एल -2 स्तर का होगा चाचा नेहरू अस्पताल, 24 घंटे चलेगी ओ.पी.डी.

 > बच्चों के लिए ओ.पी.डी. दिन और रात को तुरन्त चालू कराने की तैयारी।

> महापौर प्रमिला पांडेय ने नगर आयुक्त, यशवन्त कुमार राव, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. दीपक श्रीवास्तव और नगर स्वास्थ्य अधिकारी (चिकित्सा) डाॅ. अमित सिंह के साथ बैठक की।

दैनिक कानपुर उजाला
कानपुर।
 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद नगर निगम अमला 24 साल से बंद चाचा नेहरू अस्पताल कोपरगंज को चालू करने में जुट गया है। बच्चों के लिए पहले पचास बेड का अस्पताल चालू किया जाएगा जिसमें दिन और रात को क्रियाशील ओ.पी.डी. को तुरन्त चालू कराने की तैयारी की जा रही है। महापौर प्रमिला पांडेय ने कोविड की समीक्षा करने शनिवार को आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने चाचा नेहरू अस्पताल चालू कराने की बात रखी थी। मुख्यमंत्री ने अफसरों को आदेश दिए कि तुरन्त अस्पताल चालू कराया जाए। व्यवस्थाएं 15 दिन में पूरी कर ली जाएं। इसके तहत महापौर प्रमिला पांडेय ने नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी के साथ नगर निगम मुख्यालय में बैठक की। बैठक में बाल रोग विशेषज्ञ हैलट अस्पताल डॉ. यशवन्त कुमार राव, बाल रोग विशेषज्ञ गुरु तेग बहादुर अस्पताल के डॉ. दीपक श्रीवास्तव और नगर स्वास्थ्य अधिकारी (चिकित्सा) डाॅ. अमित सिंह भी मौजूद रहे। नगर आयुक्त ने डॉ. यशवंत कुमार राव से कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए चाचा नेहरू अस्पताल में बच्चों के लिए 50 बेड के अस्पताल में डॉक्टर, नर्स, वार्ड ब्वाय, किचेन, पीडियाट्रिक आई.सी.यू., ऑक्सीजन के साथ आईसोलेशन बेड इत्यादि जैसा प्राईवेट अस्तालों में होता है, के सम्बन्ध में योजना तैयार कर उपलब्ध करायें। इसमें 20 बेड आई.सी.यू. और 30 बेड ऑक्सीजनयुक्त होंगे। डॉ. राव ने कहा जो भी योजना बनेगी वह एल - 2 की आवश्यकता के अनुसार बनायी जायेगी। साथ ही नगर आयुक्त ने कहा कि चाचा नेहरू अस्पताल तत्काल प्रारम्भ कराये जाने के सम्बन्ध में मैनपावर की भी जानकारी दें ताकि बच्चों के लिए दिन और रात में ओ.पी.डी. शुरू की जा सके। बैठक में महापौर ने कहा कि चाचा नेहरू अस्पताल के पूरे परिसर की रंगाई - पुताई करायी जाए। नगर आयुक्त ने आदेश दिए कि अभियंत्रण विभाग द्वारा मरम्मत और रंगाई - पुताई के दृष्टिगत सोमवार निरीक्षण कर एस्टीमेट तैयार करके कार्य शुरू कराया जाए।

अस्पताल परिसर से खाली होंगे कब्जे

नगर आयुक्त ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी (चिकित्सा) को आदेश दिए कि अस्पताल परिसर से कब्जे हटाए जाएं। इसके अलावा जो कर्मी रह रहे हैं उनसे कमरे तुरन्त खाली कराए जाएं।

नगर निगम का स्टोर रूम भी
अस्पताल में नगर निगम के पंचशाला का भी स्टोर रूम है। यहां पर मकानों की कुंडली रखी है। पहले नगर निगम में था बाद में चाचा नेहरू अस्पताल शिफ्ट कर दिया गया।

Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद