निष्पक्ष एवं पारदर्शी ढंग से सेवा कार्य सम्पन्न करें चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारी : मुख्यमंत्री

 विभिन्न आयोगों एवं संस्थाओं की भर्ती प्रक्रिया की निष्पक्षता पर अब कोई प्रश्नचिन्ह नहीं

मार्च, 2022 तक सभी प्राथमिक विद्यालयों का कायाकल्प कर लिया जायेगा : डॉ सतीश चन्द्र द्विवेदी

 

> मिशन रोजगार के अन्तर्गत बेसिक शिक्षा विभाग में नव चयनित 271 खण्ड शिक्षा अधिकारियों का नियुक्ति पत्र वितरण समारोह संपन्न।


> मुख्यमंत्री ने नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया।


> मुख्यमंत्री द्वारा सुरक्षा और संरक्षा पैकेज, दिव्यांग बच्चों के लिये पाठ्यक्रम के पैकेज तथा दीक्षा हैण्डबुक का विमोचन, ऑनलाइन डी.एल.एड. कोर्स तथा सेवारत शिक्षकों के प्रशिक्षण हेतु ऑनलाइन कोर्स का शुभारम्भ।


> मुख्यमंत्री ने प्रेरक बालक / प्रेरक बालिका एवं उनके अभिभावकों को प्रमाण पत्र प्रदान किया।


> स्कूल में स्मार्ट क्लास, लाइब्रेरी की व्यवस्था होनी चाहिये : मुख्यमंत्री


> मिड-डे मील के मेन्यू को पौष्टिक एवं रुचिकर बनाया जाना चाहिये : मुख्यमंत्री


> आर्थिक रूप से निर्बल वर्ग के लोगों को भी 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ सुलभ कराया गया है : मुख्यमंत्री


> मानव सम्पदा पोर्टल में शिक्षकों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित किया : मुख्यमंत्री

 

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 13 मार्च, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में बेसिक शिक्षा विभाग में नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों के नियुक्ति पत्र वितरण समारोह को सम्बोधित करते हुए।

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 13 मार्च, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में बेसिक शिक्षा विभाग में एक नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारी को नियुक्ति पत्र प्रदान करते हुए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 13 मार्च, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में एक ‘प्रेरक बालिका’ एवं उनके अभिभावक को प्रमाण पत्र प्रदान करते हुए।

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 13 मार्च, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में सुरक्षा एवं संरक्षा पैकेज, दिव्यांग बच्चों के लिये पाठ्यक्रम का पैकेज तथा दीक्षा हैण्डबुक का विमोचन करते हुए।

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 13 मार्च, 2021 को लोक भवन, लखनऊ में ऑनलाइन सेवारत शिक्षक प्रशिक्षण एवं ऑनलाइन डी.एल.एड. पाठ्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए।

 

 

