पिछले 6 वर्षों में नागालैंड राज्य में एनएच नेटवर्क 1,547 किमी तक बढ़ा 

एनएचआईडीसीएल ने परियोजनाओं को पटरी पर लाने और काम की प्रगति में तेजी लाने के लिए कठोर प्रयास किए 


> पिछले 6 वर्षों के दौरान नगालैंड में 667 किलोमीटर लंबी सड़क को एनएच नेटवर्क में जोड़ा गया, जो लगभग 76 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है : नितिन गडकरी
> 6,000 करोड़ रुपये से अधिक लागत वाले 524 किमी के पांच कार्य डीपीआर चरण में हैं : नितिन गडकरी
> पिछले 6 वर्षों में 11,711 करोड़ रुपये की कुल लागत वाले कुल 1063.41 किमी लंबी सड़क के 55 कार्यों को मंजूरी दी गई है : नितिन गडकरी
> मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने केंद्रीय मंत्री से राज्य में तलहटी सड़कों के विकास पर विचार करने का अनुरोध किया।



केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी 4 दिसंबर, 2020 को नागालैंड में 4,127 करोड़ रुपये की लागत से 15 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन / शिलान्यास करते हुए।


दैनिक कानपुर उजाला
नई दिल्ली। केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार 4 दिसंबर को नगालैंड में 15 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का वर्चुअल तरीके से उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस अवसर पर नगालैंड के मुख्यमंत्री  नेफियू रियो, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री जनरल (डॉ) वी के सिंह, सांसद, विधायक और केंद्र तथा राज्य के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इन एनएच परियोजनाओं की लंबाई लगभग 266 किलोमीटर है, जिनपर लगभग 4127 करोड़ रुपये की लागत आएगी। नितिन गडकरी ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि केंद्र सरकार उत्तर पूर्व और नगालैंड के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने बताया कि पिछले 6 वर्षों के दौरान नगालैंड में 667 किलोमीटर लंबी सड़क को एनएच नेटवर्क में जोड़ा गया, जो लगभग 76 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है। श्री गडकरी ने कहा कि राज्य में एनएच नेटवर्क को आज 1,547 किमी तक बढ़ा दिया गया है जो 2014 तक 880.68 किलोमीटर ही था। उन्होंने कहा कि नगालैंड में कुछ जिलों को छोड़कर लगभग सभी जिले राष्ट्रीय राजमार्गों के एक मजबूत नेटवर्क से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि 39.90 किलोमीटर / 1000 वर्ग किलोमीटर के राष्ट्रीय औसत के मुकाबले राज्य में एनएच नेटवर्क का घनत्व अब 93.30 किलोमीटर / 1000 वर्ग किलोमीटर है। उन्होंने कहा कि राज्य में जनसंख्या के हिसाब से एनएच नेटवर्क का घनत्व 77.73 किलोमीटर / लाख जनसंख्या है जबकि राष्ट्रीय औसत 10.80 किलोमीटर / लाख जनसंख्या है। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि नगालैंड में राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास और उनके सुधार के लिए पिछले 6 वर्षों में 11,711 करोड़ रुपये की कुल लागत वाले कुल 1063.41 किलोमीटर लंबी सड़क के 55 कार्यों को मंजूरी दी गई है। इसमें दीमापुर सिटी (नगालैंड का सबसे बड़ा शहर) परियोजना के सुधार के हिस्से के रूप में लगभग 48 किलोमीटर की 3 सड़कें शामिल हैं। जिन पर कुल 1,598 करोड़ रुपये खर्च होंगे। उन्होंने कहा कि 7,955 करोड़ रुपये की लागत वाली 690 किलोमीटर लंबी सड़क का 16 नंबर वाला कार्य प्रगति पर हैं। उन्होंने बताया कि 966.75 करोड़ रुपये की कुल लागत वाले 105 किलोमीटर के अन्य सात कार्य अभी निविदा प्रक्रिया के चरण में हैं। उन्होंने यह भी संकेत दिया कि 2,127 करोड़ रुपये की लागत वाले 178 किलोमीटर लंबाई के 11 कार्यों को वर्ष 2020 - 21 के दौरान बढ़ी लागत के साथ मंजूरी दी जानी है। उन्होंने बताया कि 6,000 करोड़ रुपये से अधिक लागत वाले 524 किलोमीटर के पांच कार्य डीपीआर चरण में हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सीआरएफ के तहत, 2002 से अब तक कुल स्वीकृत राशि 1,334.3 करोड़ रुपये में से 487.14 करोड़ रुपये जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि नगालैंड के लिए जल्द ही 45 करोड़ रुपये की राशि जारी की जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि राज्य का बीओएस अनुपात आज 11.5% है, जो बहुत अधिक है। श्री गडकरी ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि वे कोहिमा बाईपास के संबंध में भूमि और नुकसान क्षतिपूर्ति के लिए आकलन को तत्काल भेजें। उन्होंने यह भी बताया कि एनएचआईडीसीएल ने नगालैंड में कोहिमा - माओ सड़क के दोहरीकरण (2 - लेन) का कार्य लिया है, और सिविल कार्य पहले ही 30.09.2020 को दिया जा चुका है। नियुक्त तिथि 20 अक्टूबर, 2020 घोषित की गई है और ठेकेदार निर्माण स्थल पर जुट गए हैं। उन्होंने कहा कि नुकसान की क्षतिपूर्ति के अनुमान का इंतजार है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इसे शीघ्र किया जा सकता है ताकि सिविल कार्य जल्द से जल्द शुरू किया जा सकें। इस अवसर पर मुख्यमंत्री नेफियू रियो ने केंद्रीय मंत्री से राज्य में तलहटी सड़कों के विकास पर विचार करने का अनुरोध किया। श्री गडकरी ने बताया कि तलहटी सड़कों के विकास पर विचार चल रहा है। मुख्यमंत्री ने दीमापुर - कोहिमा सड़क का मुद्दा भी उठाया, जिसे नगालैंड की जीवन रेखा कहा जाता है। श्री गडकरी ने जवाब में कहा कि काम प्रगति पर है, और इस सड़क पर 70 - 80 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। एनएचआईडीसीएल ने परियोजनाओं को पटरी पर लाने और काम की प्रगति में तेजी लाने के लिए कठोर प्रयास किए हैं। हकीकत में काम की प्रगति को तेज करने के लिए उच्चतम स्तर पर नियमित बैठकें ली गई हैं। श्री गडकरी ने मुख्यमंत्री नेफियू रियो से इस मुद्दे का हल करने के लिए एनएच कार्यों की समीक्षा करने का भी आग्रह किया। आज 26.25 किलोमीटर लंबे कोहिमा - माओ रोड की नींव रखी गई। श्री गडकरी ने बताया कि यह खंड एशियाई राजमार्ग (एएच -1) का भी महत्वपूर्ण हिस्सा है जो म्यांमा से जुड़ रहा है क्योंकि यह कोहिमा शहर से मणिपुर सीमा तक कनेक्टिविटी में बहुत सुधार करेगा। उन्होंने कहा कि नगालैंड की सामाजिक - आर्थिक प्रगति में भी इसका महत्व है। श्री गडकरी ने कहा कि बेहतर सड़कें विभिन्न संसाधनों जैसे बांस आदि से स्थानीय उत्पादों के उद्योग और व्यापार के विकास और विपणन में सुधार करने में मदद करेंगी। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री जनरल (डॉ) वी के सिंह ने कहा कि नगालैंड एक खूबसूरत जगह है, और उम्मीद है कि नई राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाएं राज्य में पर्यटकों को आकर्षित करेंगी। उन्होंने बताया कि आज जिन 14 परियोजनाओं की नींव रखी गई उनमें से 11 को एनएचआईडीसीएल द्वारा और 3 को राज्य लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की सड़क शाखा के माध्यम से पूरा किया जाएगा।