा है। अन्य देशों व प्रदेशों से राज्य को जोड़ने वाले मार्ग को 04 लेन मार्ग बनाया जा रहा है। प्रदेश के प्रत्येक मण्डल मुख्यालय में नया एयरपोर्ट स्थापित किया जा रहा है। वर्ष 2017 में राज्य में केवल 02 एयरपोर्ट कार्यशील थे। वर्तमान में 07 एयरपोर्ट संचालित हो रहे हैं। 14 एयरपोर्ट पर कार्य चल रहा है। जेवर, कुशीनगर और अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अरुणवीर सिंह ने प्रस्तावित फिल्म सिटी एवं अन्य विकास कार्याें के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण दिया। कार्यक्रम में फिल्म निर्माता राहुल मित्रा, फिल्म निर्माता पहलाज निहलानी, फिल्म निर्माता अजय राय, अभिनेता सतीश कौशिक, लाइका प्रोडक्शन्स के सीईओ आशीष सिंह, जी के प्रोेडक्शन हेड सुमित खुराना, वायकाॅम 18 मोशन पिक्चर्स के वाइस प्रेसीडेण्ट मार्केटिंक रुद्रुप दत्ता, निर्माता राजीव मल्होत्रा, फिल्म निर्देशक तिग्मांशु धुलिया, फिल्म निर्देशक  अनिल शर्मा, फिल्म निर्माता सुश्री पूनम शिवदसानी, कार्निवाल मोशन पिक्चर्स की सीईओ सुश्री वैशाली सरवानकर, फिल्म निर्देशक हनी त्रेहन, अभिनेता अर्जुन रामपाल, ट्रेड एनालिस्ट कोमल नहाटा, सीईओ प्रोड्यूसर गिल्ड नितिन तेज आहूजा, फिल्म निर्माता विक्रम खाखर, निर्माता रमेश यादव, निर्माता अजय कपूर, निर्माता सुश्री विभा दत्ता, निर्माता राज कुमार पाण्डेय, निर्माता डाॅ नितिन मिश्रा, निर्माता जयन्ती लाल गडा, करन आनन्द आदि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री से फिल्म निर्माता बोनी कपूर, एड लैब्स प्रा लि के संस्थापक मनमोहन शेट्टी तथा फिल्म निर्माता आनन्द पण्डित ने भी भेंट की। इस अवसर पर औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, एमएसएमई मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, नगर विकास मंत्री आशुतोष टण्डन, सांसद रवि किशन, उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद के अध्यक्ष राजू श्रीवास्तव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एमएसएमई नवनीत सहगल सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।