व्यापक पैमाने पर कोविड-19 की जांच के फलस्वरूप राज्य में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में सफलता मिली : मुख्यमंत्री

 डब्ल्यूएचओ ने भी की है उ प्र सरकार के कोरोना से बचाव व उपचार के प्रयासों की सराहना


> मुख्यमंत्री ने मेरा कोविड केन्द्र मोबाइल ऐप का लोकार्पण किया।


> मुख्यमंत्री ने प्रदेश में अब तक 02 करोड़ कोविड-19 टेस्ट किए जाने पर फ्रण्टलाइन कोरोना वाॅरियर्स को बधाई दी।


> राज्य सरकार ने कोरोना महामारी के विरुद्ध तकनीकी का व्यापक और बेहतर प्रयोग किया है : मुख्यमंत्री


हमारे प्रदेश में जितनी भी सरकारी लैब्स हैं वहां निःशुल्क कोरोना जांच हो सकती है, किसी भी जरुरतमंद को अपने 5 किलोमीटर के दायरे में ये सुविधा मिल पाए इसलिए हमने मेरा कोविड केंद्र ऐप का लोकार्पण किया: मुख्यमंत्री



मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 5 दिसंबर 2020 को नवविकसित मेरा कोविड केन्द्र ऐप का लोकार्पण करते हुए।


दैनिक कानपुर उजाला


लखनऊ।  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने शनिवार को अपने सरकारी आवास पर मेरा कोविड केन्द्र मोबाइल ऐप का लोकार्पण किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि कोविड-19 के विरुद्ध निरंतर सतर्कता व सावधानी आवश्यक है। मेरा कोविड केन्द्र कोविड टेस्ट सेण्टर लोकेटर ऐप है। यह ऐप कोरोना जांच केन्द्र तक पहुंचाना आसान बनाने के लिए राज्य सरकार की अभिनव पहल है। ऐप के माध्यम से 05 कि मी के दायरे में स्थित निःशुल्क कोविड टेस्ट सेण्टर का पता लगाया जा सकता है। इससे प्रदेश वासियों को कोविड-19 का टेस्ट कराने में सुविधा होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोविड-19 की रोकथाम में लिए प्रत्येक स्तर पर गम्भीर प्रयास कर रही है। स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में अंतर्विभागीय समन्वय के माध्यम से इस महामारी के विरुद्ध दिन-रात कार्य किया जा रहा है। प्रदेश के सभी जनपदों में सरकारी क्षेत्र में निःशुल्क टेस्टिंग सुविधा उपलब्ध है। साथ ही, निजी क्षेत्र में भी जांच की अधिकतम दर का निर्धारण प्रदेश सरकार द्वारा किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यापक पैमाने पर कोविड-19 की जांच के फलस्वरूप राज्य में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। यह सफलता अंतर्विभागीय समन्वय और टीम वर्क का परिणाम है। प्रदेश में अब तक 02 करोड़ कोविड-19 टेस्ट किए जाने को उपलब्धि बताते हुए उन्होंने इसके लिए फ्रण्टलाइन कोरोना वाॅरियर्स और स्वास्थ्य विभाग को बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के शुरुआत के समय राज्य में जांच सुविधाओं का अभाव था। 23 मार्च, 2020 को केजीएमयू की बीएसएल लैब में कोविड-19 की जांच प्रारम्भ होने पर एक दिन में मात्र 72 टेस्ट हो सके थे। स्वास्थ्य विभाग एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के पारस्परिक समन्वय से वर्तमान में राज्य में प्रतिदिन डेढ़ से पौने दो लाख टेस्ट सम्पन्न हो रहे हैं। यह संख्या देश में सर्वाधिक है। इसमें लगभग 40 प्रतिशत टेस्ट आरटी पीसीआर से सम्पन्न हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मार्च, 2020 से लेकर अब तक राज्य सरकार की टीम कोविड-19 के विरुद्ध सभी सम-विषम परिस्थितियों में निरन्तर कार्य कर रही है। देश की सर्वाधिक जनसंख्या वाले राज्य में कोविड-19 संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण अन्य राज्यों के लिए उदाहरण है। कोरोना से बचाव व उपचार के प्रदेश सरकार के प्रयासों की सराहना अन्य देशों सहित डब्ल्यूएचओ ने भी की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना महामारी के विरुद्ध तकनीकी का व्यापक और बेहतर प्रयोग किया है। कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में जानकारी प्रदान करने वाला ‘आयुष कवच-कोविड’, फ्रण्टलाइन कोरोना वाॅरियर्स को संक्रमण से बचाने में सहायक ‘चिकित्सा सेतु’ एप पूर्व में जारी किए गए हैं। तकनीक की ताकत का प्रयोग कोविड के विरुद्ध किए जाने के साथ ही, इस दौरान प्रदेश में वापस आने वाले श्रमिकों को भी रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर की स्थापना इसका उपयोग बेहतर सर्विलांस तथा होम आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित लोगों की सुविधा के लिए किया गया है। सैकड़ों स्थानों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम की स्थापना कर इसका प्रयोग कोविड-19 के विरुद्ध व्यापक जन-जागरुकता में किया जा रहा है। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग ने कहा कि प्रदेश ने देश व दुनिया में कोविड-19 के विरुद्ध संघर्ष में विशिष्ट पहचान बनायी है। यह मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व से ही सम्भव हुआ है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व की प्रदेश सरकार को देश में रोल माॅडल सरकार के रूप में जाना जा रहा है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। आज राज्य में कोविड-19 के 02 करोड़ टेस्ट पूरे हो गए हैं। मुख्यमंत्री के निरन्तर मार्गदर्शन से कोविड-19 के संक्रमण स्तर को निचले स्तर पर रखने में सफलता मिली। साथ ही, नागरिकों के हित और कल्याण को ध्यान में रखते हुए निरन्तर कदम उठाए गए। उन्होंने कहा कि मेरा कोविड केन्द्र मोबाइल एप के माध्यम से निःशुल्क कोविड टेस्टिंग सेण्टर की लोकेशन एवं डायरेक्शन देखी जा सकेगी। कार्यक्रम के दौरान यूनीफाइड कोविड प्लेटफाॅर्म के सम्बन्ध में एक प्रस्तुतीकरण दिया गया। कार्यक्रम के अंत में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य आलोक कुमार ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री डाॅ महेन्द्र सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ रजनीश दुबे, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक शिशिर सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।