मेडिकल काॅलेज के संचालन में मण्डल के सभी जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों का भरपूर सहयोग प्राप्त हुआ

 राजकीय एलोपैथिक मेडिकल काॅलेज, बांदा में बेड्स बढ़ाकर 700 बेड तक पहुंचाने के प्रयास किये जायें : मुख्यमंत्री


कार्यक्रम एक नजर में -
>> मुख्यमंत्री ने जनपद बांदा का भ्रमण किया।
>> मुख्यमंत्री ने चित्रकूटधाम मण्डल के कोविड प्रबन्ध की समीक्षा की।
>> मुख्यमंत्री ने समीक्षा के दौरान मण्डल के महोबा, हमीरपुर, चित्रकूट जनपदों के जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वार्ता की।
>> मुख्यमंत्री को चित्रकूट धाम मंडल आयुक्त ने मण्डल की स्थिति से अवगत कराया।
>> मुख्यमंत्री ने मेडिकल काॅलेज प्राचार्य से संस्थान के संचालन के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की।
>> मुख्यमंत्री ने जनपद बांदा के इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर का निरीक्षण किया।
>> मुख्यमंत्री ने बड़ोखर खुर्द गांव में निगरानी समितियों के कार्यों की समीक्षा की।

मुख्य निर्देश -
> निगरानी समितियों को गांव - गांव भेजकर लक्षणयुक्त व्यक्तियों का चिन्हीकरण कराया जाए : मुख्यमंत्री

> आबादी के हिसाब से कोविड के अधिक से अधिक टेस्ट की क्षमता बढ़ायी जाए : मुख्यमंत्री

> सी.एच.सी., पी.एच.सी. एवं वेलनेस सेण्टर आदि में यदि कहीं टेक्नीशियन नहीं हैं तो पैरामेडिक्स की ट्रेनिंग कराकर तैनाती करायी जाए : मुख्यमंत्री

> राज्य सरकार हर उस अन्तिम व्यक्ति तक पहुंच रही है, जो अस्पताल आने में असमर्थ है : मुख्यमंत्री

> वैक्सीनेशन के लिए भी व्यापक अभियान चलाया जाए : मुख्यमंत्री

जिलाधिकारियों को निर्देश
 -
> एम्बुलेंस सेवा 102 एवं 108 को हर जनपद में क्रियाशील रखने के निर्देश
> प्रत्येक जनपद में कोविड अस्पताल होना चाहिए
> डेंगू, मलेरिया, चिंकनगुनिया, हैजा आदि बीमारियां न पनपने पायें
> जो निर्माण कार्य संचालित हैं उनमें तेजी लायी जाए
> संक्रमण संदिग्ध लोगों / मरीजों को मेडिसन किट अगले सप्ताह तक अभियान चलाकर उपलब्ध कराने के निर्देश