दैनिक कानपुर उजाला

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि राज्य सरकार युवाओं की शुचितापूर्ण तथा पारदर्शी ढंग से नियुक्ति कर प्रदेश को उनकी प्रतिभा और ऊर्जा का लाभ दिला रही है। विगत 04 वर्षों में सरकारी नौकरियों में 04 लाख युवाओं को पूरी ईमानदारी, निष्पक्षता तथा पारदर्शिता के साथ चयनित कर नियोजित किया गया है। उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग सहित विभिन्न सेवा चयन आयोगों एवं अन्य संस्थाओं की भर्ती प्रक्रिया की निष्पक्षता पर अब कोई प्रश्नचिन्ह नहीं है। साथ ही, चयन की कार्यवाही समयबद्ध ढंग से सम्पन्न की जा रही है। मुख्यमंत्री योगी शनिवार को लोक भवन में मिशन रोजगार के अन्तर्गत बेसिक शिक्षा विभाग में 271 नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों के नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने 10 नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया। साथ ही, सुरक्षा और संरक्षा पैकेज, दिव्यांग बच्चों के लिये पाठ्यक्रम के पैकेज तथा दीक्षा हैण्डबुक का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री ने ऑनलाइन डी.एल.एड. कोर्स तथा सेवारत शिक्षकों के प्रशिक्षण हेतु ऑनलाइन कोर्स का शुभारम्भ किया। उन्होंने प्रेरक बालक/ प्रेरक बालिका एवं उनके अभिभावकों को प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। इस अवसर पर प्रेरणा ज्ञानोत्सव कार्यक्रम के समबन्ध में एक लघु फिल्म भी प्रदर्शित की गई। ज्ञातव्य है कि उ प्र लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। ज्ञातव्य है कि उ प्र लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि चयन प्रक्रिया में अपनायी गई निष्पक्षता एवं पारदर्शिता की भांति ही चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारियों से अपेक्षा है कि उनके द्वारा सेवा कार्य भी निष्पक्ष एवं पारदर्शी ढंग से सम्पन्न किया जाए। उन्होंने कहा कि खण्ड शिक्षा अधिकारी के लिए पूरा विकास खण्ड कमाण्ड एरिया है। हर विकास खण्ड की सामाजिक, सांस्कृतिक एवं भौगोलिक स्थितियां अलग - अलग हैं। इन स्थितियों को देखते हुए विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाने के लिए अभिनव प्रयास करके दिखाने की जरूरत है। ऐसे प्रयास किये जाने चाहिये कि बच्चों की नींव मजबूत हो। साथ ही, स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का माहौल तैयार हो। उन्होंने तकनीक का पूरा लाभ उठाये जाने पर बल देते हुए कहा कि स्कूल में स्मार्ट क्लास, लाइब्रेरी की व्यवस्था होनी चाहिये। मिड-डे मील के मेन्यू को पौष्टिक एवं रुचिकर बनाया जाना चाहिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस विभाग में डेढ़ लाख युवाओं को भर्ती किया गया है। इसमें पुलिस उपाधीक्षक, उपनिरीक्षक, सिपाही आदि सम्मिलित हैं। पुलिस भर्ती में महिलाओं को प्राथमिकता दी गई है। पूर्ववर्ती सरकार द्वारा खत्म कर दी गई 54 पीएसी कम्पनियों के साथ ही, 03 नई महिला पीएसी बटालियन का गठन किया गया है। एसडीआरएफ का गठन करने के साथ ही, एसटीएफ का सुदृढ़ीकरण किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा विभाग में निष्पक्ष, पारदर्शी एवं समयबद्ध चयन प्रक्रिया के माध्यम से लगभग डेढ़ लाख भर्तियां की गई हैं। बेसिक शिक्षा विभाग में 01 लाख 20 हजार से अधिक भर्तियां की गईं। साथ ही, माध्यमिक, उच्च, प्राविधिक तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग में भी भर्तियां की गईं हैं। इसके अलावा जल शक्ति विभाग, लोक निर्माण विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, नगर विकास विभाग, पंचायतीराज विभाग सहित विभिन्न विभागों में बड़ी संख्या में युवाओं का चयन कर नियुक्ति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि नियुक्ति में आरक्षण के नियमों का पालन के साथ ही, आर्थिक रूप से निर्बल वर्ग के लोगों को भी 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ सुलभ कराया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश विकास की व्यापक सम्भावनाओं वाला प्रदेश है। यहां सभी संसाधन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं। वर्तमान राज्य सरकार ने समन्वित प्रयासों से एक नई पहचान स्थापित की है। प्रयागराज कुम्भ - 2019 के स्वच्छ, सुरक्षित व सुव्यवस्थित आयोजन तथा प्रभावी कोरोना प्रबन्धन के माध्यम से प्रदेश ने अपनी क्षमता प्रदर्शित की है। राज्य सरकार के प्रयासों से विभिन्न रैंकिंग्स में वर्तमान में प्रदेश, देश में अग्रणी है। वर्ष 2016 में ‘ईज ऑफ डूईंग बिजनेस’ में देश में प्रदेश की रैंकिंग 14वीं थी। विगत 04 वर्ष में इस रैंकिंग में प्रदेश दूसरे स्थान पर आ गया है। पिछले 04 साल में प्रदेश की अर्थव्यवस्था देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेसिक शिक्षा विभाग में भी विगत 04 वर्षों में व्यापक सकारात्मक परिवर्तन हुआ है। सामूहिक प्रयास और सम्मिलित योगदान से यह कार्य हुआ है। उन्होंने कहा कि मानव सम्पदा पोर्टल में शिक्षकों को स्कूल जाने के लिए प्रेरित किया है। शिक्षकों द्वारा जवाबदेही से शिक्षण कार्य किये जाने के परिणाम सामने आ रहे हैं। कोरोना के बावजूद 04 वर्ष में लगभग 54 लाख विद्यार्थी परिषदीय स्कूलों में बढ़े हैं। ऑपरेशन कायाकल्प के माध्यम से परिषदीय विद्यालयों अवस्थापना सुविधाओं को उच्चीकृत किया गया है। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ सतीश चन्द्र द्विवेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश को देश ही नहीं विश्व पटल पर स्थापित किया है। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में 04 वर्ष में 04 लाख युवाओं को सरकारी नौकरियों में नियोजित किया गया है। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में गांव, गरीब, किसान के बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुलभ कराने का कार्य किया जा रहा है। बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में सभी आधुनिक व्यवस्थाओं को शामिल किया गया है। मार्च, 2022 तक सभी प्राथमिक विद्यालयों का कायाकल्प कर लिया जायेगा। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये अपर मुख्य सचिव वाणिज्यकर एवं बेसिक शिक्षा  संजीव मित्तल ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में विगत 04 वर्षों में प्राथमिक परिषदीय विद्यालयों में 01 लाख 20 हजार अध्यापकों की नियुक्ति हुई है। इससे बेसिक शिक्षा में अभूतपूर्व सुधार हुआ है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, सचिव बेसिक शिक्षा रणवीर प्रसाद, निदेशक सूचना शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं नव चयनित खण्ड शिक्षा अधिकारी उपस्थित थे।

Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद