सहारनपुर के कोरोना पीड़ित निजी अस्पतालों में जाने का मजबूर

 दैनिक कानपुर उजाला 

सहारनपुर।  उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में सरकारी मैडीकल कॉलेज में स्वास्थ्य सेवाएं उच्चकोटि की न होने के कारण इस कोरोना काल में परिजन अपने रोगी के इलाज के लिए लुधियाना, चण्डीगढ़, यमुनानगर देहरादून आदि अस्पतालों में करवाने के लिए मजबूर है।
भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल दिल्ली के उपाध्यक्ष शीतल टंडन ने बताया कि 15 साल पूर्व बने सहारनपुर के मेडीकल कालेज में चिकित्सा की उच्चकोटि की मूल भूत सुविधाएँ न होने के कारण इस कोरोना काल में अपने इलाज के लिए प्राईवेट हास्पिटल में इलाज कराने के लिए दूसरे शहरों में जाने के लिए विवश है जबकि यहां बने मेडीकल कालेज में 300 बेड की व्यवस्था होने के बावजूद 150 खाली पडे रहते है।
हास्पिटल होने के बावजूद यहा लोग अपना इलाज नही करवाना चाहते । लोगों में अविश्वास की भावना है कि यदि वे यहा बने सरकारी अस्पताल में इलाज करायेगे तो उनका इलाज ठीक से नही होगा।

Popular posts from this blog

माध्यमिक विद्यालयों को प्रान्तीयकृत किये जाने के सम्बन्ध में नीति निर्धारण

कोतवाली में मादा बंदर ने जन्मा बच्चा

रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रखा जाए : मुख्यमंत्री