अपने अपने क्षेत्र के वैक्सीन सेण्टर इत्यादि का निरीक्षण करें जनप्रतिनिधि
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 23 मई, 2021 को जनपद बांदा में चित्रकूटधाम मण्डल के अन्य जनपदों के जिलाधिकारियों तथा अन्य अधिकारियों से वी.सी. के माध्यम से कोविड-19 की रोकथाम हेतु किये जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 23 मई, 2021 को जनपद बांदा में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेन्टर का निरीक्षण करते हुए।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 23 मई, 2021 को जनपद बांदा के बड़ोखर खुर्द गांव में निगरानी समितियों के कार्याें की समीक्षा करते हुए।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 23 मई, 2021 को जनपद बांदा के बड़ोखर खुर्द गांव में निगरानी समितियों के कार्याें की समीक्षा के दौरान।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एक - एक सी.एच.सी. एवं पी.एच.सी. को गोद लेकर उसकी देखरेख कर उन्हें माॅडल के रूप में विकसित करें जनप्रतिनिधि।
दैनिक कानपुर उजाला
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने रविवार 23 मई को जनपद बांदा भ्रमण के दौरान सर्वप्रथम बड़ोखर खुर्द गांव पहुंचकर वहां के प्राथमिक विद्यालय में निगरानी समितियों के द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए कोविड नियंत्रण हेतु दिशा निर्देश दिये। उन्होंने उपस्थित आशा कर्मी से जानकारी भी प्राप्त की। इसके उपरान्त उन्होंने राजकीय एलोपैथिक मेडिकल काॅलेज, बांदा पहुंचकर जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के साथ वहां संचालित कोरोना प्रबन्धन, बचाव एवं उपचार कार्यों की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने चित्रकूटधाम मण्डल के अन्य जनपदों के जिलाधिकारियों तथा अन्य अधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 की रोकथाम हेतु किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री को मण्डलायुक्त ने मण्डल की स्थिति से अवगत कराते हुए कहा कि पूरे मण्डल में निगरानी समितियां सक्रिय होकर कार्य कर रही हैं। ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश समय - समय पर दिये जाते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए बताया कि मण्डल में ऑक्सीजन प्लाण्ट भी स्थापित किये जा रहे हैं, जिससे आने वाले समय में ऑक्सीजन की किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं आयेगी। इसके साथ ही, कोविड वैक्सीनेशन का कार्य भी आगे बढ़ रहा है। मण्डल के प्रत्येक ग्राम पंचायत में सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात किये गये हैं, जिनका कार्य लक्षणयुक्त मरीजों को मेडिकल किट उपलब्ध करवाना और अपने - अपने क्षेत्रों में भ्रमण कर टीकाकरण हेतु प्रेरित करना एवं कोविड-19 के प्रति जागरुक करना है। मुख्यमंत्री ने समीक्षा के दौरान मण्डल के महोबा, हमीरपुर, चित्रकूट जनपदों के जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वार्ता करते हुए निर्देशित किया कि आबादी के हिसाब से कोविड के अधिक से अधिक टेस्ट की क्षमता बढ़ायी जाए एवं निगरानी समितियों को गांव - गांव भेजकर लक्षणयुक्त व्यक्तियों का चिन्हीकरण कर एन्टीजन टेस्ट कर तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने जनपद बांदा में कोविड संक्रमण की रोकथाम तथा उपचार के लिए किये जा रहे कार्याें के सम्बन्ध में जिलाधिकारी से जानकारी प्राप्त की। जिलाधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि जनपद में 469 ग्रामीण एवं 121 शहरी निगरानी समितियों को सक्रिय कर दिया गया है। सभी टीमों के पास पल्स आॅक्सीमीटर एवं थर्मामीटर मौजूद हैं। बाहर से आने वाले सभी व्यक्तियों की स्क्रीनिंग हेतु मेडिकल उपकरण उपलब्ध हैं। जनपद में तीन आॅक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने मण्डल के चारों जनपदों के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों से मेडिकल स्टाफ एवं सी.एच.सी., पी.एच.