जब बीमार बच्चों को देख भावुक हुए योगी

 दैनिक कानपुर उजाला
गोरखपुर।
योगी आदित्यनाथ गोरखपुर में बीमार बच्चों को देख कर भावुक हुए। संभव है कि लोग इस भावुकता का भी मजाक बनाने लगें। इस संदर्भ में कुछ वर्ष पहले लौटना होगा। तब देश में यूपीए की सरकार थी। योगी आदित्यनाथ सांसद थे। उन्होंने चालीस वर्षो से चल रही पूर्वांचल की इंसेफेलाइटिस समस्या को उठाया था। तब उनकी आंखों में आंसू आ गए थे। शायद इन आंसुओं का ही असर था कि मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने इस समस्या को बड़ी हद तक समाप्त कर दिया है। गोरखपुर में योगी आदित्यनाथ स्वास्थ्य सुविधाओं का निरीक्षण कर रहे थे। वह इंसेफेलाइटिस के आई.सी.यू. वार्ड में गए। यहां इक्कीस बच्चों का इलाज चल रहा है। योगी इन्हें देखकर भावुक हो गए। करीब एक मिनट तक दोनों मासूमों को एक टक निहारते रहे। डॉक्टर और स्टाफ कर्मियों को निर्देशित किया आई.सी.यू. में बच्चों का विशेष ध्यान रखा जाए। इनका इलाज बेहद सावधानी और गंभीरता से होना चाहिए। उन्होंने एम्स में 100 बेड के पोस्ट कोविड वार्ड तथा 200 बेड एल - 2 कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को इलाज में कोई परेशानी ना हो इसके लिए सरकार संसाधनों की व्यवस्था कर रही है। निर्माणाधीन कोविड और पोस्ट कोविड अस्पताल या वार्ड का निर्माण तेजी से पूरा किया जाएगा। तैयारियों में किसी भी स्तर पर कमी या लापरवाही अक्षम्य होगी।

Popular posts from this blog

कोतवाली में मादा बंदर ने जन्मा बच्चा

माध्यमिक विद्यालयों को प्रान्तीयकृत किये जाने के सम्बन्ध में नीति निर्धारण

रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रखा जाए : मुख्यमंत्री