सी. एवं वेलनेस सेण्टर आदि के विषय में जानकारी प्राप्त की और निर्देशित किया कि यदि कहीं टेक्नीशियन नहीं हैं तो पैरामेडिक्स की ट्रेनिंग कराकर तैनाती करायी जाए। उन्होंने कहा कि समस्त जनपदों में वेन्टीलेटर को क्रियाशील रखा जाए, जिससे मरीजों को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े। मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों से संवाद कर कोरोना की दूसरी लहर के दरमियान सामने आयी कमियों एवं तीसरी लहर से निपटने पर चर्चा की। उन्होंने  जनप्रतिनिधियों से अनुरोध किया कि वे अपने - अपने क्षेत्र के इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर, वैक्सीन सेण्टर इत्यादि का निरीक्षण करें। यदि कोई कमियां हों तो जनपद के अधिकारियों को अवगत करायें तथा वहां की स्थिति को सुदृढ़ करायें। प्रदेश सरकार कोरोना संक्रमण से सभी को बचाने के लिए कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। लक्षण युक्त मरीजों की स्थिति में तेजी से सुधार हुआ है, फिर भी हमें हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना होगा। निगरानी समितियां अधिक से अधिक गांवों का भ्रमण कर लक्षणयुक्त तथा संक्रमण संदिग्ध लोगों को मेडिकल किट उपलब्ध करायें। राज्य सरकार हर उस अन्तिम व्यक्ति तक पहुंच रही है, जो अस्पताल आने में असमर्थ है। मुख्यमंत्री ने मण्डल के समस्त जनप्रतिनिधियों से अपेक्षा की कि वे अपने - अपने क्षेत्रों में एक - एक सी.एच.सी. एवं पी.एच.सी. को गोद लेकर उसकी देख - रेख कर उन्हें माॅडल के रूप में विकसित करें। उन्होंने कहा कि लक्षणयुक्त तथा संक्रमण संदिग्ध लोगों / मरीजों को मेडिसन किट अगले सप्ताह तक अभियान चलाकर उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए। साथ ही, वैक्सीनेशन के लिए भी व्यापक अभियान चलाया जाए, क्योंकि यह संक्रमण के खिलाफ कवच का कार्य करेगा। उन्होंने एम्बुलेंस सेवा 102 एवं 108 को हर जनपद में क्रियाशील रखने के निर्देश दिए। प्रत्येक जनपद में कोविड अस्पताल होना चाहिए। वर्षा ऋतु को दृष्टिगत रखते हुए मण्डल के समस्त जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि डेंगू, मलेरिया, चिंकनगुनिया, हैजा आदि बीमारियां न पनपने पायें। इसके लिए अभी से सारी व्यवस्थायें कर ली जायें। जगह - जगह सेनेटाइजेशन कराया जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि प्रत्येक जनपद में कम्युनिटी किचन संचालित होने चाहिए, जिससे असहाय एवं गरीब व्यक्तियों को भोजन प्राप्त हो सकेगा। उन्होंने कहा कि 01 जून, 2021 से प्रदेश के सभी जनपदों में 18 से 44 आयुवर्ग के लोगों को वैक्सीन लगाने की तैयारी की जाए। वैक्सीनेशन सेण्टर्स पर कोई अव्यवस्था न होने पाये। वैक्सीन की वेस्टेज कदापि न होने पाए। जो निर्माण कार्य संचालित हैं उनमें तेजी लायी जाए। मुख्यमंत्री ने मेडिकल काॅलेज प्राचार्य से संस्थान के संचालन के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्हें अवगत कराया गया कि मेडिकल काॅलेज के संचालन में मण्डल के सभी जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों का भरपूर सहयोग प्राप्त हुआ है। मेडिकल काॅलेज की 400 बेड की क्षमता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसे बढ़ाकर 700 बेड तक पहुंचाने के प्रयास किये जायें। उन्होंने कहा कि गांव-गांव में कोविड सेण्टर बनेगा। वैक्सीन एक बड़ा सुरक्षा कवच है इसलिए सभी लोग इसे अवश्य लगवायें। मीडिया कर्मियों का सेण्टर अलग से बनाया जाए और वैक्सीनेशन किया जाए। मुख्यमंत्री जी की समीक्षा बैठक में लोक निर्माण राज्यमंत्री चन्द्रिका प्रसाद उपाध्याय सहित सांसद, विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।


















Popular posts from this blog

गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना का डीपीआर  तैयार : सीईओ, यूपीडा 

उ प्र सहकारी संग्रह निधि और अमीन तथा अन्य कर्मचारी सेवा (चतुर्थ संशोधन) नियमावली, 2020 प्रख्यापित

जनपद के समस्त विद्यालय कार्य योजना बनाकर जीपीडीपी में अपलोड करते हुए डिमांड भेजें: विजय किरन आनंद